पूर्णिया : महिलाएं आज सशक्त होकर विश्व में विकास का रास्ता दिखा रही हैं : डॉ पारसनाथ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 8 मार्च 2019

पूर्णिया : महिलाएं आज सशक्त होकर विश्व में विकास का रास्ता दिखा रही हैं : डॉ पारसनाथ

women-empowerment-purnia
पूर्णिया : भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय पूर्णिया की राष्ट्रीय सेवा इकाई योजना इकाई के प्रभारी डाॅ पंकज कुमार यादव की देखरेख में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ पारसनाथ ने की। प्राचार्य ने बताया कि आज का दिवस महिलाओं की आर्थिक, राजनीतिक, शैक्षणिक और सामाजिक उपलब्धियों का उत्सव मनाने का दिन है। प्रत्येक वर्ष अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के लिए एक थीम निश्चित की जाती है। वर्ष 2019 का थीम है (बैलेेंस फाॅर बेटर)। इस दिवस विशेष पर उन महिलाओं के उत्कृष्ठ पलों को याद किया जाता है जिन्होंने देश, समाज के लिए अच्छे कार्य किए हैं और उनसे प्रेरणा लेने की आवश्यकता है। प्राचार्य नेे बताया कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा 08 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के रूप आयोजित करने का निर्णय लिया गया। उन्होंने कहा यदि हमलोग प्राचीन भारत की बात करें तो लंबे समय से मानव पूंजी की पोषक तथा परिवार की पालनहार और पर्दा प्रथा एवं अन्य सामाजिक बन्धनों की संवाहक का पर्याय मानी जाने वाली महिलाएं आज न केवल राजनीति, शिक्षा, कला, अंतरिक्ष, रक्षा, सुरक्षा, क्षेत्रों के दायरों में अपनी विशिष्ट पहचान बनाने में कामयाब हो रही हैं। बल्कि आज महिलाएं विभिन्न क्षेत्रों में नवाचार एवं चुनौतीपूर्ण कार्यों के साथ साथ उच्च प्रबंकीय स्तरों एवं मुख्य कार्यकारी पदों पर कुशलतापूर्वक अपने कर्तव्य का निर्वहन कर रही हैं। महिला वैज्ञानिक सुमन कल्याणी ने कहा कि सरकार द्वारा महिलाओं को उद्यमिता के लिए किए जा रहे प्रयास में प्रमुख योजनाएं मसलन अन्नपूर्णा योजना, स्त्री शक्ति पैकेज योजना, भारतीय महिला बैंक व्यवसाय ऋण, उद्योगिनी योजना, देना शक्ति योजना, सेंट कल्याणी योजना, ओरिएंटल महिला विकास योजना, महिला उद्यम निधि योजना के साथ साथ मुद्रा योजना चलाई जा रही है। जिसके माध्यम से महिलाओं को सशक्त कर समाज में इनकी भूमिका को निश्चित करके, असमानता को समाप्त किया जाय और इनको समान अधिकार प्राप्त हो। डाॅ रुबी साहा ने बताया कि यदि हम उद्यम के क्षेत्र में महिलाओं की बात करँ तो उनके बढ़ते कदम को नाकारा नहीं जा सकता है। इस अवसर पर कृषि शिक्षा में महिलाओं की भूमिका...विषय पर भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस विषय पर छात्राओं में अंकिता कुमारी, श्रृंजल सुमन, मीनाक्षी दास, मनीषा तेजस्वी, सोनम वैष्णवी एवं छात्र मयंक कुमार सिन्हा ने अपने अपने विचार व्यक्त किए। इस कार्यक्रम में छात्राओं को एनएसएस का प्रमाण पत्र भी प्राचार्य द्वारा प्रदान किया गया। कार्यक्रम का संचालन स्नातक तृतीय वर्ष की छात्रा राजनंदनी तथा धन्यवाद ज्ञापन डाॅ जेएन श्रीवास्तव ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...