बेगुसराय : शव मिलने के बाद परिजनों में मचा कोहराम। - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 15 अप्रैल 2019

बेगुसराय : शव मिलने के बाद परिजनों में मचा कोहराम।

found-dead-body
दर्जी फारुक का शव मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया,पत्नी मैरून निशां का रो-रो कर बुरा हाल है,जबकि जवान बेटियों के साथ-साथ छोटे-छोटे बच्चे बेसुध पड़े हैं।फारुख बहुत ही गरीब परिवार से आता था,अपने बाल- बच्चों की परवरिश के लिए विगत कई वर्षों से थाना क्षेत्र के कुम्भी गांव में अरविंद यादव के मकान में सिलाई का काम किया करता था। परिजनों के अनुसार उसकी किसी से कोई लड़ाई-झगड़ा या दुश्मनी भी नहीं थी,वह इस्लाम धर्म के मुताबिक तबलिगी जमात से जुड़ा था।ऐसे में लोगों द्वारा राहजनी के उपरांत अपराधियों द्वारा हत्या की बातें कही जा रही है।जबकि किसी व्यक्ति द्वारा कपड़ा सिलवाने के उपरांत चार हजार रुपए बकाया होने तथा फारुख द्वारा मांगने पर उल्टा उससे ही 25 हजार रुपये डिमांड की बातें लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है।गांव के बुद्धिजीवियों में अधिवक्ता शकील अहमद, जमीअत उलमा ए हिंद बेगूसराय के जेनरल सेक्रेटरी मौलाना साबिर निजामी, पंसस मतलूब भारती, मो०महबूब आलम, हशनैन शाहिद भारती, मो०शमीम, मो०इरशाद सहित अन्य लोगों ने मृतक के जवान बेटियों की शादी के लिए स्थानीय प्रशासन से सहयोग करने की मांग की है। एक माह के अंदर दो हत्या की घटना से लोगों में चर्चाओं का बाजार गर्म है। बसौना मोड़ स्थित लगभग एक माह के अंदर दो हत्या की घटना से लोगों में चर्चाओं का बाजार गर्म है।हत्या के उपरांत दोनों शव में समानता को देखते हुए ग्रामीण आक्रोशित हो गए हैैं।आगे आपको बताते चलें कि होली त्योहार के एक दिन बाद से लापता मंझौल पंचायत एक निवासी देवो सहनी के पुत्र रौशन सहनी का शव भी एसएच-55 से दक्षिण एक मक्के के खेत से तीन दिनों बाद बरामद किया गया था।शव बरामदगी के दौरान चेहरे पर चोट के निशान के साथ तेजाब डालकर जलाने की बात कही जा रही थी।जबकि शव से दुर्गंध आने लगी थी।बताया जाता है,बसौना मोड़ अपराधियों के लिए सेफ जोन बना हुआ है। जिसके फलस्वरूप अपराधी घटना को अंजाम देने के उपरांत उक्त मोड़ के आसपास शव को ठिकाने लगाकर बड़ी सफाई के साथ निकल जाता है।थाना पुलिस अंधेरे में ही अपना हाथ पैर मारते रहती है।और अगर उपलब्ध्धि के नााा पर कहा जाए तो कुुुछ भी नही।मसलन रौशन सहनी हत्याकांड में अभी तक प्रशासन द्वारा कोई खुलासा नहीं किया जा सका है।अब इस हत्याकाण्ड मामले में पुलिसप्रशासन क्या कर कुुुछ कर पाती भी है या नहीं ये तो वक्त ही बताएगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...