बिहार : कुर्जी पल्ली में है कुर्जी कब्रिस्तान - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 5 अप्रैल 2019

बिहार : कुर्जी पल्ली में है कुर्जी कब्रिस्तान

kurji-palli-kabristan
पटना, 04 अप्रैल। कुर्जी पल्ली में है कुर्जी कब्रिस्तान। कुर्जी पल्ली में दस हजार से अधिक की संख्या में ईसाई समुदाय रहते हैं। 100 साल से भी अधिक दिनों की अवधि से है कुर्जी कब्रिस्तान। इस दौरान हजारों की संख्या में मृत ईसाइयों को दफनाया गया है। इस कब्रिस्तान में जगहावभाव है। एक कब्र खोदी जाती है गहराई 6 फीट, चैड़ाई ढाई फीट और लम्बाई साढ़े पांच फीट होती है। एक परिवार के सदस्य को कब्र में दफनाने के बाद अन्य परिजन की मौत हो जाती है तो उसी कब्र में दफनाया जाता है। ऐसा छह से सात बार किया जाता है। अगर किसी को कब्र के नयी जगह दी जाती है तो 25 हजार रू. की मांग की जाती है। इस मांग से ईसाई समुदाय में आक्रोश व्याप्त है। 

बीजेपी के अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री 
आर्यावर्त लाइव में प्रकाषित खबर का असर बीजेपी नेता पर पड़ा। वह नेता हैं बीजेपी के अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री राजन क्लेमेंट साह। कब्रिस्तान की  ऊंचाई कम होने के कारण अपराधियों का आराम स्थल बन गया था। कब्रों में लगे क्रूस को तोड़ देते। यहां पर श्रद्धांजलि अर्पित करने वालों के साथ दुव्र्यवहार करते। हिम्मत तब बहुत बढ़ गयी जब किसी तरह की कार्रवाई नहीं हुई। युवतियों की हार खींचने में सफल होने लगे। तब नेता जी ने एमएलए फण्ड से कब्रिस्तान की चहारदीवारी निर्माण करवाने में सफल हो गए। 

अन्तर्राष्ट्रीय संस्था संत विन्सेंट डी पौल समाज
पहले कुर्जी पल्ली में रहने वाले लोगों को बांकीपुर पल्ली में जाकर कफन बाॅक्स लाना पड़ता था। अब इसका भार अन्तर्राष्ट्रीय संस्था संत विन्सेंट डी पौल समाज ने उठा लिया है। उसने कुर्जी पल्ली में ही कफन बाॅक्स उपलब्ध करवाने की व्यवस्था कर दी है। अब आसानी से कफन बाॅक्स मिल जाता है। अब संत विन्सेंट डी पौल समाज के लोगों का प्रयास हो रहा है कि एक ठेला गाड़ी हो। ईसाई समुदाय के मृतक के घर से शव को कफन बाॅक्स में रखने के बाद ठेला गाड़ी में रखकर शव यात्रा को कब्रिस्तान में लाए। हो सकता है कि किसी और संस्था के लोग ठेला गाड़ी उपलब्ध करा दें।

गैर सरकारी संस्था अल्पसंख्यक ईसाई कल्याण संघ 
कुर्जी पल्ली के लोगों को हर तरह का साधन उपलब्ध करवाने का प्रयास किया जा रहा है। उसमें गैर सरकारी संस्था अल्पसंख्यक ईसाई कल्याण संघ भी जुड़ गया है। मृत के शव को कुछ दिनों तक रखने की व्यवस्था कर दी है। उसने अपना वादा पूर्ण कर दिया है। मृतकों के शव को दो या तीन दिन सुरक्षित रखने के लिए एक डेड बॉडी फ्रीजर बॉक्स(इलेक्ट्रिक कॉफिन बॉक्स) को कुर्जी चर्च के कार्यकारी पल्ली पुरोहित फादर सुसाई राज को गैर सरकारी संस्था अल्पसंख्यक ईसाई कल्याण संघ ने समर्पित (दान) कर दिया।इस कार्य में सहयोग करने वाले दानकर्ता को ईसाई समुदाय की तरफ से धन्यवाद दिया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...