पूर्णिया : 16 से 31 मई तक पूर्णिया रेंज के छह जिलों के 45 हजार करदाताओं की सुनी जाएगी समस्या - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 15 मई 2019

पूर्णिया : 16 से 31 मई तक पूर्णिया रेंज के छह जिलों के 45 हजार करदाताओं की सुनी जाएगी समस्या

सीबीडीटी ने दिया आदेश- आधा दिन करदाताओं से मिलने के लिए रखें, मिसमैच के कारण आ रहे डिमांड नोटिस आदि पर सुनेंगे करदाता या उनके प्रतिनिधि का पक्ष 
income-tax-will-hear-application-purnia
कुमार गौरव । पूर्णिया : आयकर विभाग ने करदाताओं की समस्याएं दूर करने के लिए एक बड़ा कदम उठाया है। इसके तहत पहली बार सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस (सीबीडीटी) ने सभी रीजन के चीफ कमिश्नर (आईटी) को आदेश दिया है कि पूरे देश में एक साथ 16 से 31 मई तक सभी आयकर विभाग में करदाताओं की समस्याएं सुनी जाए। इसके लिए कर निर्धारण अधिकारियों को अपने कामकाज के दिन का पहला आधा हिस्सा करदाता या उनके प्रतिनिधियों से मिलने के लिए सुरक्षित रखने का आदेश दिया गया है। इस दौरान वह अपील प्रभाव के केस, जनशिकायत, टीडीएस मिसमैच के कारण निकले टैक्स डिमांड आदि मामले सुनेंगे। सीबीडीटी का मानना है कि इन सब मामलों में देरी से करदाताओं के मध्य असंतुष्टि पैदा होती है। 

...स्थानीय संगठनों को भी पत्र लिखेंगे : 
सीबीडीटी ने यह भी कहा है कि स्थानीय अधिकारी इसके प्रचार के लिए स्थानीय संगठनों को भी पत्र लिखेंगे। ताकि लंबित मामलों में कार्रवाई हो सके। साथ ही सभी को इस 15 दिन के शिविर का फीडबैक भी सीबीडीटी को भेजने का दिशा निर्देश दिया गया है। इस संबंध में अधिवक्ता (इनकम टैक्स) ललन कुमार झा कहते हैं कि इससे करदाताओं को सीधे अपनी बात रखने का मौका मिलेगा और विभाग में लंबित हजारों केस भी एक साथ निराकृत हो सकेंगे। बता दें कि पूर्णिया रेंज अंतर्गत करीब 45 हजार करदाताओं को यह सुविधा मिलेगी। हालांकि इनमें से अधिकांश ऑनलाइन ही कर अदा करते हैं लेकिन इसके बाद भी यदि कोई समस्या रहती है तो बेशक इस शिविर में उन्हें राहत मिलने की उम्मीद है। सूत्रों की माने तो पूर्णिया रेंज अंतर्गत सभी छह जिलों (पूर्णिया, अररिया, किशनगंज, सहरसा, सुपौल व मधेपुरा) के करदाताओं के द्वारा 207 करोड़ रूपए सरकार को कर अदा किया जाता है। ऐसे में सीबीडीटी के इस आदेश के बाद वैसे करदाता जिन्हें तकनीकी समस्या रहती है बेशक उन्हें राहत मिलेगी। 

...विभागीय आदेश का है इंतजार : 
सीबीडीटी के आदेशानुसार शिविर लगाकर करदाताओं की समस्याएं सुनी जाएगी। इसके लिए विभागीय कार्रवाई का इंतजार है। जिसके बाद कार्य की शुरूआत की जाएगी।  : राघवेंद्र नारायण सिंह, आईटीओ, पूर्णिया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...