झारखण्ड : गरीबों को नहीं चाहिए चौकीदार : राहुल गाँधी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 7 मई 2019

झारखण्ड : गरीबों को नहीं चाहिए चौकीदार : राहुल गाँधी

poor-dont-need-chukidar-rahul-gandhi
चाईबासा (झारखंड) सात मई, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को यहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा, ‘‘गरीबों को चौकीदार नहीं चाहिए।’’  कांग्रेस की सिंहभूम लोकसभा क्षेत्र से उम्मीदवार मधु कोड़़ा की पत्नी गीता कोड़ा के पक्ष में आज यहां चुनावी सभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने व्यंग्य करते हुए कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आपके चौकीदार नहीं हैं वे अनिल अंबानी की चौकीदारी करते हैं।’’  राहुल गांधी ने कहा कि पांच साल पहले मोदी जी ने कहा था कि मुझे प्रधानमंत्री नहीं, चौकीदार बनाओ। जनता ने उन्हें प्रधानमंत्री चुन लिया लेकिन उन्होंने चौकीदारी बंद कर चोरी कर ली।  उन्होंने कहा कि गरीबों के घर के बाहर कभी चौकीदार नहीं होता। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आपके चौकीदार नहीं हैं, वे अनिल अंबानी की चौकीदारी करते हैं। उन्होंने कहा कि आपके जल, जंगल और जमीन को प्रधानमंत्री ने अमीरों को देने का काम शुरू कर दिया। प्रधानमंत्री मोदी जी कहते हैं कि आदिवासियों की रक्षा करूंगा लेकिन पैसा, कानून, जमीन अधिग्रहण और पंचायती राज व्यवस्था को उन्होंने बदलने की भरसक कोशिश की है। 

राहुल गांधी के साथ मंच पर झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन, कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और लोहरदगा से उम्मीदवार सुखदेव भगत, बंधु तिर्की और सुबोधकांत सहाय मौजूद थे।  राहुल ने कहा कि छत्तीसगढ़ के बस्तर में कांग्रेस पार्टी ने पहली बार आदिवासी भाइयों के लिए यह निर्णय लिया कि आदिवासियों से जमीन ली जाएगी तो उनसे पूछ कर ली जाएगी। अगर आदिवासी भाई नहीं चाहेंगे तो उनसे कोई भी सरकार जमीन नहीं ले पाएगी। अगर किसी भी उद्योगपति ने आदिवासी से जमीन ली तो उन्हें चार गुना ज्यादा पैसा देना पड़ेगा। कांग्रेस ने कानून लाया कि पांच साल तक कोई भी उद्योगपति जमीन अपने पास रखता है और उस पर कोई कंपनी, फैक्ट्री आदि नहीं लगाई तो वह जमीन फिर से उन्हें आदिवासी भाइयों को लौटा देनी होगी। राहुल ने कहा कि मोदी जी आदिवासियों का हितैषी बनने की कोशिश करते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है।  राहुल ने कहा ‘‘पांच साल में आपकी जेब से चोरी कर ली गई। नोटबंदी करके आपको बैंक की लाइन में खड़ा कर दिया। माता-बहनों के घर से पैसा निकाल लिया। लाखों-करोड़ों रुपया आदिवासी, मजदूर, किसान के घर से निकाल कर चौकीदार ने उद्योगपतियों के जेब में डाल दिया। अब और क्या करना चाहते हैं मोदी जी?’’  राहुल गांधी ने न्याय योजना का विवरण देते हुए एक बार फिर कहा कि कांग्रेस सरकार में आई तो आपकी जिंदगी बदल जाएगी। न्याय योजना गरीब आदिवासियों के लिए बहुत उपयोगी होगी। कहा कि नरेंद्र मोदी ने लाखों करोड़ रुपया 20 से 25 उद्योगपतियों को दिया है। कांग्रेस पार्टी ने निर्णय लिया कि लाखों करोड़ रुपया 25 करोड़ जनता के खाते में जाएगा और यह न्याय योजना के तहत हो पाएगा। 

उन्होंने कहा कि न्याय योजना गरीबी के लिए सर्जिकल स्ट्राइक है। सबसे ज्यादा झारखंड के मजदूरों, किसानों और गरीब आदिवासियों को इसका लाभ होगा। राहुल ने कहा कि 22 लाख सरकारी नौकरियां खाली पड़ी हैं। 10 लाख युवाओं को पंचायतों में रोजगार मिलेगा। लेकिन पंचायत व्यवस्था को तो नरेंद्र मोदी की सरकार ने चौपट कर के रख दिया। उन्होंने कहा कि मैंने राजस्थान के विधानसभा चुनाव में कहा था कि 10 दिन के अंदर किसानों का कर्जा माफ होगा और वहां दो दिन के अंदर किसानों का कर्जा माफ हुआ।  उनकी सभा में कांग्रेस प्रत्याशी गीता कोड़ा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी झूठ की राजनीति करती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झूठ पर ही टिके हुए हैं। लेकिन झूठ की सरकार कब तक चलने वाली है। जनता पांच साल में भाजपा सरकार को केंद्र और राज्य में देख चुकी है। कल ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आदिवासी हित में बातें कीं। लेकिन उनकी सरकार ने किस प्रकार आदिवासियों के विरोध में कानून लाया उस पर वह क्या कहेंगे? हजारों करोड़ रुपये के भ्रष्टाचार के मामलों में सजायाफ्ता मधु कोड़ा की पत्नी गीता ने कहा कि इस बार बीजेपी को बोरिया बिस्तर समेट कर भेजना है।  सोमवार को इसी स्थान पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जनसभा हुई थी।  कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डॉ अजय कुमार ने कहा कि राहुल के कार्यक्रम को विफल करने के लिए झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास चाईबासा में कैंप किए हुए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि सभा स्थल से काफी दूरी पर गाड़ियों को प्रशासन के द्वारा रोक दिया जा रहा है। जिससे कार्यकर्ताओं को आने में काफी परेशानी हो रही है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...