एकता परिषद ने मदनपुरा के जंगल में मजदूर दिवस मनाया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 2 मई 2019

एकता परिषद ने मदनपुरा के जंगल में मजदूर दिवस मनाया

बड़ी संख्या में आदिवासी-बनवासी हुए शामिल
ekta-parishad-labour-day
मडियादो। जल, जंगल,  जमीन,  जन सरोकारों एवं आजीविका के मुद्दे पर देश-दुनिया भर में काम करने वाले जन संगठन एकता परिषद के बैनर तले मडि़यादो क्षेत्र के घने जंगल-पहाड़ी में बसे गांव मदनपुरा में अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस मुखिया लल्लू सिंह आदिवासी की अध्यक्षता में मनाया गया । कार्यक्रम के संचालक एवं मुख्य अतिथि एकता परिषद के प्रदेश समन्वयक सुजात खान रहे । इस संबंध में भूमि अधिकार संघर्ष मोर्चा के जिला सदस्य परसु आदिवासी, सुंदर आदिवासी , पंचम आदिवासी ने बताया कि बैठक में 17 गांव के 120 मुखियाओं ने भाग लिया । बैठक में  खेतिहर एवं निर्माण कार्य में लगे मजदूरों की वर्तमान स्थिति के अलावा मनरेगा कानून, वनाधिकार कानून ,भू राजस्व कानून एवं शासकीय योजनाओं की स्थिति का जायजा विमर्श के साथ लिया गया । इस मौके पर ज्ञात हुआ कि क्षेत्र के वंचित दलित ,आदिवासी , बनवासी वर्तमान में भयंकर भूख ,गरीबी ,बेकारी एवं पलायन की समस्या से जूझ रहे हैं । मनरेगा कानून कागजों पर मशीनों के माध्यम से संचालित हो रहा है । पलायन का ग्राफ बड़ी संख्या में क्षेत्र से बड़ा है । संगठन के प्रदेश  समन्वयक सुजात खान ने कहा कि पन्ना टाइगर रिजर्व प्रबंधन एवं वन विभाग के अन्याय ,अत्याचारों से पीड़ित इस क्षेत्र के वंचित, दलित, आदिवासी एवं पिछड़ा वर्ग के लोग पूरी तरह से नारकीय जीवन जीने के लिए विवश है । क्षेत्र में भयंकर भय, भूख, गरीबी ,बेकारी ,पलायन एवं अराजकता का माहौल व्याप्त है । भूमि हीनता ,आवास हीनता के अलावा जन हितैषी योजना मनरेगा कानून एवं शासकीय कार्यक्रम क्षेत्र में ठीक से लागू नहीं किये जा रहे हैं ।जो बहुत चिंता का विषय है । बैठक में आगामी 6 मई 2019 को होने वाले लोकसभा चुनाव में आंखें खोल कर बड़े पैमाने पर मतदान करने का निर्णय लिया गया । बैठक में सुंदर आदिवासी, मनका आदिवासी ,रामफूल, काशीराम, जग्गू, सरजू, दरबारी, कमला, नंदू आदिवासी, हलले अहिरवार सहित बड़ी संख्या में सक्रिय ग्रामीण मुखिया साथी मौजूद रहे ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...