पूर्णियां : तीन दिनी अष्टयाम सह हरिनाम संकीर्तन का हुआ समापन, उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 10 अप्रैल 2019

पूर्णियां : तीन दिनी अष्टयाम सह हरिनाम संकीर्तन का हुआ समापन, उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

harinam-kirtan-purniayan
पूर्णिया (आर्यावर्त संवाददाता)  : कसबा प्रखंड के सब्दलपुर पंचायत स्थित सब्दलपुर गांव में 72 घंटे का श्रीश्री 108 चौबीस प्रहर हरिनाम संकीर्तन समारोह बुधवार की संध्या करीब छह बजे संपन्न हो गया। जो बीते सात अप्रैल रविवार को धार्मिक विधि विधान तथा मंत्रोच्चारण के साथ प्रारंभ हुआ था। तीन दिन व तीन रात तक लगातार चल रहे इस अष्टयाम में क्षेत्र के हजारों महिलाएं एवं पुरुष श्रद्धालुओं की भीड़ देखी गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार कसबा प्रखंड के सब्दलपुर पंचायत के सब्दलपुर गांव में स्थानीय लोगों के सहयोग से पिछले 65 वर्षां से श्रीश्री 108 हरिनाम संकीर्तन का आयोजन बड़े ही धूमधाम के साथ किया जाता है। मौके पर अष्टयाम कमेटी के अध्यक्ष संजीव बिहारी प्रसाद, पंचायत समिति सदस्य हरिलाल यादव, प्रदीप महलदार, संजय साह, प्रवीण शर्मा, गोपाल झा, गोपाल यादव, नाथु साह, अयोध्या प्रसाद यादव, राजेंद्र प्रसाद यादव, महावीर साह, मिथिलेश सिन्हा, राजू बिहारी प्रसाद ने संयुक्त रुप से बताया कि आयोजित हरिनाम संकीर्तन में बंगाल रायगंज, बंसतपुर, सब्दलपुर सहित छह कीर्तन मंडलियों ने आकर कीर्तन भजन किया। जबकि बंगाल से आए रासलीला पार्टी ने भक्त प्रहलाद, तुलसी देवी, कृष्ण भक्त सुदामा तथा रामचंद्र मिथिला गमण का पाठ किया। जो श्रद्धालुओं के मन मस्तिष्क को छू गया तथा हरे राम हरे कृष्ण की ध्वनि से सारा इलाका भक्तिमय हो गया। वहीं भाजपा नेता संजय कुमार मिर्धा ने अष्टयाम में अपनी उपस्थिति दर्ज की तथा कमेटी के सदस्य को सहयोग देकर धार्मिक अनुष्ठान के आयोजन करने को लेकर हौसला अफजाई की। हरिनाम संकीर्तन के सफल आयोजन में सब्दलपुर वासियों का सराहनीय भूमिका निभाई। वहीं तीन दिन प्रसाद का लगातार वितरण होता रहा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...