रिलेशनशिप को जज नहीं करना चाहिये : कृति सेनन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 7 मार्च 2019

रिलेशनशिप को जज नहीं करना चाहिये : कृति सेनन

relationships-should-not-be-judged-kiriti-sainan
मुंबई 07 मार्च, बॉलीवुड अभिनेत्री कृति सेनन का कहना है कि रिलेशनशिप को जज नहीं किया जाना चाहिये। कृति सेनन और कार्तिक आर्यन की जोड़ी वाली फिल्म 'लुका छिपी' हाल ही में प्रदर्शित हुयी है। यह फिल्म लिव इन रिलेशनशिप और पारिवारिक संबंधों पर आधारित हैं।  कृति ने कहा , “मुझे लगता है कि लिव इन रिलेशनशिप को जज नहीं करना चाहिए। जो इंसान एक दूसरे के साथ हैं और एक दूसरे से प्यार करते हैं, एक दूसरे के साथ वक्त बिताना चाहते हैं, हो सकता है कि वह अपनी शादी को लेकर सुनिश्चित न हों। हम सभी एक बार ही शादी करना चाहते हैं, तो हम चाहते हैं कि हम पूरी तरह सुनिश्चित रहें कि हम जिस इंसान के साथ जिंदगी बिताने जा रहे हैं, वह सही है। यदि कपल्स को लिव इन रिलेशनशिप में जाकर लगता है कि इससे उन्हें यह साफ हो पाएगा कि यही वह इंसान है या नहीं, तो उन्हें जरूर लिव इन रिलेशनशिप में जाना चाहिए। मुझे नहीं लगता कि इसमें किसी को जज करने की जरूरत है। जिन दो लोगों के बीच रिलेशन है, वह उन दोनों पर ही निर्भर होना चाहिए।” कृति ने कहा , “आपकी जिंदगी की गारंटी कोई पड़ोसी या रिश्तेदार तो नहीं ले सकता न। इस मामले में आपको अपने दिल की आवाज ही सुननी चाहिए। हां, हम लोग कभी-कभी प्यार में सोचना भूल जाते हैं कि हम सही डिसीजन ले रहे हैं या नहीं। क्योंकि शादी जैसा फैसला आपकी पूरी जिंदगी के लिए है, तो वह सोच समझकर और जांच-परखकर होना चाहिए। लेकिन प्यार में होना कोई बुरी बात नहीं है। सबसे पहले तो अपनी फैमिली को यह समझाने की कोशिश करनी चाहिए कि यदि आगे जाकर आपकी लाइफ खराब होती है, तो आप उन्हें नहीं दोष देना चाहते हैं। आपके पैरंट्स भी इस चीज की गारंटी नहीं ले सकते हैं कि अरेंज मैरिज होगी, तो उसमें आप खुश ही रहोगे। उसमें भी कई तलाक होते हैं। उसमें भी बाद में कई बार लड़का सही नहीं निकलता। तो यह जिंदगी का सबसे महत्वपूर्ण फैसला है, उसमें ऐसा कोई रूल-रेगुलेशन नहीं होना चाहिए। हां लेकिन आपकी खुशी सबसे ज्यादा जरूरी है और उसको प्राथमिकता पर रखना जरूरी है।”

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...