झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 14 सितंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 14 सितंबर 2019

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 14 सितंबर

मनकामेश्वर गणेषजी का सजाया गया साढ़े 6 लाख रू. नगद और 5 तोला सोने से, अभा क्षत्रिय महासभा (महिला) इकाई ने लिया बाप्पा की महाआरती का लाभ

झाबुआ। शहर के छोटे तालाब स्थित श्री मनकामेष्वर गणेष मंडल पर 11 दिवसीय गणेषोत्सव पर्व के नवे दिन बुधवार रात गणेषजी की भव्य प्रतिमा को श्री मनकामेष्वर गणेष मंडल के सभी सदस्यों ने करीब 6.50 लाख रू. के नोटों और 5 तोला सोने से सुंदर रूप से सुसज्जित किया। जिसके बाद बाप्पा का सुंदर एवं मनोहारी दृष्य देखने लायक था। बुधवार रात विघ्नहर्ता की महाआरती करने का लाभ अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा की जिला महिला इकाइ्र्र ने लिया। बुधवार को श्री मनकामेष्वर गणेष मंडल के सक्रिय सदस्यों में अरविन्दसिंह सांकला, प्रदीपसिंह सांकला, जगदीष पंवार, विक्रमसिंह सांकला, सुनिल पंवार, सुजानसिंह सांकला, मयंकसिंह, दिलीप कंडारा, राहुल राठौर, सौरभ राठौर, देवेन्द्र पूरी गोस्वामी, अर्पित चैहान, घनष्याम राठौर (रितिक भाई), पंकज चैहान, मोंटी तोमर, भावेष चावड़ा आदि ने गणेषजी की सुंदर एवं मनमोहक मूर्ति को सांकला परिवार के सौजन्य से करीब 6.50 लाख  के नोट जिसमें 10, 20, 50, 100, 200, 500 एवं 2000 रू. के नोटों से बाप्पा का सुंदर श्रृृंगार किया एवं रात में 5 तोला सोना से बाप्पा के गले, हाथ एवं पैरों की सुंदर सज्जा की गइ्र्र्र।

साढ़े 9 किलो लड्डूओं से तोला भाग्य वर्धनी को
बाद यहां मंडल के सक्रिय युवा सदस्य अरविन्द सांकला की सुुपत्री भाग्य वर्धनी सांकला को सांकला परिवार की ओर से तराजू में साढ़े 9 किलो लड्डूओं से तोला गया। तत्पष्चात् रात ठीक 9.15 बजे गणेषजी की महाआरती आरंभ हुई। जिसका लाभ अभा क्षत्रिय महासभा (महिला) की जिलाध्यक्ष डाॅ. अर्चना राठौर के नेतृत्व में संगठन मंत्री देवकन्या सोनगरा, कार्यकारिणी सदस्यों में दिपीका, स्वीटी चैहान, मोना (स्मृति) भट्ट सहित अन्य महिलाओं ने लिया। महाआरती में बड़ी संख्या में श्रद्धालुजन शामिल हुए। बाद महाप्रसादी के रूप में लड्डू, कैले और ककड़ी का वितरण समिति के सदस्यों ने किया। जिसका लाभ डाॅ. अर्चना राठौर ने लिया।

सार्वजनिक गणेष मंडल का ऐतिहासिक गणेष विसर्जन सम्पन्न
खाचरौद की अखाटा टीम ने हैरत अंगेज कारनामे प्रस्तुत कर आष्चर्य चकित कियाचलित झांकी को देखने उमडा राजवाडा पर पूरा शहरश्रीजी के विसर्जन के साथ ही 11 दिवसीय गणेषोत्सव का हुआ समापन
jhabua news
झाबुआ ।  राजवाडा चैक  में पिछले 85 वर्षो से मनाये जारहे सार्वजनिक गणेशोत्सव में गुरूवार की रात धुमधाम के साथ गणेश विसर्जन समारोह के अवसर पर  नयनाभिराम झांकियों व अखाडे के साथ नगर में जुलुस निकाला गया । मंडल के अध्यक्ष राजेन्द्र अग्निहौत्री एवं महा सचिव नानालाल कोठारी की अगुवाई में रात्री 8 बजे से निकले भव्य चल समारोह में नगर सहित आसपास के क्षेत्रों से आये गा्रमीणजनों ने भी भाग लिया । सायंकाल 7-30 बजे पण्डित जैमिनी शुक्ला एवं भागवत शुक्ला द्वारा मंत्रोच्चार के साथ श्रीगणेश जी के बिदाई के अवसर पर अभिषेक एवं पुजा अनुष्ठान संपन्न करवाया । तथा गणपति बप्पा मोरिया के गगनभेदी जयघोष के साथ भगवान को रथ में विसर्जन के लिये बिराजित किया गया । खचाखच भरे राजवाडा चैक पर खाचरौद से लाई गई भीम का अहंकार चुर करते हनुमान की स्वचालित झांकी की नगरवासियों ने भूरी भरूी प्रसंशा की ।उक्त पौराणिक प्रसंग को देख कर श्रद्धालुजनों को अहंकार के त्याग का संदेश दिया गया । वही त्रिवेणी परिवार के सुशील पण्डा एवं जयेन्द्र बैरागी द्वारा महाभारत के युद्ध में भगवान श्रीकृष्ण द्वारा पंाचजन्य शंख बजाते हुए अर्जुन को युद्ध के लिये प्रेरित करने तथा भगवान श्रीकृष्ण द्वारा अर्जुन का सारथी बन कर महाभारत में अपनी भूमिका के सजीव चित्रण को भी दर्शकों ने काफी सराहा। वही  रविराज राठौर भगवान श्री गणेश जी की प्रतिमा को लेकर रथ में उन्हे बिदा करते दिखाई दिये । बेंड बाजों एवं ढोल ताशों के संगीत के साथ चल समारोह राजवाडा चैक से रवाना हुआ और खाचरौद से  मठ व्यायामशाला के उस्ताद  गुरू कन्हैयालाल के नेतृत्व में 85 सदस्यीयअखाडा टीम द्वारा एक से बढ कर करतम दिखाये गये । व्यायामशाला के छोटे छोटे बच्चों ने कठिन से कठिन करतब दिखा कर दर्शकों को अचंम्भित कर दिया । हथियान, चक्र, आग में करतब, लोहें की छोटी रिंगों से बाहर निकलना, शरीर पर मोम टपकाना, मल्ल खभ के करतब, के अलावा आंख बंद कर पांव के नीचे रखे पुष्प् को तलवार से काटना, छोटी छोटी बच्चियों द्वारा हथियार, चक्र, साईकल के पहिये के करतब तथा व्यायाम आदि के प्रदर्शन से दर्शकों ने तालिया बजाकर इनका उत्साह वर्धन किया । चार भूजा मंदिर चैराहा, आजाद चैक, में भी अखाडों का प्रदर्शन किया गया । थांदला गेट , बस स्टेंड पर भी बरसते पानी के बीच भी अखाडा एवं चलित झांकियों को लोग निहारने के लिये इन्तजार करते दिखाई दिये । पुलिस प्रशासन का उल्लेखनीय एवं सराहनीय योग दान प्राप्त हुआ । सार्वजनिक गणेश मंडल द्वारा खाचरौद से आई चलित झांकी के प्रमुख अजय पुरोहित, एवं उनकी टीम, मठ व्यायामशाला खाचरौद के उस्ताद कन्हैयालय, अध्यक्ष रमेश खमोरिया एवं सचिव दिनेश एक्या तथा त्रिवेणी परिवार के जयेन्द्र वैरागी एवं सुशील पण्डा का मंडल की ओर से प्रतिक चिन्ह देकर सार्वजनिक सम्मान किया गया । पूरे मार्ग पर बेंड बाजों के साक्थ ही जगह जगह आतिशबाजी भी की गई तथा सार्वजनिक गणेश मंडल की झांकियों एवं चल समारोह ने नगर में एक इतिहास बना दिया । गणेश विसर्जन क ेचल समारोह में मंडल के अध्यक्ष राजेन्द्र अग्निहौत्री, महा सचिव नानालाल कोठारी, संरक्षक डा.केके त्रिवेदी, भागवत शुक्ला, नीरजसिंह राठौर, अजय सोनी,लालसिंह चैहान, ऋतुराजसिंह राठौर, बहादुर भाटी, राजेन्द्र सोनी, हर्ष भट्ट, जितेन्द्र  शाह, बाबुभाई अग्निहौत्री, जितेन्द्र अग्निहौत्री, जयदीप सोलंकी, शमीउद्दीन सेयद,सत्यदेव शर्मा, दिलीप आचार्य, देवेन्द्र अग्निहोत्री, मनीष व्यास, सुनील चैहान, अशोक शर्मा, अजय रामावत, रामगोपाल सोनगरा,सुरेश कांठी,सौभाग्यसिंह चैहान सहित बडी संख्या में नगवासियों एवं गणमान्य जनों से भागीदारी की ।रात्री 11-30 बजे भगवान गणेश जी की प्रतिमा को रंगपुरा स्थित अनास नदी पर विधिविधान से पूजा आरती के बाद रविराजसिंह राठौर सहित बडी संख्या में श्रद्धालुओं ने प्रतिमा का विसर्जन किया । गणेश मंडल के राजेन्द्र अग्निहौत्री एवं नानालाल कोठारी ने 11 दिवसीय गणेशोत्सव को सफल बनाने के लिये सभी का आभार व्यक्त किया है ।

साहित्य एवं सस्कृति परिषद वनाचंल द्वारा तुलसी अलंकरण समारोह आज , ’’षब्द वट ’’ का होगा लोकर्पण

jhabua news
झाबुआ । विश्व हिन्दी दिवस के अवसर पर आज 14 सितम्बर को   साहित्य एवं संस्कृति परिषद वनाचंल जिला झाबुआ द्वारा इन्दौ र के  ख्यातनाम साहित्यकार सत्यनारायण सोनी को तुलसी अलंकरण 2019 से सम्मानिक किया जावेगा । साथ ही साहित्य साधना सम्मान लब्ध प्रतिष्ठित  धैर्यसिंह सावले इन्दौर को प्रदान किया जावेगा । उक्त जानकारी देते हुए डा. केके. त्रिवेदी, डा. जय बेैरागी एवं श्रीमती भारती सोनी ने सयुक्त जानकारी देते हुए  बताया कि प्रतिवर्ष तुलसी अलंकरण किसी  एक साहित्यकार को उनकी साहित्य सेवाओं के परिप्रेक्ष्य में मूल्यांकन के आधार पर  नामांकन किया जाता है । पैलेस गार्डन झाबुआ में आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय गीतों  के रूप मे अपनी पहचान देने वाली दीपिका माही का काव्य पाठ भी इस अवसर पर होगा ।साथ ही बह्रुप्रतिक्षित पुस्तक राष्ट्रीय काव्य  संकलन ’’ शब्द वट  का लोकार्पण भी इस गरीमामय कार्यक्रम के दौरान होगा ।  कार्यक्रम के मुख्य अतिथि संदीप शर्मा, जिला पंचायत सीईओ , होगें । श्री त्रिवेदी ने  सभी साहित्यकारों, गणमान्य नागरिकों को सायंकाल 7-30 बजे उपस्थित राहने की अपील की है ।

डॉ राम शंकर चंचल का कृतित्व भाग-1 और भाग-2 का विमोचन

झाबुआ । अखिल भारतीय साहित्य परिषद् के बैनर तले हिंदी दिवस की पूर्व संध्या पर प्रख्यात साहित्यकार डॉ राम शंकर चंचल के ताजा एलबम  ‘‘डॉ चंचल का कृतित्व भाग-1 और 2‘‘ का विमोचन मां निवास गोपाल कॉलोनी में सर्वश्री  गोपाल मंदिर ट्रस्ट अध्यक्ष  श्री पी एल परमार , शासकीय महा.विद्यालय झाबुआ प्रोफेसर गीता दुबे, डॉ. अंजना मुवेल, सेवा निवृत्त प्राचार्य सतीश भट्ट, श्री एच.के. पाठक , गैल प्राचार्य जे.पी. बोहारे, गोपाल कॉलोनी ट्रस्ट श्री भगवती शाह , समाजसेवी कीर्तिश भावसार, युवा कवि अर्पित भावसार, श्री जितेंद्र शाह, मनीष त्रिवेदी,श्रीमति उषा त्रिवेदी आदि के कर कमलों से संपन्न हुआ। ‘ डॉ चंचल का कृतित्व भाग-1‘ एलबम डॉक्टर चंचल की प्रकाशित मौलिक कृतियों के आवरण पृष्ठ और कृतियों की प्रमुख रचना का सारांश लिए हुए हैं। बेहद खूबसूरत रंगीन लेमिनेशन युक्त एलबम डॉक्टर चंचल के विराट अद्भुत साहित्य की  रचनात्मकता का परिचय करवाता है । काली, बड़ा आदमी ,चर्चित कविताएं अर्धनग्न, तुम्हारी मुस्कुराहट आदि कृतियां शामिल है गद्य पद्य दोनों का विराट साहित्य संसार इसमें समाहित है।  ‘डॉक्टर चंचल का कृतित्व भाग-2‘ डॉक्टर चंचल की अनेक पाठ्य पुस्तकों,संपादित कृतियां, आप  पर लिखे शोध ग्रंथ , अनुवादित रचनाएं आदि के आवरण पृष्ठ के साथ कक्षा 6 से बीए, एम.ए के पाठ्यक्रमों में देश-विदेश में पढ़ी जाने वाली आप की कविताएं कहानी और आलेख इस एलबम में समाहित है।शासन द्वारा प्राथमिक माध्यमिक शाला और ग्रामीण वाचनालयओ द्वारा चयनित आप की कृतियों की सूची, फिजी विश्व हिंदी सम्मेलन आमंत्रण आदि सैकड़ों उपलब्धियों को दर्शाता है यह एलबम जिसे देख सचमुच गर्व होता है डॉक्टर चंचल की राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय उपलब्धियों पर केंद्रित है। सहज सरल व्यक्तित्व के धनी डॉक्टर चंचल की रचनाएं समाज को सही दिशा ज्ञान दे प्रेरित करती है आपके पास उपलब्धियों का अथाह सागर है, जो बहुत कम लोगों को नसीब होता है शहर के इस सरस्वती पुत्र पर हम सब को नाज है। उपस्थित सभी अतिथियों ने डॉक्टर चंचल को बधाई शुभकामना देते कहा कि 40 वर्षों से सतत साहित्य साधना में लगे डॉक्टर चंचल साहित्य के क्षेत्र में झाबुआ के पर्यायवाची बन गए हैं हमें जिले और प्रदेश को इस शख्सियत पर गर्व है। अंत में परिषद् के अध्यक्ष भेरूसिंह चैहान ने सभी का आभार प्रकट किया ।

तीसरे दिन 322 व्यक्तियों ने किया काढ़े का सेवन, 14 सितंबर को होगा समापन, अंतिम दिन अधिक से अधिक ले लाभ

jhabua news
झाबुआ। स्थानीय आॅफिसर्स काॅलोनी स्थित शासकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय में चार दिवसीय विषाणुजन्य एवं रोग प्रतिबंधात्मक षिविर के तीसरे दिन 322 लोगों ने असर-कारक एवं औषधियुक्त तथा मौसमी बिमारियों से निजात दिलवाने वाले आयुर्वेदिक काढ़े का सेवन किया। षिविर का 14 सितंबर को समापन होगा। अंतिम दिन सभी षिवरार्थियों से अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित होकर लाभ लेने की अपील की गइ्र है। 13 सितंबर, शुक्रवार को षिविर का शुभारंभ आयुष विभाग के ओमप्रकाष राठौर एवं आसरा पारमार्थिक ट्रस्ट के संस्थापक अध्यक्ष राजेष नागर तथा वरिष्ठ सदस्य श्रीमती मंजुला देराश्री ने भगवान धन्वंतरि के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन कर किया। शुक्रवार को सुबह से ही तेज बारिष का दौर चलता रहा। बावजूद षिविर के समय 9 से दोपहर 11 बजे तक 252 व्यक्ति आयुर्वेदिक काढ़े का सेवन कर चुके थे। बारिष के चलते समीप रातीतलाई स्कूल के बच्चें षिविर में नहीं आ पाने से चिकित्सालय कर्मचारियों द्वारा स्कूल में जाकर ही परिसर में सभी बच्चों को काढ़ा पिलाने का कार्य किया गया। इस प्रकार तीसरे दिन कुल 322 लोगों का पंजीयन हुआ। इस अवसर पर आसरा ट्रस्ट के वरिष्ठ सदस्य जयेन्द्र बैरागी भी उपस्थित थे।

आज होगा समापन
14 सितंबर, शनिवार को षिविर का अंतिम दिन रहेगा। षिविर आयोजक जिला आयुष अधिकारी डाॅ. मीना भायल एवं सहयोगी संस्था आसरा ट्रस्ट के संस्थापक अध्यक्ष राजेष नागर ने अंतिम दिन सभी षिवरार्थियों से अधिक से अधिक संख्या में पधारकर लाभ लेने एवं षिविर को सफल बनाने की अपील की है। षिविर का समापन चिकित्सालन प्रबंधन एवं आसरा ट्रस्ट द्वारा मिलकर किया जाएगा।

’विशाल चल समारोह निकाल कर बप्पा को दी धूमधाम से  विदाई’

jhabua news
पिटोल । गणपति अपने घर चले अगले बरस तू जल्दी आ आदि जय घोष के साथ पिटोल में भी गणपति बप्पा के विसर्जन के लिए सभी पंडालों के द्वारा भव्य रुप से तैयारी की गई थी जिसके चलते पिटोल के सभी मोहल्ले मैं विराजित गणपति बप्पा को अपने अलग-अलग तरीके से ट्रैक्टर ट्राली और पिकअप वाहनों में रखकर सभी गणेश जी की मूर्तियों को विसर्जित करने के लिए कुंदनपुर चैराहे पर एकत्रित होकर डीजे बैंड नासिक ढोल ताशा पार्टी आदिवासी नृत्य पार्टी के साथ सभी पंडालों के लोग अपने अलग व्यवस्था के साथ जिसमें बाल गणेश मंडल बाजार द्वारा ताशा पार्टी वही हवेली के राजा के लिए नासिक ढोल तथा डीजे की व्यवस्था की गई वही गारी मोहल्ला में आदिवासी नृत्य द्वारा पार्टी  एवं सरपंच फलिया के गणेश जी के लिए आदिवासी ढोल मांदल की व्यवस्था की गई वही पिटोल में माल टोडी मोहल्ले के गणेश जी की मूर्ति सबसे बड़ी थी माल टोडी के लोगों द्वारा गणेश जी विसर्जन करने के लिए डीजे और बैंड की व्यवस्था की थी माल टोडी के गणेश जी जैसे शंकर मंदिर से निकले माल टोडी के लोगों ने घर-घर आरती कर बप्पा को विदा किया करीब दस जगहों की गणेश विसर्जन में विशाल चल समारोह निकाला गया इस विसर्जन  कार्यक्रम में सभी पंडालों द्वारा अलग-अलग कलर के बीस  क्विंटल गुलाल की व्यवस्था एवं तोप द्वारा फूलों फूलों को उड़ाने की व्यवस्था की गई थी पूरे नगर की सड़कें गुलाल एवं फूलों से ढक गई थी सभी मूर्तियों को शाम 6ः30 बजे तक पिटोल से आठ किलोमीटर दूर मोदी पर विसर्जित कर दिया गया गणेश जी की स्थापना से विसर्जन तक के दिनों में पिटोल में विराजित सभी पंडालों में अलग अलग धार्मिक एवं सांस्कृतिक आयोजनों का को किया गया जिसमें हवेली के राजा के पंडाल में सबसे ज्यादा आकर्षक का कार्यक्रम नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा शानदार नृत्य की प्रस्तुति समिति द्वारा बच्चों को आकर्षक इनाम भी दिए गए विसर्जन के दिन सभी पंडालों में भव्य आयोजन किया गया।

भागवत कथा में कृष्ण जन्मोत्सव पर थिरके भक्त, मनुष्य के जीवन में अच्छे व बुरे दिन प्रभु की कृपा से ही आते है- पण्डित अनुपानंद जी

jhabua news
झाबुआ । श्री पदम वंशीय मेवाडा राठौर तेली समाज द्वारा स्थानीय राठौड धर्मशाला में चल रही भागवत कथा में गुरूवार को भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव धुमधाम से मनाया गया । भागवत कथा में गुरूवार को श्री कृष्ण का जन्मोत्सव पर पुरा वातावरण मथुरा गोकुल जैेसा हो गया । भगवान श्री कृष्ण का जन्म होते ही भक्त जमकर झूमे। व्यास पीठ पर बिराजित भागवताचार्य पण्डित अनुपानंद जी ने कहा कि मनुष्य के जीवन में अच्छे व बुरे दिन प्रभु की कृपा से ही आते हैं। उन्होने  अपनी अलग ही मधुर शैली में संगीत के साथ कृष्ण जन्मोत्सव की कथा सुनाई। कथा सुनकर श्रद्धालु भाव विभोर हो गए। उन्होंने कहा कि जिस समय भगवान कृष्ण का जन्म हुआ,  जेल के ताले टूट गये।  पहरेदार सो गये। वासुदेव व देवकी बंधन मुक्त हो गए।  प्रभु की कृपा से कुछ भी असंभव नहीं है। कृपा न होने पर प्रभु मनुष्य को सभी सुखों से वंचित कर देते हैं।  भगवान का जन्म होने के बाद वासुदेव ने भरी जमुना पार करके उन्हें गोकुल पहुंचा दिया ।  वहां से वह यशोदा के यहां पैदा हुई शक्तिरूपा बेटी को लेकर चले आये। कृष्ण जन्मोत्सव पर नंद के घर आनंद भयो जय कन्हैया लाल की भजन पर भक्त जमकर झूमे। पण्डित अनुपानंद ने कहा कि वासुदेव के हाथ से कन्या रूपी शक्तिरूपा को छीनकर जमीन पर पटकना चाहा तो वह कन्या राजा कंस के हाथ से छूटकर आसमान में चली गई। शक्ति रूप में प्रकट होकर आकाशवाणी करने लगी कि कंस, तेरा वध करने वाला पैदा हो चुका है। भयभीत कंस खीजता हुआ अपने महल की ओर लौट गया। उधर नंद बाबा के यहां बधाइयों को तांता लग गया। भक्तों ने  भगवान का जन्मोत्सव धूम-धाम के साथ मनाया व भजनों पर ठुमके लगाये।  भागवत कथा में प्रतिदिन भक्तिरस की गंगा प्रवाहित हो रही है। श्री कृष्ण जन्मोत्सव पर  रानापुर निवासी मयूर राठौर के  नन्हे पुत्र को कृष्ण बनाया गया और सभी ने बालक कृष्ण के रूप में उसे दुलार किया । पूरा वातावरण नन्द घर आनंद भयो जय कन्हैया लाल की हाथी घोडा पालकी जय कन्हैयालाल  के गगनभेदी उदघोष से पूरा माहौल कृष्ण मय हो गया । इस अवसर पर आरती का लाभ श्रीमती लीलाबाई फकीरचंद राठौर ने लिया ।

आचार्य नरेन्द्र सूरीजी की सूरी मंत्र आराधना 12 सितंबर से हुई आरंभ, अब प्रन्यास प्रवर जिनेन्द्र विजयजी मसा समाजजनों को प्रवचनों का श्रवण करवाएंगे

jhabua news
झाबुआ। श्री ऋषभदेव बावन जिनालय में श्री नवल स्वर्ण जयंती चातुर्मास हेतु विराजित जैन धर्म दीवाकर, राजस्थान केसरी परम् पूज्य आचार्य नरेन्द्र सूरीष्वरजी मसा ‘नवल’ की सूरी मंत्र आराधना 12 सितंबर, गुरूवार से आरंभ हो गई है। इस दौरान आचार्य श्रीजी जप-तप में लीन रहेंगे। प्रवचन प्रन्यास प्रवर जिनेन्द्र विजयजी मसा ‘जलज’ द्वारा प्रवचन दिए जाएंगे। जानकरी देते हुए श्री नवल स्वर्ण जयंती चातुर्मास समिति के अध्यक्ष कमलेष कोठारी एवं वरिष्ठ संतोष रूनवाल ने बताया कि 13 सितंबर, गुरूवार को प्रन्यास प्रवर जिनेन्द्र विजयजी मसा ने स्वतन सज्जाई पर प्रवचन दिए। प्रवचन सुबह 9.15 से 10.15 बजे तक चले। बाद आचार्य नरेन्द्र सूरीजी ने समाजजनों को मांगलिक श्रवण करवाई। चातुर्मास समिति अध्यक्ष श्री कोठारी एवं वरिष्ठ श्री रूनवाल ने बताया कि 12 सितसंबर से आचार्य श्रीजी की 1 महीने की सूरी मंत्र आराधना आरंभ हो गई है। यह आराधना आचार्य पद्वी प्राप्त करने के बाद की जाती है। बावन जिनालय में इस तरह की आराधना प्रथम बार होगी। इस दौरान आचार्य श्रीजी द्वारा प्रतिदिन व्याख्यान में ही दर्षन दिए जाएंगे। प्रवचन प्रन्यास प्रवर द्वारा दिए जाएंगे। 13 सितंबर को आचार्य एवं प्रन्यास प्रवर के दर्षन-वंदन हेतु मुंबई से ललित जैन पधारे, जिनके द्वारा दोनो मसा के दर्षन-वंदन बाद बाद चातुर्मास समिति की ओर से श्री जैन का बहुमान किया गया।

झाबुआ जिले की सिंचाई परियोजनाओ के लिये 13 करोड मंजूर-प्रभारी मंत्री श्री सुरेन्द्र सिंह बघेल
     
झाबुआ । राज्य षासन ने झाबुआ जिले की चार सिंचाई परियोजनाओ के लिये लगभग 13 करोड रूपये की राषि मंजूर की है। जिले के प्रभारी मंत्री एवं नर्मदा घाटी तथा पर्यटन मंत्री मध्यप्रदेष षासन श्री सुरेन्द्र श्री बघेल ने यह जानकारी दी। मंत्री श्री सुरेन्द्र सिंह बघेल ने बताया कि झाबुआ जिले की पिटोल स्टाॅप डेम सिंचाई क्षेत्र 225 हेक्टेयर के लिये 3 करोड 82 लाख रूपये और धामनी नाला परियोजना सिंचाई क्षेत्र 140 हेक्टेयर के लिये 4 करोड 13 लाख रूपये की राषि स्वीकृत की गई। नाहरपुरा (भाण्डाखेडा) नहर रहित परियोजना सिंचाई क्षेत्र 150 हेक्टेयर के लिये 4 करोड 42 लाख 50 हजार रूपये और माही परियोजना की मठ-मठ उप वितरिका नहर से माईनर नहर के माध्यम से किसानो को सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने के लिए 57 लाख रूपये की राषि मंजूर की गई है।

नेषनल लोक अदालत 14 सितम्बर को 13 खण्डपीठों में होगी प्रकरणो की सुनवाई
     
झाबुआ । श्री अषोक कुमार तिवारी, जिला एवं सत्र न्यायाधी/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, झाबुआ के मार्गदर्षन में 14 सितम्बर 2019 (षनिवार) को नेषनल लोक अदालत का आयोजन जिला झाबुआ में किया जायेगा। नेषनल लोक अदालत के लिए 13 खण्डपीठो का गठन किया गया है। जिनमें प्रकरणो की सुनवाई की जाएगी। उक्त लोक अदालत हेतु झाबुआ न्यायालय में 8 खण्डपीठ एवं तहसील थांदला में 02 तथा तहसील पेटलावद में 03 खण्डपीठ इस प्रकार कुल 13 खण्डपीठों का गठन किया गया है। नेषनल लोक अदालत में समझौता योग्य आपराधिक प्रकरण, दिवानी प्रकरण, निगोषिएबल इंस्टूªमेंट एक्ट की धारा 138 के प्रकरण, मनी रिकवरी प्रकरण, एम.ए.सी.टी. (मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण) के मामले, श्रम विवाद प्रकरण, विद्युत एवं जलकर बिल संबंधी प्रकरण (राजीनामा योग्य), वैवाहिक प्रकरण, भूमि अधिग्रहण के प्रकरण, राजस्व के प्रकरण (जिला न्यायालय में लंबित) संबंधी आदि प्रकरणों का निराकरण आपसी सुलह समझौते के माध्यम से किया जायेगा एवं प्रीलिटिगेशन प्रकरणों के रूप में समझौता योग्य आपराधिक प्रकरण, दिवानी प्रकरण, निगोषिएबल इंस्टूªमेंट एक्ट की धारा 138 के प्रकरण, मनी रिकवरी प्रकरण, श्रम विवाद प्रकरण, बी.एस.एन.एल. के टेलीफोन प्रकरण, विद्युत एवं जलकर बिल संबंधी प्रकरण (राजीनामा योग्य), भरण-पोषण प्रकरणों का निराकरण आपसी सुलह एवं समझौते के माध्यम से किया जावेगा। प्रकरणों के पक्षकारों से अपील है कि दिनांक 14 सितम्बर 2019 की नेषनल लोक अदालत में अपने प्रकरणों का निराकरण करवाकर लोक अदालत का लाभ लेवें।

लगातार बारिष को देखते हुए पुलिए एवं रपटो पर सतत् निगरानी रखे-कलेक्टर
पुलिया/रपटो पर बारिष का पानी होने पर वाहन नही निकाले
झाबुआ । कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने जिले में लगातार बारिष को देखते हुए सबंधित अधिकारियो को निर्देष दिये है, कि जिले में हो रही लगातार बारिष के कारण पुलिए एवं रपटो पर पानी बहने की स्थिति बनी हुई है। ग्रामीण स्तर पर सरपंच, कोटवार, सचिव, गार्ड इत्यादि ग्राम स्तरीय षासकीय सेवको की ड्यूटी लगाकर सतत् निगरानी रखे एवं पुल/रपटो पर पानी होने की स्थिति में किसी भी व्यक्ति/वाहन को निकलने नही दिया जाये। ताकि बारिष के कारण होने वाली जनहानि को रोका जा सके। मानसून में बाढ/प्राकृतिक आपदा की संभावित स्थिति से निपटनें के लिए कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने जिला आपदा प्रबंधन समिति के सदस्यो को समुचित प्रबंधन के बारे में आवश्यक तैयारी करने के निर्देश दिये। कलेक्टर श्री सिपाहा ने सभी एसडीएम/तहसीलदारो को निर्देषित किया कि राहत एवं बचाव कार्य के लिए राहत शिविर लगाना पडे तो इसकी तैयारी रखे। बाढ़ प्रबंधन से संबंधित आवश्यक मानव संसाधन एवं उपकरणो की व्यवस्था रखे। कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने सबंधित अधिकारियो को निर्देषित किया कि जिले मे हो रही लगातर बारिष से सडक के रपटो एवं पुलियो पर पानी बहने की स्थिती बनी हुई है। बस/वाहनो के ड्रायवरो को निर्देषित करे कि जब पुलिया/रपटो पर बारिष का पानी हो तो वाहन नही निकाले, वाहनो की स्पीड नियंत्रित रखे ताकि दुर्घटनाओ को रोका जा सकें, ऐसे सभी रपटो पुलियो पर संकेतक एवं आवष्यकतानुसार ड्राप गेट लगवायें। वर्षाकाल के दौरान बाढ की स्थिति से निपटने के लिए अपने वाहन में टार्च, रस्सी, डण्डे एवं अन्य आवष्यक उपकरण साथ में हमेंषा रखे।

विद्युत उपभोक्ता संपर्क एवं षिकायत निवारण षिविर 16 से 30 सितम्बर तक
    
झाबुआ । म.प्र.प.क्षे.वि.वि.कं.लि.झाबुआ के कार्यपालन यंत्री श्री नितिन चैहान ने बताया कि राज्य षासन द्वारा चलाये जा रहे आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम अनुसार झाबुआ सम्भाग के विद्युत उपभोक्ताओ के विद्युत समस्याओ/षिकायतो के त्वरित निराकरण हेतु प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार 16 से 30 सितम्बर तक झाबुआ सम्भाग अंतर्गत संचालित 13 वितरण केन्द्र के प्रत्येक वितरण केन्द्र के दो ग्रामो में प्रतिदिन प्रातः 08 बजे से सायं 4 बजे तक सम्बंधित ग्राम के पंचायत भवन में षिविर आयोजित किये जावेगे। षिविर में विद्युत आपूर्ति सम्बंधी, बंद खराब मीटर, बिजली बिल, वोल्टेज कम/ज्यादा होने संबंधी ट्रांसफार्मर बदलने सम्बंधी एवं अन्य विद्युत समस्याओ/षिकायतो का निराकरण यथा सम्भव मौके पर ही वितरण केन्द्र के प्रभारी द्वारा किया जाएगा। लम्बित प्रकरणो का निराकरण अधिकतम एक सप्ताह की समयावधि में सम्बन्धित वितरण केन्द्र प्रभारी द्वारा किया जावेगा। प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार 16 सितम्बर को वितरण केन्द्र मेघनगर के ग्राम आमलीपठार में, मेघनगर वितरण केन्द के ग्राम खेडी में, थांदला वितरण केन्द के ग्राम सुजापुरा में, थांदला वितरण केन्द के ग्राम सजेली नानीयासाथ में, काकनवानी वितरण केन्द के ग्राम हरिनगर में, काकनवानी वितरण केन्द के ग्राम देवका में, रानापुर वितरण केन्द के ग्राम बुचाडुगरी में, रानापुर वितरण केन्द के ग्राम काकरादरा में, पारा वितरण केन्द के ग्राम सागीया में, पारा वितरण केन्द के ग्राम खडकुई में, खवासा वितरण केन्द के ग्राम देवगढ में, खवासा वितरण केन्द के ग्राम तेजपुरा में, बामनिया वितरण केन्द के ग्राम तेजपुरा में, बामनिया वितरण केन्द के ग्राम जिरावलिया में, सारंगी वितरण केन्द के ग्राम माण्डन में, सारंगी वितरण केन्द के ग्राम हथनीपाडा छोटा में, पेटलावद वितरण केन्द के ग्राम नाकापाडा में, पेटलावद वितरण केन्द के ग्राम कुण्डाल में, रायपुरिया वितरण केन्द के ग्राम रूपारेल में, रायपुरिया वितरण केन्द के ग्राम रिचखोदरा में, झकनावदा वितरण केन्द के ग्राम झिरी में, झकनावदा वितरण केन्द के ग्राम पिठडी में, झाबुआ ग्रामीण वितरण केन्द के ग्राम गोपालपुरा में, झाबुआ ग्रामीण वितरण केन्द के ग्राम कोयाधारिया में षिविर आयोजित किया जाएगा।

रालू की अंत्येष्टि के लिए उसकी पत्नी तोली को दी गई 5 हजार सहायता राषि
   
झाबुआ । झाबुआ जिले के ग्राम परवलिया में रालू पिता हवसिंह की मृत्यु हो जाने पर, रालू की अंत्येष्टि के लिए ग्राम पंचायत द्वारा रालू की पत्नि तोली को 5 हजार रूपये सहायता राषि उपलब्ध करवाई गई।

जिले मे अत्याधिक वर्षा के कारण कलेक्टर ने 14 सितम्बर का अवकाष घोषित किया
  
झाबुआ । झाबुआ जिले में लगातार हो रही अत्याधिक वर्षा के कारण जिले के समस्त षासकीय/अषासकीय/केन्द्रीय/सीबीएसई संबंद्व विद्यालयो के विद्यार्थियो एवं आंगनवाडी केन्द्रो के बच्चो की सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने 14 सितम्बर 2019 षनिवार का अवकाष घोषित किया है। यह अवकाष समस्त विद्यालयो के लिए रहेगा।

पषु रोग नियंत्रण के लिए कार्यषाला संपन्न
  
झाबुआ । कृषि विज्ञान केन्द्र झाबुआ में राष्ट्रीय पषु रोग नियंत्रण खुरपका, मुंहपका रोग, ब्रुसेलोसिस एवं कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम के षुभारंभ की कार्यषाला का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उपसंचालक पषु चिकित्सा डाॅ. विल्सन डाबर थे एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता केन्द्र के प्रोफेसर एवं प्रमुख डाॅ. आईएस तोमर ने की। इस अवसर पर विषेष रूप से सिविल सर्जन वेटनरी डाॅ. एसके धुरिया, पषु चिकित्सक डाॅ. केएल डामोर एवं केन्द्र के सभी वैज्ञानिक उपस्थित थे। इस कार्यक्रम में विभिन्न गांवो से आये लगभग 152 पषु पालक कृषक, महिलाये व रावे की छात्राओ ने भाग लिया। कार्यक्रम की षुरूआत करते हुए केन्द्र के प्रमुख डाॅ. तोमर ने इस कार्यक्रम की रूपरेखा एवं इसके महत्व पर प्रकाष डाला एवं पषुपालन को खेती में विषेष रूप से कृषको की आय दोगुनी करने का साधन बताया एवं पषुओ में लगने वाली बीमारियो व उसके नियंत्रण हेतु पषुपालको को विषेष ध्यान रखने की आवष्यकता बताई। पषु रोग नियंत्रण कार्यक्रम खुरपका, मुंहपका, ब्रुसेलोसिस एवं कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम के षुभारंभ का सीधा प्रसारण भी किसानो को दिखाया गया। पषु चिकित्सा विभाग, झाबुआ के पषु चिकित्सको द्वारा अपने उदबोधन में पषुओ के विभिन्न रोगो के लिए विषेष सावधानी व टीकाकरण के बारे में विस्तार से जानकारी दी। साथ ही झाबुआ जिले के पषुओ में आने वाले अन्य रोगो के लक्षण व उनके प्रारंभिक उपचार की जानकारी कृषको से साझा की। इसके साथ ही आपने नस्ल सुधार हेतु कृत्रिम गर्भाधान के लाभ से कृषको को अवगत कराया एवं अधिक से अधिक कृत्रिम गर्भाधान कराने की सलाह दी। कार्यक्रम के अंत में आभार प्रदर्षन डाॅ. वीके सिंह द्वारा किया गया। कार्यषाला में केन्द्र के वैज्ञानिक डाॅ. महेन्द्र सिंह, श्री जे मौर्या, डाॅ. आर के त्रिपाठी एवं केन्द्र के समस्त कर्मचारी भी उपस्थित थे।

पैरामिलिट्री फोर्स चयन के लिए फिजीकल टेस्ट 14 सितम्बर को डीआरपीलाईन में प्रातः 9 बजे से होगा
      
झाबुआ । कक्षा 12 वी में अध्ययनरत बालिकाओ के लिए पैरामिलिट्री फोर्स चयन के लिए फिजीकल टेस्ट 14 सितम्बर को डीआरपी लाईन पुलिस ग्राउड पर प्रातः 9 बजे से आयोजित किया जाएगा। फिजिकल एवं लिखित परीक्षा में चयन पष्चात बालिकाएॅ 18 सितम्बर 2019 से 18 जनवरी 2020 तक कन्या उ.मा.वि. झाबुआ में निःषुल्क कोचिंग प्राप्त करेगी। सप्ताह में 4 दिवस प्रातः 06ः30 से 08ः00 बजे तक एवं रविवार को 2 घंटे बालिकाओ को डीआरपी लाइन झाबुआ में फिजिकल प्रषिक्षण प्रदान किया जायेगा। कोचिंग का समय सामान्य प्रतिदिन प्रातः 08ः00 से 10 बजे तक रहेगा। बालिकाओ की सहमति के आधार पर षाम का समय भी रखा जा सकता है। संस्था में व्यावसायिक षिक्षा की नोडल पैरामिलिट्री कोचिंग के लिए प्रभारी रहेगी।

एक जिले मे रहकर दूसरे जिले में ड्राईविंग लाईसेंस बनवाया जा सकेगा
     
झाबुआ । प्रदेष सरकार ने जुर्माने वाली चालानी कार्यवाही को छोडकर केन्द्रीय मोटरयान संषोधन अधिनियम के प्रमुख नियमो को लागू कर दिया है। इसके तहत एक जिले मे रहकर दूसरे जिले में ड्राईविंग लाईसेंस बनवाया जा सकेगा। किसी भी जिले में वाहन का पंजीयन भी कराया जा सकेगा। सरकार ने 01 सितम्बर 2019 से लागू अधिनियम के 63 प्रावधानो को प्रदेष में प्रभावी किया है। नए नियमो में ड्राईविंग लाईसेंस पांच साल के लिए बनेगा। इसके बाद नवीनीकरण कराना होगा। लाईसेंस के लिए 8 वी पास की षैक्षणिक योग्यता की अनिवार्यता भी खत्म कर दी गई है। अब निरक्षर व्यक्ति भी लाइसेंस बनवा सकेगे। खतरनाक श्रेणी के माल वाहको का लाईसंेंस तीन साल के लिए होगा। किसी किषोर के किसी अपराध में वाहन उपयोग पर रजिस्ट्रेषन 1 साल के लिए रद किया जाएगा।

जिले में 24 घण्टो मे 39.6 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज
         
झाबुआ । जिले में इस वर्ष अब तक औसतन 1123.3 मि.मी. वर्षा दर्ज की गयी है। विगत 24 घण्टो मे औसत 39.6 मि.मी. वर्षा दर्ज की गई। वर्षामापक केन्द्र झाबुआ में 38.0,रामा में 60.0 मि.मी.,थांदला मे 46.2 मि.मी.,पेटलावद मे 31.0 मि.मी.,राणापुर मे 15.0 मि.मी, मेघनगर मे 47.4,मि.मी वर्षा दर्ज की गई। 

इस माह सभी जिलों में होंगे उद्यम समागम
      
झाबुआ । प्रदेश के प्रत्येक जिले में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग द्वारा इस माह उद्यम समागम होगा। राज्य शासन ने समागम के लिये जिला स्तरीय समितियों का गठन किया है। कलेक्टर इस समिति के अध्यक्ष होंगे। निदेशक एम.एस.एन.ई.-विकास संस्थान, इंदौर को समिति का सदस्य सचिव बनाया गया है। जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक समन्वयक सदस्य होंगे। समिति में नगरीय विकास और आवास, कृषक कल्याण एवं कृषि विकास योजना, आर्थिक और सांख्यिकी, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, मछुआ कल्याण तथा मत्स्य-विकास, कुटीर एवं ग्रामोद्योग और उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण विभाग के जिला प्रभारी को शासकीय सदस्य बनाया गया है। जिला अग्रणी बैंक समिति का प्रतिनिधि समिति का सदस्य होगा। भारत सरकार तथा राज्य सरकार द्वारा संचालित स्व-रोजगार योजनाओं का प्रचार-प्रसार, जिले की एम.एस.एम.ई. इकाइयों के उत्पादों पर आधारित प्रदर्शनी, जिले में एम.एस.एम.ई. इकाइयों से संबंधित सभी संस्थाओं की भागीदारी होगी। उद्यम समागम की रूपरेखा तैयार कर ली गई है।

गाँधी जयंती से “ग्राम पंचायत विकास योजना” के लिए जन-अभियान
     
झाबुआ । प्रदेश की सभी ग्राम पंचायतों में वर्ष 2020-21 तक के लिये “ग्राम पंचायत विकास योजना” बनाई जायेगी। इसके अंतर्गत पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा “सबकी योजना-सबका विकास” की तर्ज पर गाँधी जयंती 2 अक्टूबर से 31 दिसम्बर तक प्रदेश में जन-अभियान चलाया जाएगा। अभियान में पंचायतों में 29 विषयों से संबंधित विभाग भागीदारी करेंगे। प्रदेश की सभी 22 हजार 812 ग्राम पंचायतों में अभियान 2 अक्टूबर को होने वाली ग्राम-सभाओं से शुरू होगा। ग्राम सभाएँ दो चरणों में होंगी। पंचायतों में सौंपे गये 29 विभागों के मैदानी कर्मी ग्राम का सर्वे कर ग्राम पंचायत विकास योजना (ळच्क्) तैयार करेंगे। ग्राम पंचायतों द्वारा बनाई योजना को ग्राम सभा में अनुमोदन के बाद भारत सरकार के विभागीय पोर्टल पर अपलोड कराना होगा। जिला स्तर पर अभियान का नोडल अधिकारी कलेक्टर को नामांकित किया गया है। राज्य स्तर पर विभागीय समन्वय के लिए श्री आई.एस. ठाकुर संयुक्त आयुक्त, श्री प्रफुल्ल जोशी राज्य कार्यक्रम समन्वयक और श्री वी.के. त्रिपाठी उप संचालक को सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। राष्ट्रीय स्तर से रेंडम आधार पर अभियान की मॉनीटरिंग भी की जाएगी।

भारी बारिश से जान-माल और फसल नुकसान का प्रारंभिक आकलन करें
जिलों में जवाबदेही का वातावरण बनायें, मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने जनाधिकार कार्यक्रम वीडियो कान्फ्रेंसिंग में कलेक्टर्स को दिए निर्देश
झाबुआ । मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने सभी जिला कलेक्टर्स को भारी बारिश से जान-माल और फसल के नुकसान का प्रारंभिक आकलन करने के निर्देश दिए हैं ताकि बिना किसी विलम्ब के क्षतिपूर्ति राशि दी जा सके। उन्होंने रबी फसलों के लिए खाद की आवश्यकता का आकलन करने के भी निर्देश दिए। मंत्रालय में जनाधिकार कार्यक्रम में वीडियों कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से कलेक्टर्स से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कलेक्टर्स से कहा कि किसानों की ऋण माफी के संबंध में प्राथमिक रिपोर्ट भिजवायें। हर जिले में ऋण-माफी से संबंधित समस्या का स्वरूप अलग-अलग है। उन्होंने बिजली बिलों को लेकर आने वाली शिकायतों पर भी विशेष ध्यान देने के निर्देश देते हुए कहा कि आम उपभोक्ताओं की शिकायतें अत्यधिक बिल आने से संबंधित हैं। आपकी सरकार-आपके द्वार कार्यक्रम में ऐसे प्रकरणों का समाधान प्राथमिकता के साथ करें। उन्होंने कलेक्टरों से कहा कि वे अपने जिलों में जवाबदेही का वातावरण बनायें।

वनाधिकार के अस्वीकृत प्रकरणों का निराकरण स्वविवेक से करें
मुख्यमंत्री ने वनाधिकार अधिनियम के अंतर्गत तकनीकी कारणों से अस्वीकृत किए गए प्रकरणों की तत्काल समीक्षा कर सकारात्मक निराकरण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि तकनीकी कमियों को लेकर पात्र परिवार वनाधिकार पट्टों से वंचित नहीं रहने चाहिए। कलेक्टर अपने विवेक से भी तकनीकी कमियों को दूर कर सकते हैं। तकनीकी कमियों के कारण अस्वीकृत प्रकरणों में कलेक्टर की जवाबदेही तय की जायेगी। उन्होंने कहा कि आदिवासी परिवारों से सबूत लाने पर जोर देने से बेहतर है कि स्वविवेक से उनकी मदद करें ताकि उनके प्रकरणों का सकारात्मक निराकण हो सके।

बारिश के बाद सडकों की मरम्मत तत्काल शुरू करें
मुख्यमंत्री ने बारिश खत्म होते ही खराब हुई सडकों की मरम्मत प्राथमिकता के साथ शुरू कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि 20 सितम्बर से काम शुरू कर दें और 20 नवम्बर तक इसे पूरा कर लें। श्री कमलनाथ ने गौ-शालाएँ खोलने और उन्हें संचालित करने के इच्छुक लोगों के आग्रह को देखते हुए कलेक्टरों से कहा कि इस काम को प्रोत्साहित करें। सभी जिलों में ऐसी संस्थाएँ ओर लोग सामने आ रहे हैं जो गौ-शालाएँ खोलना चाहते हैं। आगे बढकर उनकी मदद करें।

मलेरिया, डेंगू व चिकुनगुनिया से बचाव के लिए सलाह
     
झाबुआ । सीएमएचओ डाॅ. बारिया ने बताया कि बारिश के दौरान मलेरिया, डेंगू एवं चिकुनगुनिया से बचाव के लिए एडवाइजरी जारी की गई है। एडवाइजरी में कहा गया है कि बारिश के मौसम में अपने आसपास नियमित साफ-सफाई करें। वर्षा के जल को एक जगह एकत्रित न होने दें। वर्षाकाल में जगह-जगह एकत्रित पानी में मच्छरों की उत्पत्ति व वृद्धि होती है। ये मच्छर, रोगी व्यक्ति को काटने पर संक्रमित हो जाते है व इन संक्रमित मच्छर के काटने से मलेरिया, डेंगू, चिकुनगुनिया, रोग होता है। इन बीमारियों से ग्रसित रोगी को बुखार सिरदर्द, बदन दर्द, उल्टी आना, ठंड लगना जैसे लक्षण होते हैं जिनका त्वरित उपचार आवश्यक है। कोई भी बुखार मलेरिया,, डेंगू,, चिकनगुनिया हो सकता है जिसका इलाज संभव है। किसी भी बीमारी के लक्षण दिखने पर शीघ्र स्वास्थ्य केन्द्र में निःशुल्क जांच करायें तथा चिकित्सक के परामर्श से पूर्ण उपचार लें। मलेरिया की जांच ग्राम स्तर तक आरोग्य केन्द्र व स्वास्थ्य केन्द्रो में निःशुल्क उपलब्ध है।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत् 3 किश्तों में मिलेंगे 6 हजार
     
झाबुआ ।  प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना अंतर्गत केन्द्र सरकार द्वारा कृषक परिवारों को प्रति चार महीने में तीन बराबर किश्तों में प्रति परिवार 6 हजार का लाभ दिया जाएगा। उक्त योजना में समस्त संस्थागत भूमि स्वामी भूतपूर्व और वर्तमान में संवैधानिक पदों पर पदस्थ भूतपूर्व और वर्तमान में पदस्थ मंत्री, राज्यमंत्री, लोकसभा, राज्यसभा, राज्य विधानसभा, राज्य विधान परिषद के पूर्व, वर्तमान सदस्य, सभी रिटायर्ड पेंशनर्स जिनकी मासिक पेंशन 10 हजार या उससे अधिक है, चतुर्थ श्रेणी, समूह डी कर्मचारियों को छोड़कर डाॅक्टर्स, इंजीनियर्स, वकील अकाउटेंट और आर्किटेक्ट जैसे पेशेवर निकायों के साथ पंजीकृत व्यक्ति को छोड़कर समस्त कृषकों को लाभ दिया जाना है। योजना का लाभ लेने के लिए पात्र कृषक संबंधित हल्का पटवारी या पंचायत सचिव को महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे, बैंक आईएफएससी कोड, खाता क्रमांक किस्तबंदी की प्रति, समग्र आईडी आधार नंबर व स्वघोषणा पत्र जमा करें, जिससे उक्त योजना का लाभ अधिक से अधिक कृषकों को दिया जा सकें।

एमपीटास पोर्टल पर 4.51 लाख आदिवासी विद्यार्थियों का  प्रोफाईल पंजीकरण
    
झाबुआ । प्रदेश में 4 लाख 51 हजार छात्रावासी आदिवासी विद्यार्थियों का डच्ज्।।ै पोर्टल पर  प्रोफाईल पंजीकरण कराया गया है। इसके लिये 1546 विभागीय छात्रावास अधीक्षकों को प्रशिक्षण दिलाया गया। आदिम जाति कल्याण विभाग ने पोस्ट मेट्रिक छात्रवृत्ति की ऑनलाइन स्वीकृति और वितरण की पेपरलेस स्व-सत्यापित प्रक्रिया शुरू की है। इसके जरिये अभी तक 27 हजार विद्यार्थियों को करीब 21 करोड़ रुपये छात्रवृत्ति वितरित की गई है।

आकांक्षा योजना से 800 विद्याथियों को कोचिंग संस्थानों में प्रशिक्षण
    
झाबुआ । प्रदेश और देश के प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थानों में प्रवेश के लिये 800 आदिवासी विद्यार्थियों को आकांक्षा योजना में जेईई, नीट और क्लेट की प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिये जबलपुर, भोपाल, ग्वालियर और इंदौर में कोचिंग दी जा रही है। इसके लिये इस वर्ष 14 करोड़ 50 लाख रुपये का प्रावधान किया गया है। जबलपुर और ग्वालियर के कोचिंग संस्थानों को 47 लाख 35 हजार रुपये की राशि जारी की गई है। इन दो कोंचिग संस्थान में 195 आदिवासी छात्र-छात्राएँ कोचिंग ले रहे हैं।

आदिवासी उपयोजना की राशि का शत-प्रतिशत उपयोग न होने पर होगी सख्त कार्रवाई आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री मरकाम ने की विभागीय समीक्षा

झाबुआ । आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार सिंह मरकाम ने कहा है कि प्रदेश के 89 आदिवासी विकासखण्डों में इस वर्ष आदिवासी उपयोजना की राशि का शत-प्रतिशत उपयोग न किये जाने पर सख्त कार्रवाई की जायेगी। मंत्री श्री मरकाम मंत्रालय में विभिन्न विभागों के अधिकारियों की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। इस वर्ष आदिवासी उपयोजना में करीब 33 हजार 466 करोड़ की राशि का आवंटन विभिन्न विभागों को दिया गया है। मंत्री श्री मरकाम ने कहा कि आदिवासी उपयोजना का मूल उद्देश्य आदिवासी परिवारों के आर्थिक स्तर में वृद्धि और जनजाति बहुल ग्रामों में मूलभूत सुविधाएँ उपलब्ध कराना है। साथ ही आदिवासी बहुल ग्रामों को मुख्य सडक से जोडा जाना भी राज्य सरकार की प्राथमिकता में है। इन्हीं उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए प्रदेश में अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या के अनुपात के अनुसार बजट में 21.10 प्रतिशत राशि आदिवासी उपयोजना के लिये निर्धारित की जाती है। मंत्री श्री मरकाम ने आदिवासी उपयोजना में वर्ष 2016-17, 2017-18 और 2018-19 में आवंटित बजट और विभाग द्वारा किये गये व्यय की बिन्दुवार समीक्षा की। उन्होंने विभिन्न विभागों के अधिकारियों से वर्ष 2019-20 में आवंटित राशि का उपयोग किये जाने के लिये तैयार की गई कार्य-योजना की जानकारी ली। श्री मरकाम ने आदिवासी क्षेत्रों में वृद्ध महिलाओं के रहने के लिये महिला आश्रम तैयार किये जाने और उसके संचालन की योजना तैयार करने के निर्देश सामाजिक कल्याण विभाग को दिये। श्री मरकाम ने कहा कि सहकारिता के माध्यम से आदिवासी युवाओं को संगठित कर उन्हें बेहतर रोजगार के अवसर मुहैया कराए जा सकते हैं। आदिवासी बहुल क्षेत्रों में पशुपालन और मत्स्य-पालन की गतिविधियों को बढाने की जरूरत है। उन्होंने खादी एवं कुटीर उद्योगों के जरिये रोजगार के अवसर सृजित किये जाने पर भी जोर दिया।

भोपाल-इंदौर मेट्रो जनता की सहूलियत को देखकर होगी तैयार मंत्री श्री वर्मा और श्री जयवर्द्धन सिंह ने की समीक्षा
    
झाबुआ । लोक निर्माण मंत्री श्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा है कि भोपाल-इंदौर मेट्रो में जनता की सहूलियत का पूरा ध्यान रखा जायेगा। लोक निर्माण विभाग मेट्रो निर्माण के दौरान सडकों और फ्लाई ओवर की व्यवस्था में नगरीय प्रशासन विभाग के साथ बेहतर समन्वय रखेगा। मंत्री श्री वर्मा मंत्रालय में भोपाल-इंदौर मेट्रो के निर्माण की समीक्षा कर रहे थे। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री जयवर्द्धन सिंह ने कहा कि इंदौर-भोपाल मेट्रो के लिये एमओयू साइन हो चुका है। जल्द ही इसका कार्य शुरू किया जायेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...