पांच साल में दुनिया में भारत का सम्मान बढा : प्रधानमंत्री - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 28 सितंबर 2019

पांच साल में दुनिया में भारत का सम्मान बढा : प्रधानमंत्री

india-s-honor-increased-in-the-world-in-five-years-mod
नयी दिल्ली, 28 सितम्बर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका की एक सप्ताह की यात्रा से लौटने पर अाज रात कहा कि पिछले पांच साल के दौरान दुनिया की नजरों में भारत का सम्मान बढा है और पूरी दुनिया भारत एवं अमेरिका के बीच बढ़े संबंधों को नये वैश्विक समीकरण की रूप में देखने लगी है। श्री मोदी ने अमेरिका से लौटने के बाद शनिवार को यहां पालम टेक्नीकल एरिया वायुसेना के हवाई अड्डे के बाहर उनके सम्मान के लिए पहुंचे उनके प्रशंसकों को संबोधित करते हुए कहा कि अमेरिका में ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम के जरिए जिस तरह से दुनिया में भारत की शक्ति का संदेश पहुंचा है उससे दुनिया का भारत के प्रति नजरिया बदला है तथा देश के प्रति स्वीकृति बढ़ी है और आदर बढ़ा है। उन्होंने कहा कि 2014 में सरकार बनने के बाद वह अमेरिका गये थे और तब भी संयुक्त राष्ट्र महासभा के अधिवेशन में शामिल हुए थे और इस बार भी वह चुनाव जीतने के बाद सम्मेलन में गये। उन्होंने कहा कि इस बार उन्होंने देखा कि भारत का दुनिया में जबरदस्त मान सम्मान बढा है। इसका कारण भारत के 130 लोग हैं जिन्होंने अधिक मजबूत सरकार बनायी है। उन्होंने कहा कि दुनिया में भारत को जो सम्मान मिला है उसका श्रेय भारत की सवा अरब आबादी तथा पूरी दुनिया में फैले भारतीयों को जाता है। प्रधानमंत्री ने तीन वर्ष पहले आज ही के दिन हुई सर्जिकल स्ट्राइक को याद करते हुए कहा “आज से तीन साल पहले 28 सितम्बर को पूरी रात सोया नहीं था। हर पल जागता रहा कि टेलीफोन की घंटी कब बजेगी। वह पल भारत के बीर जवानों की स्वर्णिम गाथा लिखने वाला था। तीन साल पहले आज के ही दिन भारत के बीर जवानों ने पूरी दुनिया में भारत की आन बान शान और पराक्रम को देखा था। मैं अपने जीवन को मु्ट्ठी पर लेकर गये वीर जवानों के शौर्य को प्रणाम करता हूं।” पालम टेक्नीकल एरिया हवाईअड्डे पर श्री मोदी का विमान करीब आठ बजकर पांच मिनट पर रनवे पर उतरा। भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा, भाजपा के उपाध्यक्ष श्याम जाजू, राष्ट्रीय सचिव तरुण चुघ, दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी, केन्द्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन, सांसद हंसराज हंस, मीनाक्षी लेखी, प्रवेश वर्मा और रमेश विधूड़ी, दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेन्द्र गुप्ता और पूर्व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने उनका स्वागत एवं अभिनंदन किया।

पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं का कहना था कि प्रधानमंत्री ने अमेरिकी धरती पर जिस प्रकार देश का गौरव बढ़ाया है और संयुक्त राष्ट्र के मंच से पाकिस्तान को बेनकाब किया है, उसे देखते हुए एक बड़े जश्न की तैयारी की गई। श्री मोदी के वाहनों का काफिला जैसे ही हवाईअड्डे से निकला वैसे ही लोगों ने भारत माता की जय के नारों से उनका स्वागत किया। वायुसैनिक अड्डे के बाहर दिल्ली के मंच पर श्री मोदी इस संक्षिप्त संबोधन के बाद नीचे उतरे और पैदल की थिमैया मार्ग पर चल पड़े। थिमैया रोड पर 25 हजार से अधिक लोग सड़क के दोनों ओर हाथों में तिरंगा लिये हुए जमा थे। प्रधानमंत्री ने सड़क के दोनों ओर खड़े लोगों का अभिवादन किया जबकि लोगों ने उन पर गुलाब एवं अन्य फूलों की पंखुड़ियां फेंक कर स्वागत किया। कुछ दूरी तक पैदल चलने के बाद वह गाड़ी में सवार हो गये। दिल्ली पुलिस ने प्रधानमंत्री के लौटने के मार्ग पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं। अर्द्धसैन्य बलों की नौ कंपनियां तैनात हैं। तमाम एजेंसियों के साथ सुरक्षा व्यवस्था मुस्तैद रहेगी। काफिले के मार्ग पर पड़ने वाले मकानों की छतों पर भी जवानों को तैनात किया गया था। श्री मोदी 20 सितंबर की मध्यरात्रि को अमेरिका की यात्रा पर रवाना हुए थे। वह सबसे पहले टेक्सास प्रांत की राजधानी ह्यूस्टन पहुंचे थे। जहां 22 सितंबर को श्री मोदी ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ एनआरजी फुटबाल स्टेडियम में 50 हजार से अधिक प्रवासी भारतीयों के कार्यक्रम हाउडी मोदी में शिरकत की। इसके बाद वह न्यूयॉर्क में रहे आैर 20 से अधिक विश्वनेताओं से मिले और कई बहुपक्षीय एवं व्यापारिक बैठकों में हिस्सा लिया। कल 27 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा के अधिवेशन काे संबोधित करने के बाद श्री मोदी स्वदेश के लिए रवाना हुए थे। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन और अमेरिका में भारत के राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला ने प्रधानमंत्री को हवाईअड्डे पर विदाई दी थी। श्री मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने कार्यक्रम के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति श्री ट्रंप और अमेरिका के लोगों को स्वागत के लिए धन्यवाद किया। उन्होंने रवानगी से पहले कई ट्वीट किए और कहा कि वह हाउडी मोदी कार्यक्रम को कभी भूल नहीं पाएंगे, जिसे श्री ट्रंप ने अपनी उपस्थिति से खास बना दिया। प्रधानमंत्री ने कहा, “मैं असाधारण स्वागत और गर्मजोशी के लिए अमेरिका के लोगों के प्रति आभार व्यक्त करना चाहूंगा. मैं धन्यवाद भी कहना चाहूंगा। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और अमेरिकी कांग्रेस एवं सरकार के अन्य सम्मानित सदस्यों को धन्यवाद।”

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...