पुर्णिया : यदि पर्यावरण बचाना है तो अपनाना होगा 9 आर ऑफ ससटेनेबिलिटी का फॉर्मूला - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 23 अप्रैल 2019

पुर्णिया : यदि पर्यावरण बचाना है तो अपनाना होगा 9 आर ऑफ ससटेनेबिलिटी का फॉर्मूला

- हमें अपने टॉयलेट, बाथरूम में डस्टबिन रखना चाहिए ताकि वेस्ट मैटेरियल को एक जगह एकत्रित कर इसका समुचित रूप से निष्पादन किया जा सके : गौरव आनंद 
adopt-9rf-sustainebility-for-enviorament
कुमार गौरव । पूर्णिया : एक ओर जहां पूरा विश्व पृथ्वी दिवस मना रहा है वहीं इस दिवस को सशक्त बनाने व मजबूती प्रदान करने की दिशा में पूर्णिया के धमदाहा निवासी गौरव आनंद गति देने में लगे हैं। वे जुस्को (जमशेदपुर) में बतौर पर्यावरण प्रबंधक कार्यरत हैं और 9 आर एप्रोच की शुरूआत कर पर्यावरण बचाओ अभियान में गति ला दी है। इस 9 आर एप्रोच के तहत गौरव न सिर्फ अपने सहकर्मियों को बल्कि आम आवाम काे भी बता रहे हैं कि किस तरह अपने आसपास के इलाके की सफाई कर पर्यावरण को प्रदूषित होने से बचाया जा सकता है। दैनिक भास्कर के साथ विशेष बातचीत के क्रम में उन्होंने कहा कि उनके नेतृत्व में स्वर्णरेखा नदी के किनारे डोमुहानी घाट पर सफाई अभियान चलाया गया। गौरव कहते हैं कि हमें पर्यावरण संरक्षण की दिशा में और जागरूक होने की जरूरत है। खासकर स्लम एरिया में जहां के लोग प्रदूषित पर्यावरण में जीते हैं और बीमार हो जाते हैं। हमें अपने टॉयलेट, बाथरूम में डस्टबिन रखना चाहिए ताकि वेस्ट मैटेरियल को एक जगह एकत्रित कर इसका समुचित रूप से निष्पादन किया जा सके। उन्हांेने बताया कि इस अभियान में टाटा स्टील, जुसको, टीएसएएफ, बियोंड फिटनेस, इन्नरविल, चेंज इंडिया फाउंडेशन, रिलर्न फाउंडेशन, यंग इंडियंस, किड्स इंटरनेशनल, रोटरी क्लब के अलावे 170 वोलंटियर की टीम शामिल रही। जिनकी मदद से 7.5 एमटी वेस्ट कलेक्ट कर उसका निष्पादन किया गया। इसी तरह की शुरूआत की जरूरत हमारे शहर को भी है। खासकर पूर्णिया के सौरा नदी के तट की सफाई बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि इस नदी के किनारे बड़े पैमाने पर ठोस अपशिष्ट को डंप कर दिया गया है और उसमें आग तक लगा दी गई है। जो कि पर्यावरण प्रदूषण के लिहाज से बेहद घातक है और इसका निराकरण बहुत जरूरी है। 

...क्या है 9 आर ऑफ ससटेनेबिलिटी का फार्मूला :
इस 9 आर फार्मूले में गौरव आनंद ने रिपेयर, री-यूज, री-फ्यूज, री-ड्यूस, री-थिंक, री-साइकिल, री-प्लेनिस, री-कवर, री-मॉडल और री-पेयर का फंडा अपनाया है। उन्होंने कहा कि इस फॉर्मूले के आधार पर आसानी से अपने आसपास के इलाके को प्रदूषण से मुक्त रखा जा सकता है। उन्होंने अपने जिले के लोगों से भी इसी फॉर्मूले के आधार पर सफाई अभियान में नगर निगम कर्मियों को साथ देने की अपील की है। ताकि अपना शहर साफ व स्वच्छ हो सके। बता दें कि इन दिनों गौरव आनंद का यह फॉर्मूला सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है और लोग इसे काफी पसंद भी कर रहे हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...