दामोह : अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर आजीविका पर चर्चा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 8 मार्च 2019

दामोह : अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर आजीविका पर चर्चा

seminar-on-women-day
दमोह। मानव जीवन विकास समिति कटनी , दमोह की ओर से भारत रूरल लाइवलीहुङ फाउंडेशन ब्लाक तेदूखेङा के ग्राम रिचकुढी में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया।  इस ब्लॉक के समन्वयक  घनश्याम प्रसाद रायकवार ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस क्यों मनाया जाता है इसके बारे में जानकारी दी और कहा कि 1910 से लेकर अनेक देशों में अनेक तारीखों में मनाया जाता रहा है लेकिन 1917 में प्रथम विश्व युद्ध के अंत मांग रखी,रोटी ओर शांति, रशियन खाद्य सुरक्षा की कमी के साथ तभी से 08 मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता आ रहा है आप लोग आज अपने त्योहार को मना रही है।  नंदनी गौङ ने कहा कि आज सभी महिलाएं शपथ ले कि अपने परिवार के पालन-पोषण में परिवार के साथ कंधे से कंधा मिला कर आजीविका खड़ी करे गांव में कृषि आधारित/गैर कृषि आधारित छोटे समूह तैयार कर सरकार की योजनाओं से जुडकर लाभ प्राप्त करें। छोटे छोटे धंधों के माध्यम से बरी,पापड़,अगर बत्ती, दोना,पत्तल,वन उपज संकलन,के माध्यम से । हरवेशसीगं गौड़ ने कहा कि आज सभी महिलाएं  वन भूमि पर काविज है कुछ लोगों को अधिकार पत्र प्राप्त हो गये हैं उस भूमि पर रचनात्मक कार्यक्रमों के माध्यम से आय बढ़ाएं जा सकती हैं जिससे गांव में ही आजीविका खड़ी हो,पलायन रुके हमारे बाल बच्चे शिक्षित हो कार्यक्रम में धनारानी,अर्चना, नेहा, सोमती, सीतारानी, आशारानी, राजप्यारी,वर्षा, रानू, आनंद रानी,प्रेम रानी,शांति, लक्ष्मी, अंजना, सीमा, सबिता, क्रांति, माया,रश्मि, चन्द्र रानी,ग्यानबाई,गोमती बाई,नंदनी गौङ,नन्हे बाई,इत्यादि महिलाओं ने कार्यक्रम में भाग लिया ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...