बिहार : जलालपुर बड़ी मुसहरी में सात निश्चय लागू करने का आग्रह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 8 अप्रैल 2019

बिहार : जलालपुर बड़ी मुसहरी में सात निश्चय लागू करने का आग्रह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से

impliment-saat-nischay-mushhari-tola
पटना,09 अप्रैल। इस एरिया का दुर्भाग्य है। इस क्षेत्र का प्रखंड सह अंचल कार्यालय, दानापुर में है। दीघा विधान सभा के विधायक संजीव चौरसिया है। पाटलिपुत्र संसदीय क्षेत्र के निवर्तमान सांसद और प्रत्याशी रामकृपाल यादव है। पटना नगर निगम के वार्ड नम्बर-3 में पड़ता है। वार्ड पार्षद प्रभा देवी हैं। इसी दुर्भाग्य वाले क्षेत्र में है जलालपुर बड़ी मुसहरी। महादलित मुसहर समुदाय के लोग अनेकानेक समस्याओं से जूझ रहे हैं।  बताते चले कि बड़ी मुसहरी जन संगठन एकता परिषद का कार्यक्षेत्र है। जन संगठन के लोगों के द्वारा ‘जय जगत‘ कहकर अभिवादन किया जाता है। सभी लोगों को जय जगत कहकर अभिवादन करने की आदद को लेकर कार्यकर्ता गांव में जाते हैं। वहां पर ग्रामीणों को जय जगत कहकर अभिवादन करते हैं। इसका परिणाम होता है कि गांव वाले भी जय जगत कहने लगते हैं। जब आज एक कार्यकर्ता जलालपुर बड़ी मुसहरी में गए,तो वहां की महादलित महिलाओं ने जय जगत कहकर अभिवादन किए। जय जगत का नारा है मुसहरी में जरूर जाना है। यह सब निश्रावर कार्यकर्ताओं पर ही निर्भर है कि वे किस प्रकार जन संगठन के मुद्दे को ग्रामीणों के बीच तक पहुंचा पाते हैं। 

यहां के लोग जनांदोलन 2018 में सत्याग्रह पदयात्रा में गए थे। वहां पर कई तरह का नारा जोरदार ढंग से बुलंद हो रहा था। उसमें एक है ‘आगे जमीन पीछे वोट नहीं जमीन तो नहीं वोट‘। इस नारा को ग्रामीणों ने याद कर रखा है। आजकल तेरे मेरे चर्चा हर जुबान पर है,इसी तरह लोगों के जुबान पर भी है। जब लोकसभा चुनाव के बारे में सवाल किया गया तो तपाक से कह दिए कि हमलोग वोट का वहिष्कार करेंगे। हमलोग मन बना लिए हैं। इसका कारण में बताया गया कि भइया जी ‘ आगे जमीन पीछे वोट नहीं जमीन तो नहीं वोट‘ का नारा याद है न। भइया जी बिहार सरकार आवासीय भूमिहीनों को दस डिसमिल जमीन नहीं दे रही है। वहीं केन्द्र सरकार राष्ट्रीय आवासीय भूमि अधिकार कानून की घोषणा एवं क्रियान्वयन नहीं कर रही है।इस हालात में तो वोट नहीं न देना है। शायद यह भूल गए कि जो राजनैतिक दल हमलोगों का मुद्दा को घोषणा पत्र में शामिल करेंगे। उनके बारे में सोचा जा सकता है। अभी कांग्रेस ने घोषणा पत्र में वासभूमि अधिकार कानून बनाने का वादा की है। वनाधिकार कानून लागू करने और मनरेगा में 150 दिनों का काम करने का वादा की हैं इसके अलावे 72 हजार रू. भी मिलने वाला है। जो ग्रामीण लोगों को मालूम नहीं है।  बताते चले कि महादलित मुसहर समुदाय जलालपुर बड़ी मुसहरी में रहते हैं। यहां पर करीब 200 घर है। अपने लोगों में विभाजन कर लिए हैं। इसे चटाईया कहा जाता है। यहां पर दोे लड़की और उतने ही लड़के मैटिक उत्र्तीण हैं। लीलावर्ती कुमारी , राधा कुमारी, मुन्ना कुमार और रवि कुमार है। यहां पर तीन चापाकल है। तीनों बेकार है। शौचालय के अभाव में लोग शौचक्रिया करने के लिए नहर के चाट में और रेलवे लाइन के किनारे जाते हैं। बिजली लाइन है परन्तु घरों में मीटर नहीं है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से आग्रह किया गया है कि यहां पर सात निश्चय को लागू किया जाए। जल्द से जल्द 7 निश्चय के तहत हर घर नल का जल, हर घर  बिजली लगातार, घर तक पक्की गली- नालियां,  शौचालय निर्माण, घर का सम्मान, अवसर बढ़े, आगे पढ़े, आर्थिक हल,युवा बल, आरक्षित रोजगार, महिलाओं का अधिकार को लागू करने का आग्रह किया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...