फोनी तूफान में एनडीआरएफ की 65 टीमें तैनात - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 4 मई 2019

फोनी तूफान में एनडीआरएफ की 65 टीमें तैनात

fani-storm-65-teams-of-ndrf-deployed
नयी दिल्ली, 03 मई, ओड़िशा में आज पुरी के तटवर्ती क्षेत्रों से टकराने वाले भीषण चक्रवाती तूफान फोनी से हुई तबाही के बाद स्थिति से निपटने तथा राहत-बचाव अभियान के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने अपनी पूरी ताकत लगा दी है और कुल 65 टीमों को तैनात किया है। एनडीआरएफ के अनुसार उसने इससे पहले 2013 में फालिन चक्रवाती तूफान के समय राहत बचाव कार्य के लिए 63 टीमों को तैनात किया था। इस बार 65 राहत बचाव टीमों को तैनात किया गया है जिनमें से 38 ओडिशा में, 12 आन्ध्र प्रदेश , 6 पश्चिम बंगाल , अरूणाचल प्रदेश , नागालैंड और मेघालय में एक-एक , जबकि झारखंड, तमिलनाडु और केरल में दो-दो टीमों को तैनात किया गया है। इसके अलावा एनडीआरएफ के विभिन्न बेसों में 48 टीमों को तैयार रखा गया है जिससे कि जरूरत पड़ने पर उन्हें बचाव कार्यों के लिए भेजा जा सके। एनडीआरएफ ने राहत बचाव अभियान में अपने सभी संसाधनों को लगा रखा है और वह स्थानीय प्रशासन की हर जरूरत को पूरा करने में जुटा है। ये टीमें तूफान के कारण सड़कों पर बाधाओं को दूर करने में लगी हैं। तूफान के कारण फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर बनाये गये शिविरों में भेजा गया है। अब तक 11 लाख से अधिक लोगों को निकाला जा चुका है। ‘फोनी’ लगभग 170 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से शुक्रवार सुबह ओडिशा में पुरी के तटीय इलाकों में पहुंच गया जिसके बाद से पुरी तथा अन्य तटीय इलाकों में बारिश हो रही है तथा तेज हवाएं चल रही हैं। तूफान के कारण भारी नुकसान होने की खबर है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...