भारत, रूस अपने द्विपक्षीय संबंधों को मजबूती एवं विविधता प्रदान करना चाहते हैं : मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 3 सितंबर 2019

भारत, रूस अपने द्विपक्षीय संबंधों को मजबूती एवं विविधता प्रदान करना चाहते हैं : मोदी

india-russia-strong-relation-modi
नयी दिल्ली, तीन सितंबर, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि वह पूर्वी आर्थिक मंच की बैठक में हिस्सा लेने के लिये अपनी व्लादिवोस्तोक यात्रा के दौरान रूसी राष्ट्रपति ब्लादीमिर पुतिन के साथ आपसी हितों से जुड़े क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा को लेकर आशान्वित हैं ।  प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी यह यात्रा दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों को विविधता प्रदान करने और रिश्तों को और मजबूत बनाने की इच्छा को प्रदर्शित करती है ।  मोदी की रूस के इस सुदूर पूर्वी क्षेत्र की यात्रा किसी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली यात्रा है । प्रधानमंत्री ने बुधवार से शुरू होने वाली अपनी दो दिवसीय यात्रा पर रवाना होने से पहले अपने बयान में कहा, ‘‘ मैं अपने मित्र राष्ट्रपति पुतिन के साथ हमारे द्विपक्षीय संबंधों तथा आपसी हितों से संबंधित क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय मुद्दों के सभी आयामों पर चर्चा को लेकर आशान्वित हूं । ’’  व्लादिवोस्तोक में मोदी 5वीं पूर्वी आर्थिक मंच की बैठक में राष्ट्रपति पुतिन के निमंत्रण पर मुख्य अतिथि के रूप में हिस्सा लेंगे ।  प्रधानमंत्री मोदी व्लादिवोस्तोक में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ 20 वीं वार्षिक द्विपक्षीय शिखर बैठक करेंगे। मोदी और पुतिन देश के एक प्रमुख पोत निर्माण यार्ड का भी संयुक्त दौरा करेंगे। मोदी ने कहा, ‘‘ मैं पूर्वी आर्थिक मंच की बैठक में हिस्सा लेने वाले वैश्विक नेताओं के साथ बैठक तथा इसमें हिस्सा लेने वाले भारतीय उद्योगों एवं कारोबारी प्रतिनिधियों से चर्चा के लिए भी उत्सुक हूं । ’’  उन्होंने कहा कि यह मंच रूस के सुदूर पूर्वी क्षेत्र में कारोबार एवं निवेश अवसरों के विकास पर जोर देने तथा इस क्षेत्र में भारत और रूस के बीच साझा लाभ के लिये सहयोग बढ़ाने का व्यापक अवसर प्रदान करता है ।  प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘ हम दोनों देशों के बीच शानदार संबंध हैं जो हमारे विशेष एवं विशिष्ट सामरिक संबंधों से जुड़े मजबूत आधार पर हैं । दोनों देशों के बीच रक्षा, असैन्य परमाणु ऊर्जा, अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण उपयोग जैसे सामरिक क्षेत्रों में व्यापक सहयोग हैं । हमारे बीच कारोबार एवं निवेश के क्षेत्र में गहरे संबंध है।’’  मोदी ने कहा कि हमारी मजबूत साझेदारी एक बहु ध्रवीय विश्व बनाने की इच्छा से पूरित है और दोनों देश इसे हासिल करने में सहयोग दे रहे हैं। मोदी ने कई ट्वीट करके कहा कि सांस्कृतिक सहयोग बढ़ाने के प्रयासों के तहत महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर एक विशेष टिकट जारी किया जाएगा। उन्होंने कहा,‘‘योग को लोकप्रिय बनाने के लिए एक नवोन्मेशी ऐप की शुरुआत की जाएगी। मैं उम्मीद करता हूं कि बड़ी संख्या में रूसी भाई एवं बहनें योग को अपनी दिनचर्या का अभिन्न हिस्सा बनाएंगे।’’  अपनी यात्रा में मोदी ज्वेज्दा पोत निर्माण परिसर भी जाएंगे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...