विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 26 मई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 26 मई 2019

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 26 मई

ईश्वरीय भक्ति, साधना, ध्यान, परोपकार से कल्याण : अंकितकृष्ण तेनगुरिया
अटारीखेजड़ा में सात दिवसीय भागवत कथा का विशाल भंडारे के साथ समापन
vidisha news
विदिशा- ग्राम अटारीखेजड़ा के संकटमोचन हनुमान मंदिर में सात दिवसीय संगीतमय श्रीमद्भागवत कथा महोत्सव का रविवार को विशाल भंडारे के साथ समापन हुआ, इस विशाल भंडारे में ग्राम वासियों के साथ-साथ क्षेत्रवासियों ने बड़ चढ़कर हिस्सा लिया। अंतिम दिन कथावाचक अंकितकृष्ण तेनगुरिया को सुनने के लिए श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ा। बटुकजी ने इस मौके पर सुदामा चरित और परीक्षित मोक्ष की कथायें सुनाई। इन कथाओं को सुनकर भक्त भाव विभोर हो गए। महाराजश्री ने कहा कि ससांरिक कार्य करने के बाद पश्चाताप हो सकता है, परन्तु ईश्वरीय भक्ति, साधना, ध्यान, परोपकार से पश्चाताप नहीं बल्कि कल्याण होता है। , आनन्द, आत्म संतोष की अनुभूति प्राप्त होती है। मथुरा गमन, दुष्ट कंसराजा के अत्याचार से मुक्ति के लिए कंसबध, कुबजा उद्धार की कथा में लोगों को भक्तिरस में डुबो दिया । महाराज ने बताया कि सुदामा पत्नी को श्री कृष्ण से मित्रता के बारे में बताते थे। इस पर उनकी पत्नी ताना देती थी कि आपके मित्र राजा हैं फिर भी आपकी सहायता नहीं करते। इस पर सुदामा चुप हो जाते थे। क्योंकि उनके मन में इसकी शंका रहती, पता नहीं कृष्ण पहचानेंगे भी या नहीं। एक दिन पत्नी के कहने पर वह मित्र से मिलने के लिए चल दिए। द्वारका में श्री कृष्ण के महल के द्वार पर पहुंच जाते हैं। द्वारपाल जैसे ही श्री कृष्ण को सुदामा के आने की सूचना देते हैं तो प्रभु दौड़कर पहुंच जाते हैं। कृष्ण-सुदामा के मिलन के इस प्रसंग को गायन के माध्यम से भी सुनाया। सांची के प्रसिद्ध भजन गायक राजा विश्वकर्मा, राहुल विश्वकर्मा और पवन पेड की संगीतमय मंडली की प्रस्तुत भजनों से भक्त भक्ति में डूब गए। कथा समापन के अवसर पर मुख्य यजमानोें द्वारा यज्ञ में पूर्णाहूति छोड़ी गई। अंत में कथावाचक गौवत्स पंडित अंकितकृष्ण महाराज ने आचार्य पंडित सतेंद्र, पंडित गणेशराम महाराज के साथ ही आयोजन समिति और सभी ग्रामवासियों का आभार जताया, सफल आयोजन के लिए बड़ी संख्या में पधारे क्षेत्रवासियों से भी इसी तरह धार्मिक कार्यों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने का आग्रह किया। संकटमोचन हनुमान मंदिर के पुजारी महेश महाराज ने कथा में सहयोग देने वाले सभी ग्रामवासियों का आभार जताया ।इस मौके पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राकेश कटारे भी भागवत कथा में शामिल होकर व्यास गादी की आरती की। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...