मुख्य न्यायाधीश यौन उत्पीड़न मामले में वकील बैंस का नोटिस जारी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 24 अप्रैल 2019

मुख्य न्यायाधीश यौन उत्पीड़न मामले में वकील बैंस का नोटिस जारी

advocate-bains-notice-issued-in-case-of-chief-justice-sexual-harassment
नयी दिल्ली,23 अप्रैल, उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के खिलाफ यौन उत्पीड़न आरोप के मामले में स्वत: संग्यान लेते हुए वकील उत्सव बैंस को नोटिस जारी किया। न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा, न्यायमूर्ति रोहिंटन नरीमन और दीपक गुप्ता की नवगठित पीठ ने वकील बैंस को नोटिस जारी किया । अधिवक्ता बैंस ने उच्चतम न्यायालय में एक हलफनामा दाखिल कर दावा किया था कि मुख्य न्यायाधीश को फंसाने के लिए यह शिकायत की गई है । इस मामले की सुनवाई कल होगी। शीर्ष न्यायालय ने नोटिस में अधिवक्ता से हलफनामे के पैरा 17 और 20 का विवरण देने और इस संबंध में साक्ष्य प्रस्तुत करने को कहा है। शनिवार को मुख्य न्यायाधीश पर आरोप लगने के बाद एक विशेष पीठ इस मामले को तुरंत देखने लिए गठित की गई। विशेष पीठ में मुख्य न्यायाधीश गोगोई के साथ न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना को शामिल किया गया था, हालांकि जब पीठ ने उस दिन आदेश पारित किया और उसे शीर्ष न्यायालय की वेबसाइट पर डाला तो मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई का नाम आदेश में नजर नहीं आया । अब इस मामले की सुनवाई नयी पीठ कर रही है जिसमें न्यायमूर्ति मिश्रा, न्यायमूर्ति नरीमन और न्यायमूर्ति गुप्ता शामिल है। मुख्य न्यायाधीश पर शीर्ष न्यायालय में काम करने वाली एक पूर्व अधिकारी जो कनिष्ठ सहायक के पद पर कार्यरत थी यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है । उसने शीर्ष न्यायालय में दाखिल हलफनामे में कहा है कि यौन उत्पीड़न मामले की वजह से उसे पद से अचानक निलंबित कर दिया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...