बेगूसराय : लोक अदालत में 1750 मुकद्दमों का 10 करोड़ की जगह 07 करोड़ पर हुआ निपटारा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 14 जुलाई 2019

बेगूसराय : लोक अदालत में 1750 मुकद्दमों का 10 करोड़ की जगह 07 करोड़ पर हुआ निपटारा

lok-adalat-begusarai
अरुण कुमार (आर्यावर्त) जिला अदालत परिसर में शनिवार को आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल 1750 मामलों का हुआ निपटारा।जिसमें 10 करोड़ रुपये के विरुद्ध 07 करोड़ रुपये पर पक्षकारों के बीच समझौता हुआ और  3:30 करोड़ रुपये की वसूली की गई।वहीं 16 शिकायती केसों का निपटारा पक्षकारो के बीच हुआ जिसमें 75 लाख की राशि पर समझौता किया गया।इसके अलावा आज की लोक अदालत में बिजली,श्रम विभाग,ग्राम कचहरी टेलीफोन विभाग,सर्टिफिकेट केस,सहित आपराधिक एवं 107 और 144 के मामले भी निपटाये गये।सर्वाधिक मामले बैंक ऋण संबंधी ही आए थे।जिसमें पक्षकारों के बीच आपसी सहमति के आधार पर समझौता कराते हुए विवाद का निपटारा किया गया।हालांकि कुछ बैंक के अधिकारियों के अड़ियल रवैयों की वजह से काफी पक्षकारों को निराश होकर लौटना पड़ा।वैसे लोग बैंक वालों को ही कोसते नजर आए।वहीं दीवानी मुकदमों से संबंधित विवादों के निपटारे की कोई व्यवस्था नहीं होने के कारण काफी पक्षकारों को निराश होकर लौटना पड़ा।उन्होंने लोक अदालत के प्रति निराशा व्यक्त की।इसके पूर्व आज लोक अदालत का उद्घाटन जिला जज अशोक कुमार,एडीजे प्रथम धर्मशील श्रीवास्तव,एडीजे राज किशोर राय द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया।उद्घाटन के मौके पर जिला जज अशोक कुमार ने मध्यस्था के आधार पर मुकदमों के निपटारे किए जाने हेतु लोक अदालत की परिकल्पना को समुचित बताया,उन्होंने कहा कि इसका अधिकाधिक लाभ पक्षकारों को उठाना चाहिए जिससे अदालत पर मुकदमों का बोझ कम हो सके।उद्घाटन के मौके पर एडीजे पंकज मिश्रा,संतोष कुमार,दीपक भटनागर, प्रभात त्रिवेदी,हबीबुल्ला, सीजेएम ठाकुर अमन कुमार आदि न्यायाधीश मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...