केंद्रीय बल और पैसे से चुनाव नहीं जीत सकते मोदी : ममता बनर्जी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 14 मई 2019

केंद्रीय बल और पैसे से चुनाव नहीं जीत सकते मोदी : ममता बनर्जी

central-forces-and-money-can-t-win-modi-elections-mamata
कोलकाता 14 मई, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने चुनावों में पैसे का इतना खुल्लम-खुल्ला इस्तेमाल पहले कभी नहीं देखा और आरोप लगाया कि ये पैसे हवाला के हैं। सुश्री बनर्जी ने जाधवपुर में एक जनसभा को संबाेधित करते हुए कहा, “मैं आठ बार सांसद और दो बार विधायक चुनी गयी। मैंने कभी भी पैसे का इतना खुल्लम खुल्ला इस्तेमाल नहीं देखा। उन्हाेंने राज्य प्रशासन को हाईजैक कर लिया है। कोलकाता में करोड़ों रुपये बांटे जा रहे हैं। यह सब हवाला का पैसा है। वे प्रति मतदाता पांच हजार रुपये तक बांट रहे हैं। यह चुनाव है या मजाक?” उन्हाेंने कहा, “वे लोग जब यहां आते हैं तो क्या उनके हेलिकॉप्टर की जांच नहीं की जानी चाहिए? मैंने सुना है कि पैसों के बक्सों को एक जगह से दूसरी जगह लाने-ले जाने के लिए केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के वाहनों का भी इस्तेमाल किया जाता है। उन्होंने त्रिपुरा में भी इसी तरह वोट खरीदें। वे बंगाल में सफल नहीं होंगे।” तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने आरोप लगाते हुए कहा, “नरेंद्र मोदी को लगता है कि वह केंद्रीय बलों का इस्तेमाल कर चुनाव जीत जाएंगे। सुरक्षा बल आम लोगाें पर गोलियां कैसे चला सकते हैं। वे लोगों पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पक्ष में मतदान करने के लिए दबाव डाल रहे हैं। वे ऐसा कैसे कर सकते हैं। उन्हें हमारे राज्य, हमारी भाषा और हमारी संस्कृति के बारे में कोई जानकारी नहीं है।” सुश्री बनर्जी ने आरोप लगाया कि भाजपा विभाजनकारी राजनीति करना चाहती है। वे राजनीतिक फायदे के लिए लोगों को धार्मिक आधार पर बांटना चाहती है। उन्होंने कहा कि यह चुनाव लगभग तीन महीने से चल रहा है। उन्होंने इतने लंबे समय तक चलने वाला चुनाव कभी नहीं देखा। मतदान की तारीखें इस तरह निर्धारित की गयी हैं कि भाजपा को फायदा हो सके। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...