‘चौकीदार चोर है’ अभियान थमेगा नहीं : कांग्रेस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 24 अप्रैल 2019

‘चौकीदार चोर है’ अभियान थमेगा नहीं : कांग्रेस

chowkidar-chor-hai-campaign-will-not-stop-congress
नयी दिल्ली, 23 अप्रैल, कांग्रेस ने कहा है कि ‘चौकीदार चोर है’ उसका एक राजनीतिक अभियान है जो करीब डेढ साल से चल रहा है और यह आगे भी चलता रहेगा लेकिन स्पष्ट किया कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी का यह कहने का कभी इरादा नहीं रहा कि उच्चतम न्यायालय ने भी इसे सही माना है और अपनी टिप्पणी के लिए खेद जताया है। कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने मंगलवार को यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं से कहा कि ‘चौकीदार चोर है’ का नारा डेढ साल से ज्यादा समय से चल रहा है और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तथा पार्टी के अन्य नेता लगातार इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। श्री गांधी ने उच्चतम न्यायालय में अपने स्पष्टीकरण में बताया है कि उनका इरादा यह कहने का कभी नहीं था कि न्यायालय ने भी माना है कि ‘चौकीदार चोर’ है। उन्होंने स्पष्टरूप से यह कहने के लिए अपनी गलती मानी है और खेद जताया है कि उच्चतम न्यायालय ने भी यह माना है कि ‘चौकीदार चोर है।’ श्री गांधी ने यह भी बताया कि वह न्यायालय की प्रशंसा कर रहे थे। प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस के किसी नेता के लिए यह नारा नया नहीं है। उनके लिए यह पूरी तरह से राजनीतिक अभियान है और पार्टी का यह अभियान थमेगा नहीं। उन्होंने कहा कि ‘चौकीदार चोर है’ एक नारा है लेकिन न्यायालय ने भी इसे माना है यह इरादातन कांग्रेस अध्यक्ष ने कभी नहीं कहा। उन्होंने कहा कि न्यायालय में यह भी कहा गया है कि वह किसी मुद्दे पर अपना रुख बदल नहीं रहे हैं और इस अभियान को जारी रखेंगे। श्री सिंघवी ने कहा कि न्यायालय को यह भी बताया गया है कि भारतीय जनता पार्टी न्यायालय में उठे मुद्दे का राजनीतिकरण कर रही है। वह जानबूझकर चुनावी फायदे के लिए इस मामले का इस्तेमाल कर रही है। उन्होंने कहा कि न्यायालय ने श्री गांधी की बात सुनी है। हमने न्यायालय से यह मामला खत्म करने का निवेदन किया था लेकिन मामले को बंद नहीं किया गया है और अगले सप्ताह बुधवार को इस मामले में सुनवाई होगी। प्रवक्ता ने कहा कि न्यायालय के निर्देश के अनुसार विस्तृत स्पष्टीकरण दिया गया है। न्यायालय से कहा गया है कि उनका इरादा उसके निर्णय का गलत इस्तेमाल करना नहीं था।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...