सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 26 मई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 26 मई 2019

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 26 मई

जिला अस्पताल के है हाल बेहाल, मरीजों को नहीं मिल रहा है सहीं उपचार 
वर्षो से पदस्थ डॉक्टरों के द्वारा की जा रहीं  मोटी कमाई करेंगे जांच और हटाने की मांग
sehore news
सीहेार। जिला अस्पताल में वर्षो से पदस्थ डॉक्टरों की मनमानी और उनके द्वारा नियम कायदों को तांक पर रख बेखौफ होकर संचालित किए जा रहे निजी अस्पतालों मेडिकल स्टोर्स सहित पैथालोजी लेबों की जांच कराने और नये डॉक्टरों को पदस्थ कर दोषी पूराने डॉक्टरों को हटाने की मांग जिला कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष राहुल यादव के द्वारा स्वास्थ्य विभाग के मंत्री तुलसीराम सिलावट से की जाएंगी। श्री यादव ने कहा की जिले में स्वस्थ्य सेवाओं के हाल बेहाल है। जिला अस्पताल में वर्षो से पदस्थ डॉक्टर मोटी कमाई कर रहे है। ट्रामा सेंटर से कई बार मरीजों को जबरन शहर के निजी अस्पतालों में कमीशन के लिए भेज दिया जाता है। गंभीर अवस्था नहीं होने पर भी समान्य मरीजों को भोपाल रेफर कर दिया जाता है। जिला अस्पताल में डॉक्टर जमकर मनमानी पर उतर आए है। कई बार जिला अस्पताल के डॉक्टरों की लापरवाही से प्रसूताओं की मौत भी हो चुकी है। डॉक्टरों के द्वारा अस्पताल पहुंचने वाले दूर दराज के ग्रामीणों के साथ दुव्र्यवहार भी किया जाता है। जिस से मरीजों और उन के परिजनों को अपमानित होना पड़ता है। अस्पताल के सभी वार्डो में अव्यवस्था का आलम पसरा हुआ है। सीएमएचओ और जिला अस्पताल के सिविल सर्जन अस्पताल की अव्यवस्थाओं को लेकर गंभीर नहीं है। जिस कारण अस्पताल के डॉक्टर और अन्य स्टाप कर्मचारी लापरवाह हो गए है। अस्पताल में डॉक्टर तय वक्त पर आते भी नहीं है वार्डो में भर्ती मरीज और ओपीडी में पहुंचने वाले मरीज भी परेशान होते है। अस्पताल में भती मरीजों मुताबिक तय मानक का भोजन भी नहीं दिया जा रहा है अस्पताल में पीने का पानी भी उपलब्ध नहीं है। वार्डो में शौचालय नहीं होने से भी मरीजों और परिजनों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...