पूर्णिया : 25 वर्षों से जर्जर सड़क होकर जाने को मजबूर है काझा बाजार की जनता - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 5 मई 2019

पूर्णिया : 25 वर्षों से जर्जर सड़क होकर जाने को मजबूर है काझा बाजार की जनता

rods-purnia
पूर्णिया (आर्यावर्त संवाददाता) : जिले के केनगर प्रखंड के काझा बाजार से उत्क्रमित उच्च विद्यालय काझा जाने वाली मुख्य सड़क पिछले 25 वर्षो से इस कदर जर्जर है कि पैदल चलना भी मुश्किल है। हल्की बारिश होने पर सड़क इस कदर कीचड़मय हो जाती है कि स्कूल जाने वाले छोटे छोटे बच्चों को स्कूल जाने में काफी परेशानी उठानी पड़ती है। यहां के त्रिपुरारी शर्मा ने बताया कि काझा बाजार से उत्क्रमित उच्च विद्यालय काझा जाने वाली सड़क पिछले 25 वर्षों से जर्जर स्थिति में है। बच्चों को स्कूल जाने में बहुत कठिनाई होती है। आजतक किसी जनप्रतिनिधियों ने इस पर ध्यान तक नहीं दिया। उन्होंने बताया कि जो भी जनप्रतिनिधि जीतकर जाते हैं सभी शहर को चमकाने में पांच साल का समय गंवा देते हैं। गांव वालों को देखने वाला कोई नहीं होता है। यहां के सदानंद शर्मा ने बताया कि बीती रात से यहां हल्की बारिश हो रही है। इस हल्की बारिश के बाद उक्त सड़क पर चलना मुश्किल हो गया था। बच्चों को स्कूल पहुंचाने में बहुत परेशानी का सामना करना पड़ा। स्थानीय ग्रामीण बिंदेश्वरी पासवान, जनार्दन पासवान, तीरथ पासवान, गीता ऋषि, हीरालाल ऋषि ने बताया कि उक्त ईंट सोलिंग सड़क का निर्माण 1993-94 में करवाया गया था। उसके बाद आजतक किसी भी जनप्रतिनिधि द्वारा सड़क के जीर्णोद्धार की दिशा में प्रयास नहीं किया गया। लोगों ने बताया कि सड़क निर्माण को लेकर कई बार जिलाधिकारी से लेकर सांसद व विधायक को आवेदन भी दिया गया है लेकिन सिर्फ आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला। यहां के लोगों ने यह भी बताया कि चुनाव के समय सभी पार्टी के नेता व कार्यकर्ता वोट मांगने आते हैं और कहते है कि मुझे वोट करो हम आपकी सभी समस्या को दूर करेंगे। चुनाव जीतने के बाद कोई जनता से पूछने तक नहीं आता है। नेता अपने वायदे भूल जाते हैं। गोपी प्रसाद  स्वर्णकार, राजेंद्र मंडल, सत्यनारायण पासवान, कुमोद कुमार, रविंद्र प्रसाद साह का कहना है कि वर्तमान समय में इस सड़क की हालत इतनी खराब हो चुकी है कि सड़क पर दो से तीन फीट जगह जगह गड्‌ढ़े बन गए हैं। बरसात के दिनों में सड़क पर पानी जमा हो जाता है। विद्यालय जाने की यह मुख्य सड़क है। काझा स्कूल में प्रतिदिन चार सौ से पांच सौ छात्र छात्राएं पढ़ने इसी होकर आते जाते हैं। यहां के मुखिया बैद्यनाथ साह ने बताया कि उक्त सड़क निर्माण को लेकर वे पिछले तीन वर्षों से यहां के जनप्रतिनिधि के संपर्क में हैं लेकिन अबतक सड़क का किसी ने जीर्णोद्धार नहीं किया है। उन्होंने बताया कि बरसात के दिनों में उक्त सड़क पर पैदल चलना दूभर हो जाता है। जर्जर सड़क के कारण बरसात के दिनों बच्चे स्कूल तक नहीं जा पाते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...