बिहार : भाकपा ने पटना में शीघ्र जल जमाव राहत की मांग की - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 29 सितंबर 2019

बिहार : भाकपा ने पटना में शीघ्र जल जमाव राहत की मांग की

cpi-demand-releif-patna-rain
पटना, 29 सितम्बर। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव सत्य नारायण सिंह ने बयान जारी कर कहा है कि राजधानी पटना सहित लगभग पूरे बिहार में भारी वर्षा होने से लोगों का जीवन मुष्किल में पड़ गया है। जल-जमाव के चलते राजधानी पटना की विभिन्न मुहल्लों की नारकीय स्थिति बन गई है। लोगों का घर से निकलना भी मुष्किल है। उन्होंने राजधानी पटना के विभिन्न मुहल्लों से युद्धस्तर पर पानी की निकासी करने की मांग की है, कि लोगों का जीवन एवं यातायात सामान्य हो सके। भाकपा राज्य सचिव सत्य नारायण सिंह ने कहा है कि तीन दिनों से लगातार हो रही भारी बारिष से दर्जनों मुहल्लों में पानी भर गया है। सिपरा, महावीर काॅलोनी, श्रीकृष्णा बिहार काॅलोनी, गंगा बिहार काॅलोनी  पाटलीपुत्र काॅलोनी, कंकड़बाग पोस्टल पार्क, किदवईपुरी, राजेन्द्रनगर समेत राजधानी के अन्य इलाके वर्षा के पानी से भरे हुए है। सड़कों पर कहीं घुटना भर तो कहीं कमर तक पानी जमा हुआ है। राजधानी पटना में आॅटों, बाईक, रिक्षा, निजी गाड़ियां चल नहीं पा रही है जिससे लोगों की परेषानी काफी बढ़ गई है। घरों, पोस्टल पार्क का विद्युत सह यांत्रिक प्रमण्डल वाल्मी कार्यालय आदि पानी से भरे हुए हैं। भाकपा राज्य सचिव सत्य नारायण सिंह ने कहा है कि ऐसी स्थिति में सर्प समेत अन्य विषैले जीवों और बीमारियों का प्रकोप बढ़ गया है। पटना के आसपास की नदियां यथा गंगा, सोन, पुनपुन आदि उफान पर है। इसलिए राजधानी पर बाढ़ का खतरा भी बढ़ गया है। राजधानी की झोपड़पट्टियांे में निवास कर रहे लोगों की स्थिति और खराब है, जहां कमजोर तबके के लोगा निवास करते हैं। जल जमाव से लोगों का जीवन त्रस्त है। भाकपा राज्य सचिव ने बिहार सरकार से मांग की है कि मुहल्लों से युद्ध स्तर पर पानी की निकासी किया जाये। पानी भरे मुहल्लों, खासकर झोपड़ीपट्टियों में राहत सामग्री, दवा खाद्य पदार्थ की व्यवस्था अबिलम्ब शुरू किया जाय। उफनती नदियों पर विषेष निगरानी रखी जाए। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...