विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 29 जुलाई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 30 जुलाई 2019

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 29 जुलाई

सेम्पल लेने हेतु दस्ता गठित

vidisha news
दूध एवं दूध से बने खाद्य पदार्थ के अलावा अन्य दैनिक उपयोगी खाद्य सामग्री की जांच पड़ताल और सेम्पल लेने के लिए जिले में दल गठित किए गए है। कलेक्टर श्री मयंक अग्रवाल के निर्देशो पर गठित दलों में राजस्व, पुलिस, पशु चिकित्सा और कॉ-आपरेटिव सेक्टर के अधिकारियों को शामिल किया गया है।  अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह ने बताया कि अब जिला मुख्यालय के साथ-साथ तहसील क्षेत्रों में अधिक से अधिक दूध एवं दूध से बने पदार्थो के नमूने लेने के लिए पृथक से पशु चिकित्सा विभाग और निकायों के स्वास्थ्य अधिकारियों की पृथक-पृथक टीम गठित की गई है।  टीएल बैठक में अपर कलेक्टर श्री सिंह ने खाद्य सुरक्षा के संबंध में किए जाने वाले विशेष प्रावधानों, अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत सम्पादित होने वाले कार्यो की जानकारी पावर प्रेजेन्टेशन के माध्यम से दी।  अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह ने बताया कि अनुविभाग स्तर पर एसडीएम की अध्यक्षता में एक समिति गठित की गई है जो अपने-अपने कार्यक्षेत्रों में सूचनाएं प्राप्ति के अलावा दूध एवं दूध से बने पदार्थो के सेम्पल लेने हेतु दस्ते को आदेशित करेगी। अधिनियम के तहत सेम्पल लेने के दौरान किन-किन बातो का विशेष ध्यान रखा जाए के संबंध में भी विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई है।  अपर कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि मानव जीवन को खतरा पहुंचाने वाले खाद्य पदार्थो की जांच पड़ताल अधिक से अधिक की जाए और सेम्पल प्रयोगशाला को भेजे जाएं। उन्होंने मुहिम के रूप में अधिक से अधिक सेम्पल लेने के निर्देश समस्त एसडीएम को दिए। उन्होंने कहा कि सभी एसडीएम एक अपने-अपने कार्यक्षेत्रों में कार्यवाही करें और मानव जीवन को प्रभावित करने वाले दुष्परिणाम खाद्य पदार्थो की अधिक से अधिक जांच करें।

आपकी सरकार आपके द्वारा तहत शिविर का आयोजन दो को

आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का विदिशा जिले में दो अगस्त से शुभांरभ होगा। उक्त कार्यक्रम के तहत विदिशा विकासखण्ड के ग्राम अहमदपुर कस्बा में शिविर का आयोजन दोपहर दो बजे से किया गया है।  कुटीर एवं ग्रामोद्योग, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा विभाग मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री हर्ष यादव भी कार्यक्रम में शामिल होंगे की जानकारी आज टीएल बैठक में अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह ने दी। प्रभारी कलेक्टर श्री मयंक अग्रवाल ने शिविर आयोजन की तिथि व स्थल का व्यापक प्रचार-प्रसार करने पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि शिविर आयोजन ग्राम सहित आस-पास ग्रामों में भी मुनादी कर सूचनाएं सम्प्रेषित की जाएं।  अपर कलेक्टर श्री सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि शिविर आयोजन ग्राम के आश्रित ग्रामों में प्रातः नौ बजे सभी जिलाधिकारी पहुंचेंगे और विभाग से संबंधित आमजनों की समस्याओं निराकरण करेंगे वही योजनाओंं से लाभांवित होने वाले हितग्राहियें का फीडबैक लेंगे। इसके पश्चात् दोपहर डेढ़ से पौने दो के बीच में शिविर आयोजन स्थल पर सभी विभागों के जिलाधिकारी पहुंचेगे। दो अगस्त की प्रातः नौ बजे जिला पंचायत में सभी अधिकारी उपस्थित होकर एक ही वाहन से शिविर की ओर रवाना होंगे।  ग्राम जैतपुरा, गोबरहेला एवं भाटनी इन तीन गांव मेंं अधिकारी पहुंचकर योजनाओं और विकास कार्यो के अलावा अन्य गतिविधियों का फीडबैक ग्रामीणजनों से संवाद स्थापित कर प्राप्त करेंगे। शिविर पूर्व भ्रमणित ग्रामों में राजस्व, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, खाद्य विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, कृषि, पीएचई, ऊर्जा, शिक्षा विभाग के अधिकारी विभागीय योजनाओं की अद्यतन जानकारियां प्राप्त करेंगे।  अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह ने शिविर आयोजन के पूर्व 31 जुलाई तक सभी विभागों के अधिकारी शिविर पूर्व ग्रामों में पहुंचकर विभागीय योजनाओं, कार्यक्रमों की जानकारियां अनिवार्यतः प्राप्त कर लें ताकि बड़ी समस्याओं से पूर्व में अवगत होकर निराकरण की पहल की जा सकें।  खण्ड स्तरीय शिविर में हितग्राहीमूलक योजनाओं को क्रियान्वित करने वाले विभागो के द्वारा छायाचित्र प्रदर्शनी लगाई जाएगी। वही आगंतुकों को योजनाओं पर आधारित साहित्य का वितरण किया जाएगा। शिविर स्थल पर पशु चिकित्सा विभाग द्वारा पशु उपचार तथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्वास्थ्य शिविर का भी आयोजन किया जाएगा। शिविर के मद्देनजर पूर्व में की जाने वाली तमाम व्यवस्थाओं के क्रियान्वयन हेतु नामदर्ज ड्यूटी लगाने के निर्देश एसडीएम को दिए गए है।

दस्तक अभियान का सक्रियता से क्रियान्वयन करें-कलेक्टर 

कलेक्टर श्री मयंक अग्रवाल ने आज टीएल बैठक में दस्तक अभियान के कार्यो की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश स्तरीय रेकिंग विदिशा चौथे स्थान पर था जो अब 38वें स्थान पर आ गया है। अभियान अंतर्गत आशातीत प्रगति परलिक्षित नही होने पर उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए है कि शत प्रतिशत डाटा पोर्टल पर दर्ज किया जाए ताकि रेकिंग में सुधार ऑन लाइन प्रदर्शित हो सकें।  स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केसी अहिरवार ने बताया कि जिले की सभी आशा कार्यकर्ताओं के लिए टेबलेट प्रदाय किए गए है ताकि ऑन लाइन रिकार्ड दर्ज करने में सहूलियत हो सकें। उन्होंने बताया कि अभियान के तहत सम्पादित कार्य जो आफ लाइन है उसे आन लाइन करने पर पुरजोर दिया जा रहा है। 

गौ-शाला की प्रगति का जायजा

कलेक्टर श्री मयंक अग्रवाल ने आज टीएल बैठक में गौ-शाला की अद्यतन प्रगति का जायजा तहसीलवार लिया। उन्होंने समस्त एसडीएमों से कहा कि गौ-शाला सुव्यवस्थित रूप से संचालित हो इसके लिए स्थानीय स्तर पर गठित की जाने वाली समिति का चिन्हांकन शीघ्रतिशीघ्र करें ताकि समिति अपने दायित्वों के तहत गौ-शालाओं के संचालन के कार्यो की शुरूआत कर सकें। कलेक्टर श्री अग्रवाल ने कहा कि प्रत्येक गौ-शाला में बिजली और पानी की उपलब्धता पूर्व में ही सुनिश्चित की जाए। राज्य सरकार के महत्वकांक्षी इस कार्यक्रम हेतु जो गाइड लाइन, मापदण्ड जारी किए गए है का अनुपालन कर गौ-शालाओं का संचालन किया जाए। बैठक में पशु चिकित्सा विभाग के उप संचालक द्वारा गौ-शाला संचालन हेतु जारी गाइड लाइन के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी दी है। 

बाढ़ नियंत्रण उपायों का क्रियान्वयन मुस्तैदी से करें

अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह ने टीएल बैठक में समस्त एसडीएमों को निर्देश दिए कि कार्यक्षेत्रों में बाढ़ नियंत्रण के मद्देनजर किए जाने वाले उपायों का क्रियान्वयन मुस्तैदी से करें। उन्होंने कहा कि उपरी क्षेत्र में बारिश होने से बारिश का जल बेतवा नदी से आगे बहता है यही कारण है कि जिले में कम बारिश होने के बाबजूद बेतवा नदी का बहाव शुरू हो गया है।  अपर कलेक्टर श्री सिंह ने बेतवा नदी में जिन जिलों का पानी आता है उन जिलो के कंट्रोल रूप से सतत सम्पर्क बनाए रखने की समझाईश देते हुए बाढ नियंत्रण के लिए कि गई पूर्व तैयारियों के अनुरूप कार्ययोजना बनाई गई है ताकि आवश्यकता पड़ने पर पीड़ितों को त्वरित सहूलियते प्रदाय की जा सकें। उन्होंने जिले के समस्त बांधो, नदी, नालो के जल स्तर पर सतत नजर रखने के निर्देश संबंधितो को दिए है। 

आवेदनों पर त्वरित कार्यवाही 

कलेक्टर श्री मयंक अग्रवाल ने लंबित आवेदनों की समीक्षा में जिलाधिकारियों से कहा कि ऐसे आवेदन जिन पर कार्यवाही संभव है उन मामलों में त्वरित कार्यवाही कर आवेदकों को लाभांवित करें। उन्होंने खासकर सीएम हेल्पलाइन के लंबित आवेदनों पर शीघ्र निराकरण करने के निर्देश विभागों के अधिकारियों को दिए है।  कलेक्टर श्री अग्रवाल ने कहा कि एल-फोर स्तर पर की गई फोर्सक्लोज आवेदनों को रिओपन कर यह अनिवार्यतः परीक्षण करें समस्या का हल संभव है तो उसे निराकृत करें ताकि फोर्सक्लोज किए गए आवेदनों की संख्या में कमी आ सके।  बैठक में विभिन्न आयोगों, जन सुनवाई, वरिष्ठ कार्यालयों से प्राप्त आवेदनों के अलावा पेपर कंटिग पर संबंधित विभागों के द्वारा की गई कार्यवाही की जानकारी प्रस्तुत की गई।  नवीन कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में सम्पन्न हुई उक्त बैठक में अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह, डिप्टी कलेक्टर श्री बृजबिहारी श्रीवास्तव, समस्त एसडीएम, तहसीलदार के अलावा विभिन्न विभागों के जिलाधिकारी मौजूद थे। 

ई फाईलिंग व्यवस्था का क्रियान्वयन सभी विभाग करेंगे

जिला कोषालय अधिकारी श्री उमेश श्रीवास्तव ने ई फाईलिंग नवीन व्यवस्था के तहत सम्पादित किए जाने वाले कार्यो की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि अब प्रत्येक लिपिक स्तर पर नोटशीट कागजों के माध्यम से प्रेषित नही की जाएगी बल्कि कम्प्यूटर पर दर्ज कर ई-मेल के माध्यम से आगे बढाई जाएगी। प्रत्येक लिपिक के लिए ई-मेल आईडी ईजात करने की बात कही है।  विभागों के आहरण अधिकारी ऑन लाइन प्राप्त नोटशीट के आधार पर बिलो को जनरेट करेंगे। उन्होंने बताया कि बीस हजार से अधिक राशि के बिलों में दस्तावेंज, संलग्न करना अनिवार्य है। ई-फाईलिंग व्यवस्था का क्रियान्वयन सुचारू रूप से हो सकें इसके लिए विभागो के अधिकारियों और लेखा कार्य को क्रियान्वित करने वाले लिपिक हेतु सात अगस्त से प्रशिक्षण का आयोजन किया गया है। उक्त प्रशिक्षण जारी सूची अनुसार ई दक्ष केन्द्र न्यू कलेक्ट्रेट भवन में प्रातः 11 बजे से शुरू होगा।  जिला कोषालय अधिकारी श्री श्रीवास्तव ने विभागों के अधिकारियों से आग्रह करते हुए कहा कि प्रशिक्षण हेतु जारी कार्यक्रम अनुसार संबंधित विभाग के अधिकारी व लेखा कार्य को सम्पादित करने वाले लिपिक दोनो शामिल होंगे ताकि ई फाईलिंग संबंधी नवीन व्यवस्था से बखूबी अवगत हो सकें।

पैरालीगल वॉलिन्टियर्स चयन हेतु आवेदन तीन तक आमंत्रित

जिला न्यायाधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री श्यामाचरण उपाध्याय के मार्गदर्शन में जिले में एक वर्ष के लिए पैरालीगत वॉलिन्टियर्स का चयन किया जाना है। अपर जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री डीपीएस गौर ने बताया कि पैरालीगत वॉलिन्टियर्स के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि तीन अगस्त नियत है। आवेदन का प्रारूप जिला न्यायालय विदिशा, कलेक्ट्रेट विदिशा, जिला पंचायत एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सूचना पटल पर चस्पा किया गया है।  अपर जिला न्यायाधीश श्री गौर ने बताया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के माध्यम से क्रियान्वित योजनाओं के संचालन एवं प्रचार-प्रसार के अलावा ग्राम एवं जनपदों में स्थापित किए जाने वाले लीगल एड  क्लीनिक, पुलिस थानो में समाज के कमजोर, पिछडे व्यक्तियों को सहायता एवं सलाह तथा गुमशुदा की सहायता करने हेतु एक वर्ष के लिए पैरालीगल वॉलिन्टियर्स का चयन किया जाना है। अपर जिला न्यायाधीश श्री गौर ने बताया कि पैरालीगल वॉलिन्टियर्स के चयन हेतु शासकीय और अशासकीय विद्यालय, महाविद्यालय के शिक्षकगण व लेक्चरार, आंगनबाडी कार्यकर्ता, प्रायवेट या शासकीय चिकित्सक, शासकीय सेवक, राज्य और संघ सरकार के विभिन्न विभागो एवं एजेन्सियों के क्षेत्र स्तर के अधिकारी, कानून शिक्षा एवं सामाजिक सेवाओं और मानवीकी में स्नातक एवं स्नातकोत्तर के छात्र, सामाजिक कार्यकर्ता और स्वंयसेवक, पंचायतराज और नगरपालिका का स्वंयसेवक, कॉपरेटिव सोसायटी के सदस्य एवं ट्रेड यूनियन के सदस्य आवेदन कर सकते है। ततसंबंध में अन्य विस्तृत जानकारी के लिए कार्यालय जिला विधिक सेवा प्राधिकरण विदिशा से कार्यालयीन दिवसों, अवधि में सम्पर्क कर सकते है। 

सोमवार को 34.8 मिमी औसत वर्षा दर्ज

जिले की तहसीलों में स्थापित वर्षामापी यंत्रों पर सोमवार को दर्ज की गई वर्षा की जानकारी देते हुए अधीक्षक भू-अभिलेख ने बताया कि 29 जुलाई की प्रातः आठ बजे रिकार्ड की गई वर्षा अनुसार 34.8 मिमी औसत वर्षा दर्ज हुई है।  सोमवार को सर्वधिक वर्षा लटेरी तहसील में 93 मिमी एवं न्यूनतम 14 मिमी विदिशा में दर्ज की गई है तदानुसार बासौदा में 40 मिमी, कुरवाई में 23 मिमी, सिरोंज में 75 मिमी, ग्यारसपुर में 18 मिमी तथा नटेरन में 15 मिमी वर्षा दर्ज की गई है जबकि गुलाबगंज में वर्षा नगण्य रही। 

काष्ठ आधारित उद्योगों के लिये समिति पुनर्गठित

राज्य शासन ने काष्ठ आधारित उद्योगों की राज्य-स्तरीय समिति का पुनर्गठन किया है। प्रधान मुख्य वन संरक्षक (उत्पादन) को समिति का अध्यक्ष मनोनीत किया गया है। समिति में केन्द्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के क्षेत्रीय कार्यालय का एक प्रतिनिधि, प्रधान मुख्य वन संरक्षक (कार्य आयोजना), संचालक, अपर संचालक उद्योग, प्रबंध संचालक संत रविदास हस्तशिल्प एवं हाथकरघा विकास निगम, प्रबंध संचालक वन विकास निगम और मुख्य वन संरक्षक अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक (विपणन) सदस्य होंगे। 

कृषक पुरस्कार हेतु आवेदन पत्र 16 अगस्त तक आमंत्रित

कृषि विस्तार सुधार कार्यक्रम (आत्मा) परियोजना के तहत वर्ष 2018-19 की गतिविधियों के आधार पर कृषक पुरस्कार, कृषक समूह पुरस्कार प्रदान किए जायेंगे। कृषकों द्वारा अपनाई गई कृषि तकनीक उपज एवं उत्पादकता के आधार पर किसानों को पुरस्कृत किया जायेगा। कृषकों एवं कृषक समूहों से पुरस्कार हेतु 16 अगस्त तक आवेदन पत्र आमंत्रित किए गए हैं।  कृषि, उद्यानिकी, पशुपालन, मत्स्य पालन, कृषि अभियांत्रिकी गतिविधियों में एक-एक कृषक को मूल्यांकन समिति की अनुशंसा पर 25-25 हजार तथा जिले के प्रत्येक विकासखण्ड में उक्त गतिविधियों में एक-एक कृषक को समिति की अनुशंसा पर 10 हजार रूपए का पुरस्कार प्रदान किया जायेगा। इसके साथ ही 5 गतिविधियों में एक-एक कृषक समूह को 20-20 हजार रूपए का पुरस्कार प्रदान किया जायेगा। पुरस्कार का निर्णय कलेक्टर एवं अध्यक्ष आत्मा गवर्निंग बॉडी का रहेगा।

महात्मा गांधी की 150वीं जयंती वर्ष के कार्यक्रम जनवरी 2021 तक

राज्य शासन ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती वर्ष के कार्यक्रम जनवरी, 2021 तक निरंतर जारी रखने का निर्णय लिया है। संस्कृति विभाग द्वारा कार्यक्रम का विस्तृत कैलेंडर अगस्त माह में जारी किया जायेगा। जयंती वर्ष के कार्यक्रम विगत 26 जनवरी से प्रदेश में आयोजित किये जा रहे हैं।

खगोलीय क्लब का गठन प्रारम्भ

खगोल विज्ञान के प्रति विद्यार्थियों में व्यवहारिक समझ एवं जागरूकता विकसित करने हेतु लोक शिक्षण संचालनालय म.प्र. भोपाल द्वारा विद्यालयों में खगोलीय क्लब गठन करने निर्देश जारी किये गये हैं। विद्यालय स्तर पर खगोलीय क्लब के गठन के लिये संस्था प्राचार्य उत्तरदायी होंगे। विद्यालयों में गठित खगोलीय क्लब के पंजीयन का दायित्व शासकीय जीवाजी वेधशाला उज्जैन को दिया गया है। विद्यालय स्तर पर क्लब गठन उपरांत निर्धारित प्रारूप में आवेदन करने पर जीवाजी वेधशाला द्वारा क्लब का पंजीयन कर पंजीयन क्रमांक आवंटित किया जाना है। वेधशाला द्वारा खगोलीय क्लबों का पंजीयन प्रारम्भ कर दिया गया है। 

अल्पसंख्यक वर्ग के छात्र-छात्राओं के लिए ऑन लाइन आवेदन आमंत्रित

शैक्षणिक सत्र 2019-20 के लिए अल्प संख्यक समुदाय (मुस्लिम, ईसाई, बौद्ध, सिख, जैन एवं पारसी) के छात्र-छात्राओं के लिये पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनांतर्गत कक्षा 11 एवं 12, आईटीआई डिप्लोमा, बीएड, एमफिल, पीएचडी, स्नातक, स्नातकोत्तर (तकनीकि एवं व्यवसायिक पाठ्यक्रमों को छोडकर) में अध्ययनरत नवीन एवं नवीनीकरण विद्यार्थियों के लिये दिनांक 31 अक्टूबर तक तथा प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनांतर्गत कक्षा 1 से 10 तक नवीन एवं नवीनीकरण के विद्यार्थियों के लिये दिनांक 15 अक्टूबर  तक ऑनलाईन आमंत्रित किये जा रहे है। शिक्षण संस्थाओं में अध्ययनरत अल्पसंख्यक वर्ग के छात्र-छात्राओं से कहा है कि वे छंजपवदंसैबीवसंतेपच च्वतजंस ;छैच्द्ध न्त्स्.ूूण्ेबीवसंतेपचेण्हवअण्पद लिंक पर जाकर निर्धारित समयावधि में नियमानुसार एवं पात्रतानुसार ऑनलाईन आवेदन कर प्राप्त प्रिंट ऑउट के साथ समस्त आवश्यक दस्तातवेज संलग्न कर अपनी अध्ययनरत संस्था में प्रस्तुत करे।

राष्ट्रीय बाल पुरस्कार के लिए आवेदन पत्र 31 अगस्त तक आमंत्रित

केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा उत्कृष्ट, असाधरण बच्चों, व्यक्तियों और संस्थाओं को सम्मानित किए जाने हेतु राष्ट्रीय बाल पुरस्कार स्थापित किया गया है। राष्ट्रीय बाल पुरस्कार के तहत बाल शक्ति पुरस्कार तथा बाल कल्याण पुरस्कार प्रदान किया जाता है। बाल शक्ति पुरस्कार के तहत एक लाख रूपए, प्रमाण-पत्र एवं मैडल प्रदान किया जाता है। बाल कल्याण पुरस्कार के तहत 5 लाख रूपए, प्रमाण-पत्र एवं मैडल से सम्मानित किया जाता है। बाल शक्ति पुरस्कार के विजेता बच्चों को दिल्ली में गणतंत्र दिवस की परेड में भी शामिल किया जायेगा। पुरस्कार के लिए मार्गदर्शिका तथा आवेदन के संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश भारत सरकार की वेबसाइटूूण्दबं.ूमकण्दपबण्पद पर देखी जा सकती है। ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 31 अगस्त 2019 निर्धारित है।

ग्रीन विदिशा अभियान के तहत कन्या महाविद्यालय में पौधरोपण हुआ

vidisha news
विदिशा जिले को हरा-भरा करने के लिए हर रोज ग्रीन विदिशा अभियान के तहत जिले के विभिन्न स्थलों पर एक साथ पौधरोपण कार्यक्रमों का आयोजन सतत जारी है। सोमवार को विदिशा मुख्यालय पर सांची रोड स्थित शासकीय कन्या महाविद्यायल परिसर में पौधरोपण कार्यक्रम सम्पन्न हुआ है।  विधायक श्री शशांक भार्गव तथा समेत अन्य जनप्रतिनिधियों ने पौधरोपण कार्यक्रम में सहभागिता निभाई है। पौधरोपण के दौरान विद्यालय प्रागंण में विभिन्न प्रजाति के सौ से अधिक पौधे रोपित किए गए है।  पौधरोपण कार्यक्रम में महाविद्यालय के एनसीसी, एनएसएस एवं ईको क्लब के तत्वाधान में आयोजित पौधरोपण कार्यक्रम में संस्था की प्राचार्य डॉ मंजू जैन, समाजसेवी श्री बसंत पीतलिया, श्री महेन्द्र यादव, श्री अजय कटारे, श्री संतोष गुप्ता, श्रीमती ज्योति सारस्वत, श्री दीवान किरार के अलावा मुक्तिधाम सेवा समिति के सचिव श्री मनोज पांडे तथा महाविद्यालय के प्राध्यापकगणों एवं छात्राओं ने सहभागिता निभाई।


अरिहंत बिहार कॉलोनी में मनाया कृष्ण-रुख्मणी विवाह उत्सव
भागवत कथा का आज (मंगलवार को) पूर्णाहूति के साथ होगा समापन
vidisha news
विदिशा- शहर की अरिहंत बिहार कॉलोनी में चल रही संगीतमय भागवत कथा में छठवे दिन कृष्ण-रुक्मणी विवाह उत्सव धूमधाम के साथ मनाया गया, इस दौरान कथावाचक अंकितकृष्ण तेनगुरिया ने श्रीकृष्ण के विवाह के प्रसंग पर प्रकाश डाला, इस अवसर पर श्रीकृष्ण और रुक्मणी की एक भव्य झांकी भी सजाई गई, जिसे देखने के लिए श्रद्धालुओं में होड़ मची रही और महाराजश्री द्वारा गाए भजनों पर सैकड़ों की संख्या में महिला-पुरूष कथास्थल पर झूमते-नाचते और गाते नजर आए । कथास्थल पर जय श्रीकृष्ण,राधे कृष्ण के जयकारे से माहौल भक्ति मय हो गया। अरिहंत बिहार कॉलोनी के हनुमान मंदिर परिसर में चल रही भागवत कथा में बटुकजी महाराज ने कहा कि श्रीकृष्ण और माता रुक्मणी का विवाह एक आदर्श विवाह है। रुक्मिणी साक्षात लक्ष्मी हैं श्रीकृष्ण साक्षात नारायण हैं। उन्होंने कहा कि भगवान कृष्ण को 16108 गोपियों ने अपने पति के रूप में प्राप्त कर लिया था। उनमें एक रुक्मणी भी थीं, रुक्मिणी जब विवाह योग्य हो गईं तो भीष्मक को उसके विवाह की चिंता हुई। रुक्मिणी के पास जो लोग आते-जाते थे, वे श्रीकृष्ण की प्रशंसा किया करते थे। वे रुकमणी से कहा करते थे, श्रीकृष्ण अलौकिक पुरुष हैं। इस समय संपूर्ण विश्व में उनके सदृश अन्य कोई पुरुष नहीं है। भगवान श्रीकृष्ण के गुणों और उनकी सुंदरता पर मुग्ध होकर रुकमणी ने मन ही मन निश्चय किया कि वह श्रीकृष्ण को छोड़कर किसी को भी पति रूप में वरण नहीं करेगी। जबकि रुक्मणी का भाई उनका विवाह शिशुपाल से कराना चाहता था लेकिन रुक्मणी श्रीकृष्ण को अपना पति मान चुकी थीं, उन्होंने जगत जननी मां दुर्गा की पूजा की तो कृष्ण ने तुरंत उनकी पुकार सुनी और रुक्मणी को पत्नी के रुप में स्वीकार किया।  कथास्थल पर प्रसिद्ध भजन गायक राजा विश्वकर्मा द्वारा विवाह के बधाई गीत गाए, जिन पर श्रद्धालु जमकर नाचे। महिला मंडल की प्रमुख हेमलता अगवाल ने भगवान की विधिविधान के साथ चरण पखारे । आचार्य आकाश दुबे ने बताया कि कल मंगलवार को कथा का समापन पर पूर्णाहूति होगी ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...