पूर्णिया : बेहोशी हालत में महिला मिली मक्के के खेत में - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 28 मार्च 2019

पूर्णिया : बेहोशी हालत में महिला मिली मक्के के खेत में

 एंबुलेंस चालक ने अस्पताल पहुंचाकर बचाई जान
women-found-purnia
पूर्णिया : जलालगढ़ थाना क्षेत्र के एनएच के पास मक्के के खेत में गुरूवार को एक महिला बेहोशी की हालत मिलने से क्षेत्र में अफरा तफरी मच गई। महिला को किसी ने जलालगढ़ अस्पताल पहुंचाया। जहां बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया। वहीं एंबुलेंस चालक गोपाल कुमार रजक ने महिला को एंबुलेंस पर बैठा कर सदर अस्पताल पहुंचाया। जहां इलाज चल रहा है। महिला कुछ देर के बाद होश में आई तो उसने अपना नाम सुनिता पति विश्वनाथ और पता कटिहार जिला के पोठिया निवासी बताई। उसके बाद महिला फिर बेहोश हो गई। अस्पताल के चिकित्सक ने बताया कि महिला जहर खाने से बेहोश हो गई है लेकिन उपचार के बाद अब वह खतरे से बाहर है। साथ ही चिकित्सक ने महिला के साथ दुष्कर्म होने की भी अाशंका जताई है। चिकित्सक ने बताया कि महिला की मेडिकल जांच होने के बाद ही असलियत का पता चल पाएगा। वहीं पुलिस ने महिला के साथ से एक मोबाइल भी बरामद किया है। पुलिस मोबाइल से काॅल डिटेल खंगाल रही है। वहीं सुनिता के साथ यह सब कैसे हुआ यह होश आने के बाद ही पता चल पाएगा।

...एंबुलेंस चालक ने बचाई महिला की जान :
women-found-purnia
यदि एंबुलेंस चालक गोपाल समय पर नहीं पहुंचता और सुनिता को सदर अस्पताल नहीं पहुंचाता तो शायद सुनिता नहीं बच पाती। गोपाल ने बताया कि वह जलालगढ़ में था। तभी किसी ने एक महिला सड़क किनारे मिलने की सूचना दी। गोपाल तत्काल घटनास्थल के लिए रवाना हो गया। वहां पहुंचने के बाद पता चला कि महिला को किसी ने जलालगढ़ अस्पताल पहुंचा दिया है। गोपाल अस्पताल पहुंचा तो रेफर होने की जानकारी मिली और गाेपाल ने मरीज को एंबुलेंस पर बैठा कर सदर अस्पताल पहुंचाया। जहां इलाज के बाद वह खतरे से बाहर है। अस्पताल के चिकित्सक ने बताया कि यदि सुनिता को समय पर अस्पताल नहीं पहुंचाता तो शायद उसे बचाना मुश्किल हो जाता। वहीं गोपाल के इस कार्य की सराहना सबने की।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...