द्रमुक ने राहुल गांधी की तुलना नेहरू से की - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 1 जून 2019

द्रमुक ने राहुल गांधी की तुलना नेहरू से की

dmk-compare-rahul-to-nehru
चेन्नई, 31 मई, द्रमुक ने शुक्रवार को चुनावी राजनीति से परे राहुल गांधी की उनके उदार विचारों के लिए जवाहरलाल नेहरू से तुलना की और कहा कि कांग्रेस को राहुल जैसे खुले विचारों वाले शख्स की जरूरत है। लोकसभा चुनाव में हार के बाद राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष पद से हटने पर अड़े हैं और पार्टी के अधिकतर नेता उनसे इस फैसले को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। ऐसे में द्रमुक ने कहा, ‘‘राहुल की सियासी यात्रा जमीनी स्तर से कड़े संघर्ष वाली है। अगर ऐसा होगा तो जीत संभव है।’’  द्रमुक के तमिल मुखपत्र ‘मुरासोली’ ने अपने संपादकीय में लिखा कि कांग्रेस व्यापक आधार वाली पार्टी है और इसके नेतृत्व के लिए राहुल जैसा व्यापक सोच वाला शख्स जरूरी है। मुखपत्र ने लिखा कि राहुल ने चुनाव प्रचार में खुद को केवल चुनावी राजनीति तक सीमित नहीं किया। द्रमुक के अनुसार राहुल ने भारतीय समाज के बारे में चिंता भी जताई और धार्मिक बैर, आर्थिक असमानता और गरीबी जैसे अनेक पहलुओं पर भी अपना क्षोभ प्रकट किया।  द्रमुक के मुखपत्र ने लिखा कि वह दक्षिण और उत्तरी राज्यों के बीच सोच के अंतर को भी समझते हैं। द्रमुक ने कहा कि राहुल गांधी ने इस तरह जवाहरलाल नेहरू की सोच को परिलक्षित किया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...