बिहार : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लिखे खून से खत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 27 जून 2019

बिहार : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लिखे खून से खत

  • प्लीज! राहुल जी अध्यक्ष पद संभाल लीजिए 
लोक सभा के चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में पसीना बहाने वाले कार्यकर्ताओं की करारी हार हुई है। इसके आलोक में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नैतिकता के आधार पर अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। कांग्रेस अध्यक्ष अडिग हैं कि वे अध्यक्ष का पदभार ग्रहण नहीं करेंगे। चुनावी मैदान में पसीना बहाने वाले कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने कागज पर भावनाओं को रक्त बहाकर लिखा है। प्लीज! राहुल जी अध्यक्ष पद से मोहभंग नहीं करें। कांग्रेस और आम आदमी को ख्याल में रखकर अध्यक्ष पद संभाल लें। बिहार के 38 जिले के कांग्रेसियों ने रक्त-पत्र पर पदभार ग्रहण कर लेने का आग्रह लिखा है। 

bihar-congress-write-blood-letter-to-rahul-gandhi
पटना,27 जून। आज बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के मुख्यालय, सदाकत आश्रम में बिहार प्रदेश युवा कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष, अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के सदस्य कुमार आशीष सैकड़ों युवा साथियों के संग कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाम रक्त-पत्र लिखकर उनसे पार्टी का अध्यक्ष बने रहने का प्रार्थना किया। इस पत्र को राहुल गांधी जी के पास भेजने के लिए बिहार प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डाॅ. मदन मोहन झा को सौंपा गया। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता राजेश राठौड़ ने बताया कि इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष डाॅ. मदन मोहन झा ने कहा कि आदरणीय राहुल गांधी जी के लिए, बिहार कांग्रेस के नवजवान साथियों का लिखित रक्त-पत्र से ज्यादा कोई दूसरा भावनात्मक अपील नहीं हो सकता। साथ ही बिहार कांग्रेस का अपील है कि राहुल गांधी ही अध्यक्ष बने रहे। इस मौके पर आशीष ने कहा कि ऐसे समय में जब कांग्रेस पार्टी को सबसे बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा और ऐसे समय में जब हमारा देश लोकतंत्र के विचार की रक्षा करने के लिए जूझ रहा था, राहुल गांधी जिन्होंने सत्य, न्याय,एकता और प्रेम के लिए खड़े होने के लिए कांग्रेस पार्टी को एक साहसिक नेतृत्व दिया। कांग्रेस चुनाव हार गई है,लेकिन हमारा अदम्य साहस, संघर्ष के लिए भावना और सिद्धांतों के प्रति प्रतिबद्धता पहले की तुलना में मजबूत है। राहुल गांधी कांग्रेस पार्टी हमेशा नफरत और विभाजन की ताकतों से लड़ने के लिए प्रतिबद्ध है। अब जब हम संघर्ष की राह में है तो युवाओं का मानना है कि राहुल गांधी को भारत और लोकतंत्र की रक्षा के लिए और हमारे देश के आम आदमी के लिए खड़े होने के लिए अपनी लड़ाई में पार्टी का नेतृत्व जारी रखना चाहिए। रक्त-पत्र लिखने वाले में विधायक अमित कुमार ‘टुन्ना‘,राजेश राठौर, चुन्नू सिंह, मृगाल,मृगेंद्र सिंह, सौरभ सिन्हा, बंटी यादव,सतेन्द्र बहादुर, सिद्धार्थ छत्रिय,नीरज यादव,शशि यादव,राकेश यादव, मनिष सिन्हा, दौलत इमाम, यासिर, अल्तमश, नितेश, जय किशन, सिसिल साह समेत सैकड़ों युवाओं ने भाग लिया। गौरतलब हो कि बिहार के सभी जिला से युवाओं द्वारा रक्त-पत्र राहुल गांधी को भेजे गए। हमारा दृढ़ विश्वास है कि मजबूत लड़ाई के लिए नेतृत्व देने के लिए केवल राहुल गांधी ही सबसे अधिक सक्षम   है  । भले ही यह तथ्य है कि कांग्रेस पार्टी को राष्ट्रीय स्तर पर एक हार का सामना करना पड़ा था,लेकिन अतीत में भी ऐसा हुआ था, जहां से पार्टी नए सिरे से उर्जा के साथ वापस आ गई थी। सांम्प्रदायिक ताकतों की जीत ने उन सभी के मन में आशंका और चिंता पैदा की है जो धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक मूल्यों में विश्वास करते थे। ऐसी स्थिति में यह राहुल गांधी ही है जिन्हें आगे से पार्टी का नेतृत्व करना चाहिए। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...