सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 09 सितंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 9 सितंबर 2019

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 09 सितंबर

सर्वाधिक सदस्य बनाकर कीर्तीमान रचने  वाले नरेंद्र का भाजपा ने किया सम्मान 

sehore news
सीहेार। जिला मुख्यालय पर सर्वाधिक भाजपा के नये सदस्य बनाने वाले सक्रिय युवा भाजपा कार्यकर्ता नरेंद्र राजपूत को भाजपा ने सम्मानित किया है। पचामा में आयोजित भाजपा संगठन चुनाव कार्यशाला में प्रदेश भाजपा मंत्री एवं चुनाव प्रभारी सुश्री कविता पाटिदार,संभाग संगठन मंत्री आशुतोष तिवारी,जिला प्रभारी भक्तपाल सिंह, प्रदेश मंत्री रघुनाथ सिंह भाटी ने यह सम्मान श्री राजपूत को दिया है।  युवा भाजपा कार्यकर्ता श्री राजपुत ने शहर के बाजारों और गलियोंं में घर घर सहित दुकानों पर पहुंचकर  सदस्यता अभियान पर्व के तहत 1050 से अधिक सदस्य बनाने का कीर्तीमान बनाया है। उल्लेखनीय है की भाजपा प्रदेश सदस्यता प्रभारी ने प्रत्येक कार्यकर्ता को कुल 25 नये सदस्य बनाने का लक्ष्य दिया था। जबकी नरेंद्र ने सभी माध्यमों से तय लक्ष्य 25 के स्थान पर सभी कीर्तीमान ध्वस्त करते हुए 1025 अधिक सदस्य बनाकर श्रेष्ठतम कार्य को अंजाम दिया।  सम्मान कार्यक्रम के दौरान जिलाध्यक्ष सीताराम यादव, गुरुप्रशाद शर्मा, विधायक करण सिंह वर्मा,प्रदेश भाजपा कार्यकारिणी सदस्य जसपाल सिंह अरोरा, ललित नागोरी, सहित सभी जिला पदाधिकारी,मडंल अध्यक्ष, और मोर्चो के जिला अध्यक्षों ने युवा कार्यकर्ता श्री राजपूत को महत्वपूर्ण उपलब्धी पर बधाई दी। 

विष्णु मंदिरों में होंगे विशेष धार्मिक आयोजन  अनंत बांधने से होती है मनुष्य की रक्षा  

sehore news
सीहोर। अनंत चतुर्दशी पर्व शहर के सभी विष्णु और श्रीकृष्ण मंदिरों में मनाया जाएगा। मंदिरों में भगवान की प्रतिमाओं का विशेष श्रृंगार कर विधिवत पूजा अर्चना की जाएगी। अनेक श्रद्धालुओं के द्वारा अनंत चतुर्दशी उपवास भी रखा जाएगा।  पंडित सुनील शर्मा ने बताया की भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को अनंत चतुर्दशी व्रत कहा जाता है। गुरुवार 12 सितंबर को सूर्योदय काल में धनिष्ठा नक्षत्र में अनंत चतुर्दशी प्रारंभ होगी। महाभारत काल में जब पांडव अपना राज्य प्रतिस्पर्धा में हारकर वन में भटक रहे थे तब भगवान श्रीकृष्ण ने पांडवों को अनंत चतुर्दशी व्रत रखने को कहा था तभी से अनंत चतुर्दशी व्रत का प्रारंभ माना जाता है।  श्रद्धालु अनंत चतुर्दशी पर क्षीर सागर में शेष शय्या पर शयन करने वाले रूप में भगवान विष्णु की पूजा करेंगे। श्रद्धालुओं के द्वारा अनंत चतुर्दशी व्रत में सूत या रेशम के धागे को कुमकुम से रंगकर उसमें 14 गांठे लगाई जाएंगी। यह 14 गांठे भगवान विष्णु के 14 लोकों का प्रतीक मानी गई है । विधि विधान से पूजा अर्चना कर इस सूत को कलाई पर बांधा जाता है इसी को अनंत कहा जाता है। यह अनंत रक्षा सूत होता है जो मनुष्य की संकटों से रक्षा करता है। 

आपकी सारकार आपके द्वारा कार्यक्रम में प्राप्त शिकायतों का गंभीरता पूर्वक निराकरण करें - कलेक्टर 
समय सीमा बैठक सम्पन्न  
sehore news
सोमवार को कलेक्टर श्री अजय गुप्ता की अध्यक्षता में समय सीमा बैठक संपन्न हुई। बैठक में कलेक्टर ने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया है कि आपकी सरकार आपकी आपके द्वारा कार्यक्रम में प्राप्त शिकायतों का निराकरण गंभीरतापूर्वक करें। यदि किसी प्रकार की मांग ग्रामवासियों द्वारा रखी गई हो तो इसके लिए संबंधित विभाग के सर्वोच्च अधिकारी  को कलेक्टर की ओर से पत्र लिखवाएं। बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री अरुण कुमार विश्चकर्मा, अपर कलेक्टर श्री विनोद कुमार चतुर्वेदी सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे। कलेक्टर ने मुख्य नगर पालिका अधिकारी को निर्देशित किया कि त्यौहारों पर गणेश प्रतिमा एवं ताजिए विसर्जन को लेकर अस्थाई तालाब, नदी, तालाब आदि पर काई की वजह से फिसलन का डर रहता है। विसर्जन स्थलों पर काई हटवाने एवं साफ-सफाई की व्यवस्था करना सुनिश्चत करें। विसर्जन स्थलों पर देर रात्रि तक विजर्सन का सिलसिला जारी रहता है जिसको लेकर बिजली एवं लाईट का उचित प्रबंध किया जाए। कलेक्टर ने जिले के सभी राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि शहर की सीमा से गुजरने वाने राष्ट्रीय राजमार्गों के लिए अभियान चलाकर नक्शा तरमीन करलें। अमानक खाद्य सामग्री के विक्रय पर रोक लगाने के उद्देश्य से कलेक्टर ने जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी खाद्य पदार्थ तेल, दुधारु पशुओं को लगाए जाने वाले ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन आदि की जांच करने के लिए कहा। इसी प्रकार खुले में एसिड के विक्रय पर भी कलेक्टर ने प्रतिबंध लगाने के निर्देश दिए हैं। प्रशासन की अनुमति लिए बिना कोई भी विक्रेता बाजार में एसिड नहीं बेच सकता। पोषण माह के रूप में मनाए जा रहे सितंबर माह के संबंध में कलेक्टर ने उद्यानिकी विभाग को निर्देशित किया है कि जिले में सभी कुपोषित बच्चों के घरों में पोषण वाटिका विकसित करें। उन्होंने कहा कि जिले के शासकीय विभाग जिनके दफ्तर नए भवन में स्थानांतरित किए जा चुके हैं उनके पुराने भवनों का इस्तेमाल आंगनवाड़ी केन्द्र खोलने में किया जाएगा। यदि शासकीय स्कूलों में एक या दो कक्ष अतिरिक्त बनाने की जगह है तो वहां अतिरिक्त कक्ष बनाकर आंगनवाड़ी चलाई जाए। कलेक्टर ने सभी तहसीलदारों को निर्देशित किया कि प्रमाण पत्रों के लंबित प्रकरणों का निराकरण एक सप्ताह के भीतर करना सुनिश्चत करें। भारी वर्षा के कारण जिले के नदी-नाले उफान पर चल रहे हैं इस दौरान रपटों एवं पुलियाओं पर ध्यान दिया जाए। बाढ़ आदि की स्थिति में लोगों को नदी-नाले पार न करने के लिए समझाईश दें।

जिले में अब तक 1254.6 मि.मी. औसत वर्षा

जिले में आज 09 सितंबर, 2019 की प्रात:8 बजे समाप्त पिछले चौबीस घन्टों में 74.6 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसे मिलाकर 1 जून से अभी तक जिले में 1254.6 मि.मी औसत बारिश रिकार्ड की जा चुकी है जबकि गत वर्ष इस अवधि में 854.3  मिलीमीटर औसत वर्षा आंकी गई थी। अधीक्षक, भू-अभिलेख से मिली जानकारी के अनुसार पिछले चौबीस घन्टों में  सीहोर में 65.2, श्यामपुर में 39, आष्टा में 80, जावर में 65, इछावर में 118, नसरुल्लागंज में 93, बुधनी में 60, रेहटी में 76.6 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। आंकड़ों के मुताबिक जिले में अभी तक सीहोर में 1558.2, श्यामपुर में 1183, आष्टा में 1299, जावर में 847.9, इछावर में 1256, नसरूल्लागंज में 1430, बुधनी में 1189 तथा रेहटी में 1273.5 मिलीमीटर वर्षा रिकार्ड की गई है। इस अवधि में गत वर्ष सीहोर में 1203.2, श्यामपुर में 901, आष्टा में 799, जावर में 665.3, इछावर में 880, नसरूल्लागंज में 565.2, बुधनी में 865 तथा रेहटी में 956 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई थी।

भारत निर्वाचन आयोग द्वारा पूरे भारत में मतदाता सत्यापन कार्यक्रम 15 अक्टूबर तक  

निर्वाचन आयोग ने प्रदेश के समस्त मतदाताओं के सत्यापन की समय-सीमा 15 अक्टूबर के पूर्व सम्पादित किये जाने हेतु निर्धारित किया है। विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 2020 के प्रारूप प्रकाशन के पूर्व जिले के समस्त मतदाताओं के सत्यापन का कार्य शत-प्रतिशत पूर्ण कराया जाना है, जिसके आधार पर जिले में प्रारूप प्रकाशन की अनुमति आयोग से प्राप्त होगी। मतदाता सत्यापन कार्य को समय-सीमा में पूर्ण करने के लिये जिले के सभी विधान सभा क्षेत्रों की समीक्षा की जायेगी। मतदाता सहायता केन्द्र पर जो भी मतदाता सत्यापन/ संशोधन के लिये आएंगे उनका सत्यापन उस विधानसभा क्षेत्र के डाटा एन्ट्री आपरेटर लॉगिन से किया जाएगा। प्रत्येक मतदान केन्द्र हेतु नियुक्त बीएलओ Hybrid BLO Register App द्वारा डोर टू डोर भ्रमण के दौरान क्षेत्र के समस्त मतदाताओं एवं उनके परिवार से व्यक्तिगत सम्पर्क कर सत्यापन का कार्य एवं उनके मकान की लोकेशन को दर्ज करना सुनिश्चित करेंगे। मतदाता सत्यापन मतदाता द्वारा स्वयं वोटर हेल्पलाईन एप्प के माध्यम से,  NVSP पोर्टल के माध्यम से, कॉमन सर्विस सेन्टर के माध्यम से,  जिला कान्टेक्ट सेन्टर 1950 के माध्यम से, विधानसभा स्तर पर मतदाता सहायता केन्द्र के माध्यम से संचालित किया जा सकता है।

डेंगू से बचाने हेतु सावधानी बरतना आवश्यक  

डेंगू डेन वायरस से फैलने वाली वायरस जनित संक्रामक रोग है, जो डेंगू संक्रमित व्यक्ति से स्वस्थ व्यक्ति में संचारी होता हैं। यह रोग संक्रमित मादा एडीज मच्छर के काटने से फैलता है। यह मच्छर दिन के समय प्राय: सुबह व शाम के समय काटता है। डेंगू का कोई टीका या दवा नहीं है। एडीज मच्छर के काटने से बचाव व संक्रमित मच्छरों के लार्वा का विनिष्टीकरण ही इसका एकमात्र उपाय हैं। एक बार शरीर में डेन वायरस का संक्रमण होने के बाद डेंगू बुखार के लक्षण  5-6 दिन पश्चात् प्रकट होते हैं। इस हेतु घबराने की जरूरत नहीं होती हैं इस अवस्था में रोगी को मच्छरदानी में पूर्ण आराम करने व जल-उपचार(जैसे-शिकंजी, नीबु पानी, ओआरएस, नारियल पानी, ग्लुकोस इत्यादि के द्वारा शरीर में जल की पूर्ति ) करने की सलाह दी जाती हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा आमजनों को सलाह दी गई है कि डेंगू से बचाव के लिये डेंगू मच्छर के लार्वा घर के साफ पानी में पनपते है, घरों में लंबे समय तक बर्तनों में जल संग्रह ना करें, कुलर की पुरानी घास जला दें क्योंकि पुरानी घासों में डेंगू मच्छर का अंडे सूखी अवस्था में भी जीवित रहते है तथा कुलर का पानी सप्ताह में एक बार अवश्य ही खाली करें, घर के अंदर रखें बर्तनों, पक्षियों के सिकोरों व मवेशियों को पानी पिलाने के टंकियों व कंटेनरों की साफ सफाई रखें, घर के आसपास पानी जमा न होने दे निकासी की व्यवस्था करे निकासी न होने पर उसमें जला हुआ तेल/कैरोसीन डाल दें संक्रमण काल को देखते हुये स्वयं एवं स्कूली बच्चों को फुल आस्तीन के कपडें पहनायें क्योंकि बच्चों में प्रतिरक्षा तंत्र कमजोर होने के कारण यह सबसे पहले बच्चो को अपना शिकार बनाता हैं। घर की खिडकियों दरवाजों पर मच्छरप्रूफ जाली लगायें तथा घर में मच्छर भगाने वाली मेट ,काइल, लिक्विड का उपयोग अवश्य करे तथा सोते समय मच्छरदानी लगायें।

डेंगू बीमारी के लक्षण
सामान्य प्रकार के डेंगू में तेज सिरदर्द, आंखों के पीछे की ओर दर्द, शरीर पर लाल चकते या दाने, जोडों व मांसपेशियों मे दर्द होना दिखाई देता हैं। जब डेंगू घातक अवस्था में पहुँचता है तो उक्त लक्षणों के साथ-साथ मसुडों व आंतों से रक्त स्त्राव का होना अथवा खून में प्लेटलेट का कम होना लक्षण पाये जाते है इसमें तत्काल मरीज को नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर चिकित्सक की सलाह के अनुसार उपचार लेना चाहिये।

विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस पर प्रशिक्षण सह कार्यशाला आयोजित  

sehore news
जिला मानसिक कार्यक्रम के अंतर्गत विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस के अवसर पर स्थानीय जिला चिकित्सालय स्थित एएनएम प्रशिक्षण केन्द्र में एक जागरूकता कार्यक्रम सह कार्यशाला का आयोजन किया गया। मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉ.आर.के.बैरागी के निर्देशन तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.प्रभाकर तिवारी के मार्गदर्शन  में आयोजित उक्त कार्यक्रम में चिकित्सा मनोवैज्ञानिक  राहुल शर्मा व स्टाफ नर्स नीलम चोपड़ा ने प्रशिक्षु एएनएम  को संबोधित करते हुए आत्महत्या के कारणों पर प्रकाश डाला।  प्रशिक्षुओं को बताया गया कि आज दुनिया में प्रतिवर्ष 8 लाख से अधिक लोग आत्महत्या करते हैं इस कारण यह मानसिक स्वास्थ्य के क्षेत्र की एक बड़ी समस्या का रूप ले बैठी है। हमारे देश में दुनिया के सर्वाधिक किशोर और युवा आयुवर्ग के लोग आत्महत्या करते है जो बहुत चिंता की बात है। आत्महत्या के पीछे सबसे अधिक जिम्मेवार कारकों में मानसिक रोग विशेषकर डिप्रेशन होना प्रमुख है। प्रतिभागियों को डिप्रेशन की समस्या पर भी जागरूक किया गया व इससे संबंधित जानकारी के पर्चे भी उनके बीच वितरित किए गए साथ ही आत्महत्या की रोकथाम में मनोवैज्ञानिक परामर्श व स्वयं सहायता समूह के महत्व को समझाया गया। इसके साथ साथ जिला चिकित्सालय सीहोर में भी मनकक्ष में कार्यक्रम आयोजित कर मरीजों व उनके परिजनों से आत्महत्या की रोकथाम पर विस्तार से चर्चा की गई। उनकी समझ बढ़ाने हेतु विभिन्न मानसिक बीमारियों की जानकारी देने वाले पर्चें भी वितरित किए गए।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...