विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र ढहने के कगार पर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 14 अप्रैल 2019

विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र ढहने के कगार पर

vishv-ka-sabase-bada-loktantr-dhahne-ki-kagaar-parदुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र भारत 1947 में अपनी आजादी के बाद एक लोकतांत्रिक राष्ट्र बना, भारत के नागरिकों को मतदान देने और उन्हें अपने नेताओं का चुनाव करने का अधिकार है। आजादी के बाद जब पहली बार सरकार बनी उस समय नेहरू जी ने पूर्ण बहुमत के बावजूद 5 विपक्ष के नेताओं को सरकार में शामिल किया। यह वही देश है जहाँ बंगला देश से जीतने के बाद जब प्रतिनिधि मंडल यूनाइटेड नेशन्स गया तो कांग्रेस ने पूर्ण बहुमत के बावजूद विपक्ष के नेता श्रद्धेय अटल बिहारी बाजपेयी को भेजा। 

विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत का 17 वाँ चुनाव शुरू हो चुका है  नेताओं का अपने अपने क्षेत्रों के दौरे की दौड़ चल रही है  नेता जानते हैं कि उनके पास समय सीमित है और सत्ता क्षणभंगुर। आज नेताओं की नैतिकता जितनी गिरी है इससे पहले कभी देखने को नहीं मिला।देश में हर तरफ अराजकता फैली हुई है  हमारी संस्कृति हमारे इतिहास से खिलवाड़ करने का हक़ इन नेताओं को किसने दी है ? हमने, आवाम ने ही इनका मनोबल बढ़ाया है  हमारी सोच अलग हो सकती पर यहाँ तो आर-पार की स्थिति है  नैतिकता तो जैसे ख़त्म सी हो गई है । देश को बांटने में कोई कसर नहीं छोड़ा है नेताओं ने सत्ता के लिए इन्होंने हमारे इतिहास की भी धज्जियाँ उड़ा दी है । जिन व्यक्तित्व को हम अपना आदर्श मानते हैं जिनके बल पर आज भी हमारे देश का पताका फहरा रहा है उनकी भी बेइज्जती करने में इन नेताओं ने कोई कसर नहीं छोड़ी है  

देश के शीर्ष नेता के जनता मनलुभावन भाषण को सुनकर ऐसा प्रतीत होता है मानो वोट के लिए वह किसी भी हद्द तक गिर सकते हैं एक दूसरे को देश द्रोही कहने से जरा भी नहीं हिचकते। एक समय था जब नेता चाहे पक्ष के हों या विपक्ष के जब भी भाषण देते सुनने का मन होता था पर आज भाषण सुनकर मन दुखी हो जाता, शर्म आती है कि हम उस देश के नागरिक हैं जहाँ के नेता ने नैतिकता को ताक पर रख दी है  जब देश के प्रधान की ही भाषा भड़काऊ और सत्ता लोलुप्तापूर्ण हो तो बाकी नेताओं से क्या उम्मीद। विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र ढहने की कगार पर है  इसे मात्र हम आप ही बचा सकते हैं यदि आज हम सोच समझकर वोट नहीं दिए तो हमारी आने वाली पीढ़ी हमे कभी माफ़ नहीं करेगी   

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...