विश्व गौरैया दिवस पर चलो आज कुछ अच्छा करते हैं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 20 मार्च 2019

विश्व गौरैया दिवस पर चलो आज कुछ अच्छा करते हैं

save-goraiya
भारत से विलुप्त हो रही पक्षियों की सबसे सुंदर प्रजाति गौरैया के संरक्षण के लिए आज विश्व गौरैया दिवस पर चलो आज कुच अच्छा करते है ग्रुप के सदस्यों ने विदिशा सिटी को गौरैया सिटी बनाने के संकल्प के साथ मुहिम की शुरुआत की ग्रुप द्वारा माधव गंज क्षेत्र से गौरैया के घोसले का निशुल्क वितरण शुरू कर मेन मार्केट से होते हुए सभी व्यापारियों को यह घोसला इस संकल्प के साथ दिया कि वह अपने घर में सुरक्षित इसको लगाएंगे एवं पक्षियों के लिए दाना पानी की व्यवस्था करेंगे... घोसले वितरण के समय राह चलते कई छोटे-छोटे बच्चों ने भी इस घोसले को अपने घर लगाने की बात कही एवं ग्रुप द्वारा उन सभी बच्चों को एवं इच्छुक राहगीरों को भी निशुल्क घोसले का वितरण किया गया... चलो आज कुछ अच्छा करते हैं ग्रुप की इस मुहिम में विदिशा के कई सामाजिक संगठन साथ आए साथ चले जिसमें प्रमुख रूप से रोटरी क्लब लायंस क्लब हिंदुस्तान युवा संगठन वंदे मातरम युवा संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद युवा ब्राह्मण विकास परिषद कच्ची जैन समाज के प्रतिनिधि भी इस मुहिम में घोसला वितरण करने में साथ में आए... ग्रुप के अभिषेक शर्मा ने बताया कि हम विदिशा को गौरैया शहर के नाम से प्रख्यात करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे और इस मुहिम को लक्ष्य के रूप में लेकर प्रतिदिन नई नई गतिविधियां कर लोगों को गौरैया पक्षी के लिए घोसला रखने के लिए जागरूक करते रहेंगे इसके बाद हम रहवासी इलाकों में जाकर निशुल्क हौसलों का वितरण करेंगे एवं जब तक पूरा शहर प्रत्येक घर में गौरैया पक्षी के लिए घोंसले नहीं लग जाते तब तक यह मुहिम जारी रहेगी.. खासकर गर्मियों के दिनों में जब झुलस रही चिड़िया को अगर घर मिल जाए तो उसको नया जीवनदान मिल जाता है अगर कुछ ही गौरैया ओं को हम नया जीवन दे सके तो इससे बड़ा कार्य हमारे ग्रुप द्वारा आज तक नहीं किया गया होगा... बेजुबान पक्षी अपनी भावनाओं को व्यक्त नहीं कर सकते हैं हम सिर्फ उनके लिए कुछ और ना कर सिर्फ रहने के लिए घरौंदा ही तैयार कर उसकी देखभाल करें ऐसी मेरे सभी विदिशा वासियों से अपील है

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...