वैचारिक दिवालियेपन से जूझ रहा है विश्व कम्युनिस्ट आंदोलन : प्रचंड - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 1 मई 2019

वैचारिक दिवालियेपन से जूझ रहा है विश्व कम्युनिस्ट आंदोलन : प्रचंड

left-protest-thoughtles-prachand
काठमांडू 30 अप्रैल, नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री एवं नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के अध्यक्ष पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ ने मंगलवार को कहा कि दुनिया का कम्युनिस्ट आंदोलन ‘वैचारिक दिवालियेपन’ से जूझ रहा है। प्रचंड ने एक मई को अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस की पूर्व संध्या के मौके पर काठमांडू में यह टिप्पणी की। इस कार्यक्रम में, उन्होंने विज्ञान एवं पर्यावरण के पूर्व मंत्री और ट्रेड यूनियन के कार्यकर्ता गणेश शाह को सम्मानित किया। कार्यक्रम में पूर्व प्रधानमंत्री ने सभी कार्यकर्ताओं को ‘‘ समाजवाद का पक्ष लेने और साम्राज्यवादी ताकतों के खिलाफ खड़े’’ होने को कहा। उन्होंने कहा, ‘‘ विश्व कम्युनिस्ट आंदोलन वैचारिक दिवालियेपन से ग्रस्त है।’’  वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ ट्रेड यूनियन के उप महासचिव एच महादेवन ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय न केवल राजनीतिक फासीवाद का सामना कर रहा है बल्कि आर्थिक फ़ासीवाद से भी पीड़ित है क्योंकि मुट्ठी भर पूंजीपति विश्व की 90 प्रतिशत संपत्ति पर नियंत्रण कर रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...