बेगूसराय : अपराध का बढ़ता आतंक, गोपाल सिंह की निर्मम हत्या - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 31 मई 2019

बेगूसराय : अपराध का बढ़ता आतंक, गोपाल सिंह की निर्मम हत्या

murder-begusaray
अरुण कुमार (आर्यावर्त)  बेगूसराय-सिंघौल थानाक्षेत्रान्तर्गत की घटनाआ है।बेगूसराय में इन दिनों अपराधियों का हौसला काफी बुलंद होता जा रहा है।कानून और पुलिसप्रशासन का जरा भी खौफ नहीं रह गया है,अपराधियों के अंदर,बेखौफ जब जी में आया जहां भी आया बस किसी को भी मौत के घाट उतार दिया।आए दिन हत्या की घटना में काफी इजाफा हुआ है जिले में।मिली जानकारी के अनुसार बीती गुरुवार की देर रात सिंघौल ओपी थाना क्षेत्र के अमरौर किरतपुर गांव निवासी स्वर्गीय तामो सिंह के पुत्र व भाजपा के पंचायत अध्यक्ष गोपाल सिंह 41 वर्ष की हत्या बदमाशों ने सोए हुए अवस्था में घर में घुसकर सिर में गोली मारकर हत्या कर दी है।परिवार वालों को घटना की जानकारी तब मिली जब उसकी माँ ने 4:00 बजे सुबह में नित्य की तरह अपने पुत्र के लिए चाय बना कर देने के आई थी।जब उसकी माँ अपने पुत्र को चाय पीने के लिए जोर जोर से नाम लेते हुए(गोपाल) बोलकर उठने के लिए आवाज लगाई तो वह नहीं उठा।तब उसकी माँ को थोड़ा शक हुआ कि लगता है उसे कुछ हो गया है।फिर दरवाजे में धक्का दी तो हल्के धक्के में ही दरवाजा खुला गया और जब माँ उसके पास पहुंची तो खटिया पर गोपाल का कपड़ा खून से सना हुआ देखी।उसके बाद वह दहाड़ मार कर रोने लगी,घर के अलावे आसपास के लोग रोने की आवाज सुनकर आए तो देखे वह बिल्कुल मृत अवस्था में पड़ा था।इस घटना की सूचना तुरंत सिंघौल ओपी थानाध्यक्ष मनिष कुमार को दिया गया।सूचना पाकर थानाध्यक्ष ने अपने दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल ले गया और पोस्टमार्टम  करा कर उसके परिजनों को शव सुपुर्द कर दिया। कुछ देर के लिए अमरौर किरतपुर के ग्रामीणों ने मिलकर एन एच 31 अंग्रेजी ढाला के पास सड़क जाम कर आवागमन को ठप कर दिया ।सदर डीएसपी राजन सिन्हां घटनास्थल पहुंचकर ग्रामीणों को काफी समझा-बुझाकर जाम को हटवाया उसके बाद आवागमन सामान्य हुआ।

गोपाल की मां दहाड़ मार कर रोते हुए बोल रही थी कि अब हमरा केय माय कहते हो बेटा :-
अपने पुत्र के शव सदर अस्पताल से आने के बाद उसके शरीर में लिपटकर मृतक गोपाल की माँ दहाड़ मार कर रोते हुए कह रही थी कि अब हमरा केय माय कह तय हो बेटा।आब हम चाय केकरालय बनैवैय हो बेटा।वहीं उसकी पत्नी अनुराधा देवी का भी हाल रो-रो कर खराब था।उसके 4 साल का इकलौता पुत्र राजू कुमार अपने पापा के शव के पास बैठकर यह कह रहा था कि मम्मी पापा को उठाओ ना, मुझे कब घुमाने डिज्नीलैंड बेगूसराय ले जायेंगे।

घटना का तार जमीनी विवाद से जुड़ा लगता है :- 
अमरौर किरतपुर गांव के ग्रामीण लोग अपनी दबी जुबान से इस घटना के बारे में पूछने पर बता रहे थे कि एनएच 31 के पास  राज हंस ढ़ाबा होटल मृतक गोपाल कुमार और उसके भाई नवीन सिह और सुधीर सिंह तीनो का है।होटल का जमीन लगभग 1 बीघा से ऊपर है। इधर कुछ दिन पहले होटल के जमीन का कुछ हिस्सा गोपाल सिंह बेचना चाह रहे थे।उस जमीन को उनके सगे संबंधियों के द्वारा उस जमीन को बेचने से मना किया जा रहा था। जिसे गोपाल सिंह नहीं मान रहे थे।हो सकता है इसी रंजिश में उसकी हत्या गोली मारकर की गई हो।आखिर मामला जो भी हो न हो वह तो पुलिस के तफ्तीश में सामने शीध्र आ ही जाएगी।

मृतक गोपाल सिंह के बड़े भाई नवीन सिंह ने कहा हम लोगों को किसी से कोई दुश्मनी गांव में नहीं है :- 
मृतक गोपाल सिंह के बड़े भाई ने पूछने पर बताया कि अंग्रेजी ढाला एनएच 31 के पास आजगैवी नाथ शिव मंदिर पर से बीती रात मेरा भाई गोपाल ने मंदिर पर बाजा खरीदकर लगाया था।करीब वहाँ से 11:00 बजे रात में अपने घर पर आया । उस समय घर के अंदर महिलाएं लोग आगामी होने वाले वट सावित्री पूजन को लेकर गीत गा रही थी।रात के लगभग 12:00 बजे के करीब मेरी माँ ने मेरे भाई को खाना खिलाया।उसके बाद मेरा भाई सो गया।यह घटना लगभग 1:00 से 2:00 के बीच रात की है।उसी बीच किसी अज्ञात बदमाशों ने मेरे भाई के पास पहुंचकर उसके सिर में पिस्टल सटाकर गोली मार दिया और उसकी मौत घटनास्थल पर ही हो गई।मेरा गाँव में किसी भी व्यक्ति से कोई दुश्मनी फिलहाल नहीं है।

एसपी अवकाश कुमार के पूछने पर  बताया :- एसपी अवकाश कुमार ने पूूूछने पर बताया कि गोपाल सिह की हत्या की पुष्टि हो गयी है।उसकी हत्या बदमाशों ने गोली मारकर किया है।इस घटना में अमरौर किरतपुर गाँव के ही एक युवक को पूछताछ के लिए थाना पर लाया गया है।किन्तु अभीतक परिजनों के द्वारा एफ आई आर दर्ज करने के लिए लिखकर नहीं दिया गया है।

 एफ आई आर दर्ज होते ही शीघ्र ही कार्रवाई की जाएगी।
जिला के भाजपा कार्यकर्ताओं ने मृतक के पार्थिव शरीर पर भारतीय जनता पार्टी का झंडा ओढाकर अपने नम आँखों से दी अंतिम विदाई।जिला भारतीय जनता पार्टी के मंडल अध्यक्ष अमिया रंजन पोदार, दानी शंकर सिंह ,अमरेंद्र कुमार अमर,कृष्ण मोहन पप्पु ,रौनक कुमार,कुंदन भारती,दयाशंकर सिंह,वशिष्ठ नारायण सिंह,डॉक्टर पवन कुमार बवन,पंसस देवेंद्र सिंह,जिला परिषद सदस्य ऋषि भारती, निगम पार्षद रामविलास सिंह व भाजपा के वरिष्ठ नेता सर्वेश सिंह ने गोपाल सिंह के पार्थिव शरीर पर भारतीय जनता पार्टी का झंडा ओढाकर सदर अस्पताल बेगूसराय में  नम आंखों से अंतिम विदाई दी।भाजपा के वरिष्ठ नेता सर्वेश सिंह ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि आज पूरे जिले भर के भाजपा परिवार के हम सभी लोग मृतक के परिजनों के साथ इस दुःख की घड़ी में खड़े हैं।  उन्होंने कहा समाज ने एक अच्छे इंसान को खो दिया है। आज पूरा समाज, गाँव और पंचायत भर के लोग इस घटना से स्तब्ध हैं। किसी को कुछ समझ में नहीं आ रहा है कि ऐसे इंसान के साथ किसी से दुश्मनी नहीं थी, ऐसे कैसे हो सकता है।निश्चित रूप से जिले में फिलहाल अपराधियों का मनोबल बहुत बढ़ा हुआ है।प्रशासन को इसमें अपने धर्म का कर्तव्य का निर्वहन करना होगा।हम सबों के लिए इस तरह के कार्यकर्ता के चले जाने से पूरे भाजपा परिवार के सभी लोग काफी दुखी हैं। 

गाँव के सामाजिक काम में गोपाल सिंह बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया करते थे :-- मृतक गोपाल सिंह एक भारतीय जनता पार्टी के वफादार कार्यकर्ता के साथ साथ एक सामाजिक कार्यकर्ता भी थे।उन्होंने एनएच 31 अंग्रेजी ढाला के पास वर्ष 2002 में शिव मंदिर का स्थापना कर नव निर्माण शुरू किया और 4 फरवरी 2019 को शिव मंदिर में मूर्ति स्थापित कर प्राण प्रतिष्ठा कराया।उसने अमरौर किरतपुर गाँव के अलावे कई अन्य गाँव के लोगों से चंदा मांग कर भव्य और सुंदर बाबा का शिव मंदिर का निर्माण कराया था। मृतक गोपाल सिंह ने 2013 में एक गरीब और निस्सहाय लड़की अनुराधा कुमारी के साथ दहेज मुक्त शादी भी गढ़पुरा हरिगिरी धाम शिव मंदिर के प्रांगण में करवाया था।मृतक ने अपने पीछे एक 4 वर्षीय पुत्र राजकुमार को छोड़कर चला गया। वह हमेशा सामाजिक सरोकार से जुड़ा रहता था।उसने एक वर्ष पहले अपनी भतीजी पूजा कुमारी की शादी बड़े ही धूमधाम से अपने घर पर किया था। जिसमें लगभग एक सौ निस्सहाय गरीब लोगों के बीच कंबल वितरण कर उसे भोजन भी कराया था।भाजपा का एक वफादार सिपाही के रूप में कार्य करते रहे। वह हमेशा हसमुख और मृदुभाषी लड़का था।गोपाल सिंह की हत्या की खबर मिलने के बाद पूरे अमरौर किरतपुर गाँव के लोग मर्महत हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...