सहानुभूति पाने को मोदी बता रहे हैं जान का खतरा : कांग्रेस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 4 मई 2019

सहानुभूति पाने को मोदी बता रहे हैं जान का खतरा : कांग्रेस

modi-is-tell-life-threat-get-for-sympathy-congress
नयी दिल्ली, तीन मई, कांग्रेस ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोकसभा चुनाव में अपनी निश्चित पराजय को सामने देखकर घबरा गए हैं इसलिए बौखलाहट में मतदाताओं को भावुक बनाकर उनकी सहानुभूति पाने के लिए अपनी जान को खतरा बता रहे हैं। कांग्रेस प्रवक्ता आनंद शर्मा ने शुक्रवार को यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में एक प्रश्न के जवाब में कहा कि श्री मोदी देश के पहले प्रधानमंत्री हैं जो अपनी जान काे खतरा बता रहे हैं। उन्होंने कहा कि श्री मोदी चुनाव के समय जान को खतरा बताकर मतदाताओं की सहानुभूति पाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वास्तव में जिन प्रधानमंत्रियों की जान को खतरा रहा है उन्होंने कभी नहीं कहा कि उनकी जान को खतरे में है। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, अटल बिहारी वाजपेयी या डा मनमोहनसिंह ने कभी नहीं कहा कि उनकी जान को खतरा है। श्री मोदी पहले प्रधानमंत्री हैं जो अपनी जान को खतरा बता रहे है। इससे पहले उन्होंने बिहार चुनाव में भी अपनी जान को खतरा बताया था। उसके बाद नोटबंदी का दौर आया और तब भी श्री मोदी ने कहा कि उनकी जान को खतरा है। अब तीसरी बार वह यही बात कह रहे है। श्री शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री जान को खतरा बताकर लोगों को भावुक बनाना चाहते हैं और यह कह कर उनके वोट हासिल करने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन उनको समझ लेना चाहिए कि पांच साल में उन्होंने देश की जनता को धोखा दिया है और उनके विश्वास को तोड़ा है इसलिए उन्हें भावुक बनाकर अब वोट हासिल नहीं किए जा सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...