सशस्त्र सेनाओं के आधुनिकीकरण को लेकर प्रतिबद्ध : राजनाथ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 28 सितंबर 2019

सशस्त्र सेनाओं के आधुनिकीकरण को लेकर प्रतिबद्ध : राजनाथ

army-modernisation-committed-rajnath
मुंबई, 28 सितंबर, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि सरकार सशस्त्र बलों की जरुरतों को लेकर काफी जागरुक एवं सतर्क होने के अलावा देश की रक्षा तैयारियों में समयानुसार बदलाव करने को लेकर प्रतिबद्ध है। श्री सिंह ने यहां स्वदेश में ही निर्मित पनडुब्बी आईएनएस खंडेरी के नौसेना में शामिल होने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में यह बात कही। रक्षा मंत्री ने कहा, “ सरकार सशस्त्र सेनाओं के आधुनिकीकरण की ओर विशेष ध्यान देने और वित्तीय सहायता प्रदान करने को लेकर प्रतिबद्ध है। समय-समय पर अत्याधुनिक हथियारों, सेंसर और अन्य रक्षा उपकरणों की खरीद को प्रोत्साहन दिया गया है। सरकार ने सशस्त्र बलों को राष्ट्र हित के दृष्टिकोण से फैसले लेने के लिए अधिक स्वतंत्रता और समर्थन प्रदान किया है।” श्री सिंह ने हिंद महासागर क्षेत्र में भारतीय नौसेना के आत्मविश्वास की प्रशंसा करते हुए कहा, “ आप एक विश्वसनीय नौसेना नहीं खरीद सकते। एक विश्वसनीय नौसेना का निर्माण विश्वसनीय सरकार की ओर से किया जाता है। हिंद महासागर क्षेत्र में जैसा आत्मविश्वास भारतीय नौसेना के पास है वैसा किसी अन्य देश की नौसेना के पास नहीं है।” रक्षा मंत्री ने भविष्य की रक्षा चुनौतियों को लेकर न केवल सुरक्षाबलों से बल्कि देश के प्रत्येक नागरिक से सतर्क रहने की अपील की। उन्होंने कहा, “हमें देश के भीतर और बाहर से आने वाले तत्वों के खिलाफ सतर्क रहना होगा। रक्षा मंत्री ने देश के विकास में महासागरों के महत्व का उल्लेख करते हुए कहा कि महासागर अवसरों का प्रवेश द्वार हैं लेकिन यदि नौसेना सतर्क नहीं रहे तो इससे राष्ट्र की सुरक्षा को गंभीर खतरा उत्पन्न हो सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...