इमरान खान ने यूएन के मंच से दी भारत को युद्ध की धमकी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 28 सितंबर 2019

इमरान खान ने यूएन के मंच से दी भारत को युद्ध की धमकी

imran-warn-india-for-war
संयुक्त राष्ट्र की आम सभा को संबोधित करते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने वर्ल्ड वॉर की धमकी दी है. इमरान खान ने कहा कि हम भारत से सात गुना ज्यादा कमजोर देश हैं लेकिन अगर हमें दबाया गया तो एक ना एक दिन हमें हथियार उठाना ही पड़ेगा और अगर दो परमाणु संपन्न देशों में युद्ध होता है तो इसकी आंच सिर्फ दो देशों तक ही सीमित नहीं रहेगी. इमरान खान ने कश्मीर का जिक्र छेड़ते हुए कहा कि कश्मीर की 80 लाख जनता को जानवरों की तरह 55 दिनों से घर में कैद करके रख दिया गया है. इमरान खान ने कहा कि क्या भारत सरकार और पीएम नरेंद्र मोदी ने कभी सोचा कि जब कश्मीर से कर्फ्यू हटेगा तब क्या होगा? क्या कश्मीरी चुपचाप बैठेंगे? हजारों कश्मीरी पिछले सालों में मारे गए हैं. 11000 महिलाओं का बलात्कार हुआ है. संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट है. कोई कुछ नहीं करता क्योंकि भारत बड़ा बाजार है लेकिन इसके गंभीर परिणाम होंगे. कर्फ्यू हटने के बाद कश्मीर में खून की नदियां बहेंगी. क्या भारत सरकार ने सोचा है कि तब क्या होगा. क्या होगा जब खून की नदियां बहेगी? कश्मीरी लोगों पर इसका क्या असर होगा? कश्मीरियों को 55 दिनों से जानवरों की तरह बंद किया गया है. उन्होंने कहा कि 13000 कश्मीरी लड़कों को भारतीय सेना उठाकर पता नहीं कहा ले गई है. इमरान खान ने धमकी भरे लहजे में कहा कि भारत में एक बार फिर पुलवामा जैसा हमला होगा और एक बार भारत फिर हमपर आरोप लगाएगा. इमरान खान ने कहा कि भारत के हिंदू क्या नहीं देख रहे कि कश्मीरियों के साथ क्या हो रहा है. कश्मीर में ये सबकुछ इसलिए हो रहा है क्योंकि कश्मीर में मुसलमान हैं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा कि ये बहुत ही संवेदनशील समय है. पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराया जाएगा. दो न्यूक्लियर संपन्न देश एक दूसरे की तरफ युद्ध की तरफ बढ़ेंगे. यूएन की जिम्मेदारी है, इसलिए 1945 की स्थापना हुई थी. आपकी जिम्मेदारी है कि युद्ध को रोकें. क्या आप बाजार के लिए खड़े होंगे या मानवता और जस्टिस के लिए खड़े होंगे. इमरान खान ने कहा कि हमारे पास दो ऑप्शन हैं कि हम चुपचाप मान जाएं या लड़े और जब मैं ये सवाल खुद से पूछता हूं तो ये पता है कि हम लड़ेंगे.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...