आईएस के ‘खिलाफत’ में पले-बढ़े बच्चों से अनुचित व्यवहार न करें : यूनिसेफ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 12 मार्च 2019

आईएस के ‘खिलाफत’ में पले-बढ़े बच्चों से अनुचित व्यवहार न करें : यूनिसेफ

student-who-studied-in-is-ned-good-behaviour-unicef
बेरूत, 12 मार्च, संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) ने सोमवार को कहा कि इस्लामिक स्टेट समूह के “खिलाफत’’ में पले-बढ़े बच्चों को आतंकवादी नहीं माना जाना चाहिए। एजेंसी के पश्चिम एशिया क्षेत्र के निदेशक ने कहा कि पूर्वोत्तर सीरिया में आईएस के आखिरी गढ़ से हाल ही में भागे जिहादी परिवारों के बच्चों के भविष्य को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।  गीर्त कपिलेयर ने बेरूत में संवाददाता सम्मेलन में कहा, “ऐसे बच्चों की जरूरत नहीं, यह संदेश हर रोज मजबूत होता जा रहा है।”  यूनिसेफ के मुताबिक अल-होल शिविर में फिलहाल अनुमान के मुताबिक करीब 3,000 बच्चे रह रहे हैं। हाल के हफ्तों में आईएस के “खिलाफत” की जकड़ से निकल भागे ज्यादातर लोग इसी शिविर में रह रहे हैं।  ये लोग कम से कम 43 देशों से हैं। इनमें से ज्यादातर देश उनकी संभावित देश वापसी की समस्या को सुलझाने को लेकर अनिच्छुक हैं।  कपिलेयर ने बच्चों के गाने की एक सीडी के लॉन्च पर उन्होंने कहा, “यह ऐसी समस्या है जिसे ठंडे बस्ते में नहीं डाला जा सकता।”  यह सीडी सीरियाई गृहयुद्ध की आठवीं बरसी के समय लॉन्च की गई है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...