बैंकों और अर्थव्यवस्था पर श्वेतपत्र लाए सरकार : कांग्रेस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 5 जून 2019

बैंकों और अर्थव्यवस्था पर श्वेतपत्र लाए सरकार : कांग्रेस

congress-demand-white-paper-on-banking
नयी दिल्ली, 04 जून, कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी सरकार पर अर्थव्यवस्था को चौपट करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि बड़े घोटालों के कारण बैंकों की गैर निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) काफी बढ़ गयी है इसलिए भाजपा को अब जीत की खुमार से बाहर निकलकर देश के आर्थिक हालात पर श्वेतपत्र जारी करना चाहिए और स्थिति में सुधारने के लिए कदम उठाने चाहिए। कांग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने मंगलवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि पिछले पांच साल के दौरान 27 हजार 125 बैंक घोटाले हुए हैं जिनमें देश की जनता के एक लाख 74 हजार 790 करोड़़ रुपए फंस गये हैं। पिछले एक साल के दौरान देश में 6800 बैंक घोटाले सामने आए हैं जिनमें 71 हजार 500 करोड़ रुपए का गबन हुआ है। उन्होंने कहा कि सबसे पहले सरकार को स्वीकार करना चाहिए कि उसके शासन में ये घोटाले हुए हैं और फिर घोटाले रोकने के लिए उसे जरूरी कदम उठाने चाहिए। उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को देश की डूबती अर्थव्यवस्था को बचाने तथा भगोड़े बैंक घोटाले बाजों को विदेश भागने से रोकने के लिए जरूरी कदम उठाने चाहिए। बैंकों में बढ़ते एनपीए तथा घोटाले रोकने के लिए इसके निगरानी तंत्र को मजबूत किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार को बैंक घोटाले पर एक श्वेतपत्र जारी और घोटालेबाजों के नाम सरकार सार्वजनिक करना चाहिए। प्रवक्ता ने कहा कि भाजपा की पिछली सरकार के पांच साल के कार्यकाल में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की दर में अत्यधिक गिरावट आयी है और बेरोजगारी का स्तर 45 साल में उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है। सरकार अपनी कमियों को छिपाने के लिए लगातार सरकारी आंकड़ों काे छिपाती रही है लेकिन इस बार सूचना के अधिकार के तहत बैंक घोटालों को लेकर जो सूचना जुटायी गयी है वह देश की अर्थव्यवस्था के लिए सबसे घातक है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...