पूर्णिया : बांध की जांच किए बगैर नहरों में छोड़ दिया गया पानी, अब किसान बांध को दुरूस्त करने में जुटे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 10 जुलाई 2019

पूर्णिया : बांध की जांच किए बगैर नहरों में छोड़ दिया गया पानी, अब किसान बांध को दुरूस्त करने में जुटे

water-release-in-dam-purnia
श्रीनगर (आर्यावर्त संवाददाता) : प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत पंचायत झुन्नीकला से होकर गुजरने वाली नहर में पानी का दबाव इतना तेज हो गया है कि यह नहर का बांध टूट कर पानी किसानों के खेतों में जा रहा है। किसानों ने बताया कि पानी का बहाव जरूरत से ज्यादा है। जिस कारण बांध टूट कर उसके ऊपर से होकर पानी बहने लगा है। फिलहाल वहां के ग्रामीणों के द्वारा बांध पर मिट्टी, घास, बांस, बत्ती डालकर पानी को रोका जा रहा है। यदि ग्रामीण बांध पर मिट्टी न डाले तो बांध कभी भी टूट सकता है। जिससे आसपास के गांव को क्षति पहुंच सकती है और फसल भी बर्बाद हो सकती है। वहीं नहर का बांध टूटने की संभावना को देखते हुए वहां के ग्रामीण नहर के बांध पर मौजूद होकर हमेशा देखरेख कर रहे हैं और मिट्टी डाल रहे हैं। इसलिए ग्रामीणों ने अविलंब नहर विभाग के प्रशासन से जांच उपरांत समस्या के समाधान करने की मांग की है। इस दौरान झुन्नी कला के मुखिया कुंदन कृष्ण मोहन ने बताया कि नहर विभाग की लापरवाही के कारण ऐसा हुआ है। पंचायत की नहरों की सही समय पर जांच पड़ताल होती है। अगर ससमय जांच पड़ताल होगी तो कहां बांध टूटा है उसका पता चल जाएगा। वहीं दर्जनों किसानों ने बताया कि जब पानी की जरूरत होती है तो नहर में पानी नहीं रहता है। अब बरसात आ गया तो बिना जांच पड़ताल किए ही नहर में पानी छोड़ दिया गया है। जिससे उनकी मुसीबत बढ़ गई है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...