मोदी को मिले 2,700 से अधिक उपहारों की शनिवार से शुरू होगी नीलामी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 14 सितंबर 2019

मोदी को मिले 2,700 से अधिक उपहारों की शनिवार से शुरू होगी नीलामी

modi-gift-auction
नयी दिल्ली, 14 सितंबर, केंद्रीय संस्कृति मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल ने केंद्र की नमामि गंगे परियोजना के लिए निधि जुटाने के मकसद से पिछले एक साल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मिले उपहारों की प्रदर्शनी एवं ई-नीलामी का शनिवार को उद्घाटन किया। राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय में शॉल, पगड़ियां और जैकेटों समेत 2,700 से अधिक स्मृति चिह्नों की शनिवार से लेकर तीन अक्टूबर तक www.pmmementos.gov.in पर नीलामी की जाएगी। पटेल ने बताया कि राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय (एनजीएमए) में सुबह 11 बजे से रात आठ बजे तक लोगों के लिए ‘‘स्मृति चिह्न’’ नाम से करीब 500 स्मृति चिह्नों की प्रदर्शनी लगाई गई है।  उन्होंने बताया, ‘‘जो स्मृति चिह्न प्रदर्शित हैं उन्हें हर सप्ताह बदला जाएगा। उपहारों में पेंटिंग्स, स्मृति चिह्ल, मूर्तियां, शॉल, पगड़ी, जैकेट और पारंपरिक संगीत वाद्ययंत्र शामिल हैं। पटेल ने बताया कि स्मृति चिह्नों के लिए सबसे कम कीमत 200 रुपये और अधिकतम 2.5 लाख रुपये तय की गई है। मोदी ने खुद इस प्रयास की सराहना की है और लोगों से इसमें भाग लेने का अनुरोध किया है। प्रधानमंत्री ने ई-नीलामी वेबसाइट के लिंक को टैग करते हुए ट्वीट किया, ‘‘जो भी हो रहा है, मेरा हमेशा उसमें यकीन रहा है। पिछले एक साल में मुझे जितने भी उपहार और स्मृति चिह्न मिले है उनकी नीलामी आज से शुरू होकर तीन अक्टूबर तक होगी। इन स्मृति चिह्नों की दिल्ली में इंडिया गेट के समीप एनजीएमए में प्रदर्शनी लगाई जाएगी।’’  पटेल ने कहा कि मोदी भारत के पहले प्रधानमंत्री है ‘‘जिन्होंने देश की जीवनरेखा को संरक्षित करने के नेक काम के लिए उन्हें मिले सभी उपहारों की नीलामी करने का फैसला किया है।’’  स्मृति चिह्नों में 576 शॉल, 964 अंगवस्त्र, 88 पगड़ियां और विभिन्न जैकेटें शामिल हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...