बिहार : प्रेरितों की महारानी ईश मंदिर में दर्जनों बच्चों को प्रथम परमप्रसाद दिया गया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 26 मई 2019

बिहार : प्रेरितों की महारानी ईश मंदिर में दर्जनों बच्चों को प्रथम परमप्रसाद दिया गया

बपतिस्मा संस्कार ग्रहण करने वाले बच्चों ने पापस्वीकार संस्कार ग्रहण किए और आज प्रथम परमप्रसाद संस्कार ग्रहण किए। इन बच्चों और इनके परिवार के लिए विशेष दिन रहा। सर्वत्र हर्ष का माहौल रहा।
girl-awarded-in-church
पटना,26 मई। आज कुर्जी पल्ली में जश्न का माहौल रहा। यहां के प्रेरितों की महारानी ईश मंदिर में प्रथम परमप्रसाद ग्रहण करने का समारोह आयोजित किया गया था। इस पल्ली के दर्जनों बच्चों को प्रभु येसु ख्रीस्त के शरीर और रक्त ग्रहण करने का प्रथम बार अवसर मिला। कुर्जी पल्ली के प्रधान पल्ली पुरोहित फादर सुसय राज के नेतृत्व में पुरोहितों मिस्सा पूजा करने वाले फादरों के हाथों से प्रथम बार ख्रीस्त का शरीर और रक्त ग्रहण करके बच्चे हर्षित होकर गीत गुनगुनाने लगे ‘येसु मेरे दिल में आया‘। बताया जाता है कि माता कलीसिया ने सात संस्कार आयोजित की है। प्रथम संस्कार है बपतिस्मा। द्वितीय संस्कार है पापस्वीकार। तृतीय संस्कार है परमप्रसाद। आज तृतीय संस्कार दर्जनों बच्चों को मिला। इसके पूर्व बच्चों को महीनों पूर्व से तैयारी की जाती है। तैयारी के अंतिम चरण में द्वितीय संस्कार पापस्वीकार करते हैं। इसके बाद बच्चे परमप्रसाद ग्रहण करने लायक योग्य बन जाते हैं। दर्जनों बच्चों ने प्रथम बार परमप्रसाद ग्रहण किये। इन बच्चों ने चर्च में पहले येसु को ग्रहण किया। फिर चर्च के बाहर आकर आइसक्रीम खाकर जश्न मनाया। यह अनिशा तिर्की है। जो विख्यात संत माइकल हाई स्कूल की पांचवी कक्षा की छात्रा है। पटना नगर निगम के पाटलिपुत्र अंचल के वार्ड नम्बर-22 ए में स्थित शिवाजी नगर,दीघा में रहती हैं। इनकी मा ललिता तिर्कीं हैं। इनका पिता संजय तिर्की हैं। माता-पिता झारखंड प्रदेश के सिमडेंगा में रहते हैं। दोनों कृषक हैं। दीघा में रहने वाले में दादा-दादी के घर में अनिशा तिर्की और अनिश तिर्की रहते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...