सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 18 सितंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 18 सितंबर 2019

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 18 सितंबर

माँ अपने आप में तपस्या है, माता पिता की सेवा करने से सारे फल मिलते है- तिवारी, स्वर्णकार समाज द्वारा आयोजित भागवत कथा महापुराण का तीसरा दिन 

sehore news
सीहोर। माँ अपने आप में तपस्या है और माता पिता की सेवा करने से सारे फल प्राप्त होते है यह बात स्वर्णकार समाज द्वारा आयोजित श्रीमद् भागवत महापुराण के तीसरे दिन पंडित शैलेष तिवारी ने बड़ी संख्या में उपस्थित श्रद्धालुओं से कही। पंडित तिवारी ने स्वर्णकार समाज के श्रीराम मंदिर में आयोजित भागवत कथा महोत्सव के तीसरे दिन कहा कि माँ का दूसरा नाम तप है वो अपने आप में तपस्या है वे अपनी संतान का बेहतर संस्कार देती है माता पिता की सेवा करने से सारे प्रतिफल मिल जाते है, लेकिन आज अत्यंत ही दुखद पहलू यह है कि संतान साधन सम्पन्न होते हुए भी उन्हें वृद्धा आश्रम में भेज रहे है यह निश्चित रुप से हमारे समाज के लिए चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि हमें कभी भी किसी गुरु का अनादर नहीं करना चाहिए गुरु का हाथे थामें रखने में ही हम सभी की भलाई निहित है गुरु मंत्र के रुप में हमारे जीवन में सदा बने रहते है हमें कभी भी मंत्र को विस्मृत नहीं करना चाहिए सदगुरु हमेें सदगुणों की ओर लेकर जाते है गुरु को विस्मृत करने पर इन्द्र जैसी हस्तियों को भी पराजय का सामना करना पड़ जाता है, भगवान कभी पक्षपात नहीं करता है यह लोगों को भ्रम रहता है भगवान  को जो जिस भाव से पूजता है उसे उसी प्रकार का फल प्राप्त होता है। भागवत कथा के तीसरे दिन सीहोर के भागवत भूषण पंडित प्रदीप मिश्रा भी विशेष रुप से शामिल हुए स्वर्णकार समाज ने शाल श्रीफल प्रदान कर उनका सम्मान किया।

पहले दिन हीं हाउस फुल हुआ अभिरूचि गरबा महोत्सव प्रशिक्षण शिविर  प्रतिष्ठित राय परिवार की बहुओं ने माता जगदंबा की अर्चना कर किया शुभारंभ 
बालक बालिकाओं और युवतियों ग्रहणियों में गरबा सीखने बना रहा उत्साह  गरबा प्रशिक्षकों ने सिखाए न्यू गरबा स्टेप, पंजीयन के लिए लगी रहीं कतार 
sehore news
सीहेार। ऐतिहासिक अभिरूचि गरबा महोत्सव प्रशिक्षण शिविर बुधवार से शुरू हो गया है। टाकीज सांस्कृतिक एवं सामाजिक संगठन के द्वारा आयोजित नि: शुल्क गरबा प्रशिक्षण पहले दिन ही हाउस फुल हो गया। टाकीज सांस्कृतिक एवं सामाजिक संगठन की सरंक्षक रोमिनी राकेश  राय,नमिता अखिलेश राय, अरूणा सुदेश राय और डॉली निलेश राय सहित सुधा राय ने माता जगदंबा के चित्र के समक्ष पंडित शुमितेश्वर महाराज के मंत्रोच्चार के साथ विधिवत पूजा अर्चना कर भव्य ग्यारह दिवसीय गरबा प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ किया। कार्यक्रम के शुभारंभ के पश्चात समाजसेवी एवं राय परिवार की ज्येष्ठ बहु रोमिनी राय ने कहा की गरबा केवल नृत्य नहीं माता की भक्ति भी है जिस से धार्मिक बोद्धिक शरीरिक शक्ति मिलती है।  अभिरूचि गरबा महोत्सव प्रशिक्षण के पहले दिन समूह गरबा और एकल नृत्य सीखने पहुंची बालक बालिकाओं और युगल जोड़ों सहित गह्रणियों में खासा उत्साह देखा गया है। प्रशिक्षण में शहर सहित आसपास के ग्रामीण अंचलों की बेटियां भी सम्मिलित हुई। गरबा प्रशिक्षक नवीन चौधरी और शिवानी चौधरी के द्वारा घरेलू माहौल में यशराज गार्डन के बढे भव्य हॉल में प्रशिक्षाणार्थियों को गुजराती, राजस्थानी, हरियाणा पंजाबी नृत्य शैली के सामुहिक गरबा एवं एकल नृत्यों का प्रशिक्षण दिया गया। टाकीज सांस्कृतिक एवं सामाजिक संगठन नि: शुल्क 11 दिवसीय अभिरूचि गरबा प्रशिक्षण शिविर में 8 से 14 वर्ष आयू की बालिकाओं के लिए विशेष गरबा प्रशिक्षण की सुविधा दे रहा हे। शनिवार 28 सितंबर तक प्रशिक्षण दिया जाएगा। गरबा प्रशिक्षण लेने के लिए सैकड़ों बालक बालिकाओं ने फार्म भरकर अपना रजिस्ट्रेशन कराया है। बालक बालिकाओं की बड़ती संख्या को देखते हुए गरबा नि: शुल्क प्रशिक्षण रजिस्ट्रेशन जारी रखे गए है।  टाकीज सांस्कृतिक एवं सामाजिक संगठन के अभिरूचि गरबा महोत्सव प्रशिक्षण शुभारंभ अवसर पर संतोष विजयवर्गीय, आभा कासट, शशि सोनी,मोहनी अग्रवाल, संध्या मोदी, वत्सला शर्मा  जिया कुशवाहा, प्रतिक्षा शमाज़्  सरीता कन्नौजियां, ज्योति राठौर एवं राजकुमार जायसवाल रिंकु, अक्षत कासट,नीलेश राठौर, पंडित शुमितेश्वर महाराज, अरूण राठौर, अमित अग्रवाल, अरविंद गुप्ता, पुरषोत्तम शर्मा, रतनेश राठौर, देवेंद्र राजपूत, विनय दुबे, पवन पुंशी, पवन अग्रवाल, नवीन चौधरी, जागेश्वर नेमा, दीपक मेवाड़ा मनोज दुबे, मनोज श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे। 

नाम रे सबसे बड़ा तेरा नाम और तारा बिना श्याम पर पहली स्टेप की 14 काउंट और दूसरी स्टेप की 20 काउंट की प्रेक्टिस नगर पालिका परिषद द्वारा आयोजित गरबा महोत्सव प्रशिक्षण शिविर का चौथा दिवस 

sehore news
सीहोर। नगर पालिका परिषद द्वारा आयोजित 14 दिवसीय नि: शुल्क गरबा प्रशिक्षण शिविर के चौथे दिन नाम रे सबसे बड़ा तेरा नाम और तारा बिना श्याम पर गरबा का प्रशिक्षण प्रदेश के ख्यात नाम गरबा प्रशिक्षक अमित राय से प्राप्त किया। इन्द्र देवता की कृपा आज टाउन हाल से बाहर आकर मैदान पर गरबा का प्रशिक्षण प्रदान किया गया। नगर पालिका परिषद अध्यक्ष श्रीमती अमीता जसपाल अरोरा ने चौथे दिवस के गरबा प्रशिक्षण शिविर का शुभांरभ माँ भगवती के चित्र पर माल्यापर्ण एंव दीप प्रज्ज्वलित कर किया, आज इन्द्र देवता की कृपा के चलते सभी महिलाओं और बेटियों ने हाल से बाहर आकर मैदान पर प्रशिक्षण प्राप्त किया, प्रदेश के ख्यात नाम गरबा प्रशिक्षक अमित राय और सह प्रशिक्षक जयंत दासवानी ने नाम रे सबसे बड़ा तेरा नाम और तारा बिना श्याम के सुंदर गीतों पर गरबा करने का प्रशिक्षण प्रदान करते हुए उन्हें पहली स्टेप के 14 काउंट और दूसरी स्टेप के 20 काउंट का प्रशिक्षण प्रदान किया इसके अलावा सिर्फ ढोल पर लयबृद्ध तरीके से गरबा करने का प्रशिक्षण प्रदान किया गया। शहर की सैकड़ों महिलाओं और युवतियों को गरबा करने के दौरान होने वाली बारीकियों से भी अवगत कराया।

सलकनपुर मेले की व्यवस्थाओं का जायजा लेने संभागायुक्त एवं  पुलिस महानिदेशक पहुंचे सलकनपुर

sehore news
सलकनपुर मंदिर पर नवरात्रि पर्व के उपलक्ष्य में लगने वाले मेला एवं पितृमोक्ष/भूतड़ी अमावस्या पर व्यवस्थाओं जायजा लेने बुधवार को संभाग आयुक्त श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव एवं पुलिस महानिदेशक श्री योगेश देशमुख सलकनपुर पहुंचे। उन्होंने अधिकारियों की बैठक लेकर मेले के लिए की जाने व्यवस्थाओं की समीक्षा की एवं मेला स्थल व घाट का निरीक्षण भी किया। इस अवसर पर कलेक्टर श्री अजय गुप्ता, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री अरुण कुमार विश्वकर्मा, पुलिस अधीक्षक श्री शशीन्द्र चौहान, अनुविभागीय अधिकारी बुदनी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।  बैठक के दौरान कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने जानकारी दी कि 28 सितंबर को पितृमोक्ष/भूतड़ी अमावस्या के दौरान श्रद्धालुओं की सुविधाओं को दृष्टिगत रखते हुए आंवलीघाट पर विभिन्न प्रकार की व्यवस्थाएं की जाएंगी। नवरात्रि के दौरान सलकनपुर मुख्य मार्ग पर रेत के डंपरों सहित भारी वाहनों के आवागमन पर कलेक्टर द्वारा प्रतिबंधित लगा दिया जाएगा। इसके अलावा प्रमुख जगहों पर सीसीटीवी कैमरे एवं कंट्रोल रूम स्थापित किए जाएंगे। मेले के दौरान कंडम वाहन और गैस से चलने वाले वाहनों पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा।   कलेक्टर ने बिजली विभाग के अधिकारियों को रौशनी की व्यवस्था करने, पीडब्ल्यूडी विभाग को मुख्य सड़क ठीक करने, स्वास्थ्य विभाग को नवरात्रि मेले के दौरान मेडिकल टीमें सभी सामान्य उपकरणों के साथ उपलब्ध कराने एवं होमगार्ड के अधिकारी को घाट पर गौताखोरों को नियुक्त करने एवं डेंजर जोन चिन्हांकित करने के निर्देश दिए। संभाग आयुक्त श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव एवं भोपाल पुलिस महानिदेशक श्री योगुश देशमुख ने सभी को एक-दूसरे से समन्वय कर सौंपे गए कार्यों का निष्पादन करने के लिए कहा। साथ ही उन्होंने कहा कि आपस में संवाद के जरिये किसी भी प्रकार की चुनौती का सामना किया जा सकता है। संभाग आयुक्त श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव एवं पुलिस महानिदेशक श्री योगेश देशमुख ने सलकनपुर मंदिर परिसर, पहुंच-मार्ग आदि के साथ ही नर्मदा तट आंवलीघाट का भी निरीक्षण किया।

शासकीय योजनाओं में लापरवाही बरतने पर कलेक्टर ने किया आठ अधिकारियों को कारण बताओ सूचना पर जारी

प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) 1335 हितग्राहियों का सर्वे सत्यापन नहीं होने से हितग्राहियों का समय सीमा में लाभ प्रदाय करने में लापरवाही बरतने पर कलेक्टर श्री अजय गुप्ता द्वारा सिविल सेवा आचरण अधिनियम 1965 के नियम के तहत आठ अधिकारियों को कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया गया है। आदेश अनुसार मुख्य नगरपालिका अधिकारी विदिशा तत्कालीन मुख्य नगरपालिका अधिकारी सीहोर श्री सुधीर कुमार सिंह, मुख्य नगरपालिका अधिकारी आष्टा तत्कालीन मुख्य नगरपालिका अधिकारी सीहोर श्री नीरज श्रीवास्तव, सहायक आयुक्त नगरपालिका निगम भोपाल श्री इशांक धाकड़ तत्कालीन मुख्य नगरपालिका अधिकारी सीहोर, आयुक्त नगरपालिका निगम मुरैना तत्कालीन मुख्य नगरपालिका अधिकारी सीहोर श्री अमर सत्य गुप्ता, प्रभारी सहायक यंत्री नगरपालिका परिषद सीहोर श्री मनोज झंवर, उपयंत्री नगरपालिका विदिशा तत्कालीन उपयंत्री नगरपालिका परिषद सीहोर सुश्री नीलम रजक, उपयंत्री नगरपालिका परिषद सीहोर श्रीमती प्राची गुप्ता एवं सहायक वर्ग-3 नगरपालिका परिषद सीहोर श्री अखलेश नामदेव को कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया गया है।   नगरपालिका सीहोर में प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) में योजना का लाभ प्राप्त किये जाने के लिए नगर के 1335 हितग्राहियों द्वारा वर्ष 2018 के प्रथम एवं तृतीय माह के अंतराल में आवेदन प्रस्तुत किये गए थे। आवेदन प्रस्तुति के एक वर्ष से अधिक बीत जाने के बाद भी प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों का सर्वे एवं सत्यापन कार्य नहीं हुआ है। सत्यापन न होने से पात्र हितग्राहियों की पहचान की जाकर योजना का लाभ प्रदान करने में कठिनाई हो रही है।  कलेक्टर श्री गुप्ता द्वारा मप्र नगरपालिका सेवा शर्ते भर्ती नियम 1968 के अन्तर्गत कार्य के प्रति गंभीर लापरवाही के कारण अधिकारी/कर्मचारियों को कारण बताओ सूचना पत्र जारी करते हुए सात दिवस के भीतर स्पष्टीकरण के साथ स्वयं उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं।    

जिले में अब तक 1583.4 मि.मी. औसत वर्षा

जिले में आज 18 सितंबर, 2019 की प्रात:8 बजे समाप्त पिछले चौबीस घन्टों में 6.8 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसे मिलाकर 1 जून से अभी तक जिले में 1583.4 मि.मी औसत बारिश रिकार्ड की जा चुकी है जबकि गत वर्ष इस अवधि में 855  मिलीमीटर औसत वर्षा आंकी गई थी। अधीक्षक, भू-अभिलेख से मिली जानकारी के अनुसार पिछले चौबीस घन्टों में  सीहोर में 15.2, श्यामपुर में 5, आष्टा में 1, इछावर में 4, नसरुल्लागंज में 21, बुधनी में 5, रेहटी में 3.2 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। आंकड़ों के मुताबिक जिले में अभी तक सीहोर में 1878, श्यामपुर में 1463, आष्टा में 1555, जावर में 1185.2, इछावर में 1573, नसरूल्लागंज में 1844, बुधनी में 1470 तथा रेहटी में 1699 मिलीमीटर वर्षा रिकार्ड की गई है। इस अवधि में गत वर्ष सीहोर में 1203.2, श्यामपुर में 901, आष्टा में 804, जावर में 665.3, इछावर में 880, नसरूल्लागंज में 565.2, बुधनी में 865 तथा रेहटी में 956 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई थी।

हम्माल/तुलावटियों को शिविर में दी शासकीय योजनाओं की जानकारी  

 कृषि उपज मंडी समिति सीहोर सचिव श्री वीरेन्द्र कुमार आर्य ने जानकरी देते हुए बताया कि मप्र शासन तथा योजना अन्तर्गत तथा मप्र राज्य कृषि विपणन बोर्ड के निर्देशानुसार कृषि उपज मंडी समिति सीहोर में अनुज्ञप्तिधारी हम्माल-तुलावटियों को शासकीय योजनाओं की जानकारी देने के लिए शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में निदेशक (RSETI) श्री राकेश वर्मा, श्री विवेक दिलवारिया, परामर्शदाता श्री प्रदीप कुमार दुबे द्वारा हम्माल-तुलावटियों को योजनाओं की जानकारी दी गई। मंडी सचिव श्री वीरेन्द्र कुमार आर्य द्वारा हम्माल-तुलावटियों को संचालित समूह बीमा एवं अन्य योजनाओं की जानकारी एवं रोजगार के अनेको उपाय के संबंध में तथा कृत्यकारियों को अटल पेंशन/रुपया कार्ड/ जीवन ज्योति बच्चों को/महिलाओं एवं परिवार सदस्यों को 10 दिवसीय प्रशिक्षण पश्चात बैंक ऋण सहित जानकारी दी गई।

बलराम, संतोष और रौशनी के चेहरों पर आई चमक (खुशियों की दास्तां)

sehore news
दिव्यांगता एवं सहायक उपकरणों के अभाव में लाचार दिव्यांग हितग्राही बलराम सिंह भदोरिया, संतोष मीणा एवं रौशनी शाक्य अपने-आप को अधूरा सा महसूस करते हुए जब अपनी पीड़ा लेकर जनसुनवाई में पहुंचे तो उनका चहरा एकदम खुशी से चमक उठा। जिला दिव्यांग पुर्नवास केन्द्र सीहोर द्वारा दिव्यांगजनों के लिए अनेक योजनाएं संचालित की जा रही हैं जिनका लाभ दिव्यांग हितग्राहियों को प्रदान किया जा रहा है। केन्द्र द्वारा दिव्यांग बलराम सिंह भदोरिया को बैशाखी, संतोष मीणा को ट्रायसायकल एवं रौशनी शाक्य को व्हीलचेयर प्रदान की गई। सहायक उपकरण प्राप्त करने के बाद सभी हितग्राहियों के चेहरों पर चमक आई और सभी शासन की योजनाओं का आभार व्यक्त करते हुए खशी-खुशी अपने घर लौटे।

कृषक पुत्र/पुत्री कर सकते हैं स्वयं का उद्योग स्थापित, आवेदन करने की अंतिम तिथि 15 अक्टूबर  

जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र सीहोर के महाप्रबंधक ने जानकारी देते हुए बताया कि कृषकों के पुत्र/पुत्रियों के लिए स्वयं का उद्यम स्थापित करने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र द्वारा संचालित की जा रही है। योजना अन्तर्गत युवाओं के लिए 50 हजार से 2 करोड़ रुपये तक का ऋण स्वयं का उद्योग/सेवा/व्यवसाय करने के लिए उपलब्ध कराया जाता है। इस योजना के अन्तर्गत 15 प्रतिशत मार्जिनमनी सहायता शासन की ओर से देय होगी तथा 5 प्रतिशत की दर से 7 वर्ष तक ब्याज अनुदान देय होगा। जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र द्वारा योजना अन्तर्गत आवेदन पत्र आमंत्रित किए गए है। योजना का लाभ केवल कृषक पुत्र/पुत्री द्वारा द्वारा नवीन उद्यमों की स्थापना के लिए देय होगा। इस योजना में ऐसे आवेदक पात्र होंगे जिनके माता-पिता या स्वयं के पास कृ‍षि भूमि हो, जो मप्र का मूल निवासी हो, न्यूनतम 10 वीं कक्षा उत्तीर्ण हो, आयकर दाता न हो तथा जिसकी आयु 18 से 45 वर्ष के मध्य हो, 10 लाख से अधिक की परियोजना के लिए आवेदक की आयु 18 से 40 वर्ष के मध्य होना चाहिए। इच्छुक आवेदक एमपी ऑनलाईन से आवेदन फाइल कर सकेंगे। योजना अन्तर्गत आवेदन प्राप्त करने की अंतिम तिथि 15 अक्टूबर निर्धारित की गई है। आवेदक योजना की विस्तृत जानकारी के लिए कार्यालय जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र में कार्यालयीन समय में प्राप्त कर सकते हैं। 

विश्व बैंक और रूसा के माध्यम से गुणवत्ता उन्नयन पर केन्द्रित व्याख्यान  

चंद्रशेखर आजाद शासकीय स्नातकोत्तर अग्रणी महाविद्यालय में गुणवत्ता प्रकोष्ठ/रूसा सेल द्वारा प्रेरण कार्यक्रम दीक्षारंभ द्वितीय दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के प्रारम्भ में अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के चित्र पर पुष्प अर्पित कर दीप प्रज्जवलित किया गया। प्राचार्य डॉ आशा गुप्ता की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में विषय विशेषज्ञ के रूप् में डॉ. एस.के. विजय ओ.एस.डी. रूसा व डॉ.प्रज्ञेश कुमार अग्रवाल ओ.एस.डी. रूसा ने नव प्रवेशित छात्रों का मार्गदर्शन किया। प्राचार्य डॉ.आशा गुप्ता ने कहा कि भारतीय परंपरा में गुरू-शिष्य के बीच संबंध बड़े ही आत्मीय रहे हैं। इस आयोजन का उद्देश्य भी गुरू शिष्य के संबंधों में प्रगाढ़ता लाना है। तन्मयता, एकाग्रता और धैर्य के साथ जो विद्यार्थी लक्ष्य की दिशा में आगे बढ़ते हैं, वे जरूर सफलता प्राप्त करते हैं। आप रोजगार के उस क्षेत्र में जाने का प्रयास करें जिसकी आप में प्रतिभा है। उन्होंने विद्यार्थियों की जिज्ञासाओं का समाधान उनके प्रश्नों के उत्तर देकर किया। विश्व बैंक, रूसा एवं गुणवत्ता प्रकोष्ठ प्रभारी डॉ.अनिल राजपूत ने अतिथियों का परिचय दिया। विषय विशेषज्ञ के रूप में डॉ. एस.के.विजय ने कहा कि यू.जी.सी. ने विषय संबंधी जानकारी प्राप्त करने हेतु ARPIT Website बनाई है। इसी प्रकार SWAYAM में विषय संबंधी व्याख्यान उपलब्ध है। वर्ष 2014 में मध्यप्रदेश स्टेट प्रोजेक्ट डायरेक्टरेट बनाया गया है। जो मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा संचालित रूसा से अनुदान प्राप्त करके मध्यप्रदेश के विभिन्न कालेजों और विश्वविद्यालयों को इस अनुदान द्वारा उनके उन्नयन की दिशा में कार्य करता है। इसी के अन्तर्गत शहडोल के स्वाशासी महाविद्यालयों को उन्नयन कर विश्वविद्यालय में परिवर्तित किया गया। ये मध्यप्रदेश का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट था। इसी प्रकार आदर्श कन्या महाविद्यालय श्योपूर व आदर्श महाविद्यालय झाबुआ में खोले गये है। सीहोरा व देपालपुर के दो महाविद्यालय को माडल महाविद्यालय का दर्जा दिया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि रूसा द्वारा विद्यार्थियों की व्यक्तिगत आवश्यकताओं को छोड़कर अन्य आवश्यकताएं जैसे प्रयोगशाला उन्नयन, पीने के पानी की समस्या, फर्नीचर, पुस्तकालय संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति की जाती है। डॉ प्रज्ञेश अग्रवाल ने विद्यार्थियों को NAAC संबंधी जानकारी दी व उन्होंने बताया कि NAAC द्वारा किसी भी महाविद्यालय व विश्वविद्यालय द्वारा ग्रेडिंग के लिए आवेदन करने पर उनकी गुणवत्ता के आधार पर 07 बिन्दुओं का मूल्यांकन करते हुए अंक मिलते हैं, व प्राप्त अंकों के आधार पर 08 प्रकार के ग्रेड दिये जाते है। इनमें से Teaching Learning Evalution बिन्दु के सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। जिसमें शिक्षकों व विद्यार्थियों का महत्वपूर्ण योगदान होता है। डॉ अग्रवाल ने कहा कि सपने पूरे करने के लिए एकाग्रता व धैर्य होना आवश्यक है। इस अवसर पर वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ कल्पना दवे ने शिक्षक अभिवावक योजना के तहत संबंधित प्रभारी शिक्षक से संपर्क कर किस प्रकार अपनी विभिन्न समस्याओं का महाविद्यालय स्तर पर समाधान प्राप्त कर सकते है, जिसका निराकरण शिकायत निवारण समिति गठित कर प्राचार्य द्वारा किया जायेगा। डॉ. राजकुमारी शर्मा ने युवा उत्सव, वार्षिक उत्सव व अन्य साहित्यिक व सांस्कृतिक गतिविधियों की जानकारी दी। डॉ.तृप्ता झा ने विवेकानन्द कॅरियर मार्गदर्शन प्रकोष्ठ के माध्यम से रोजगार संबंधी संभावनाओं के विषय में बताया। कार्यक्रम में आयोजन समिति के संयोजक डॉ.एम.एस. राठौर, डॉ. गीता वर्मा, डॉ. नोररूथ कुमार, डॉ.ज्योति नेताम, डॉ. कमलेश नेगी, डॉ. वर्षा जायसवाल उपस्थित थे। कार्यक्रम में नवप्रवेशित विद्यार्थियों ने मार्गदर्शन प्राप्त किया।   

राष्ट्रीय पोषण माह अंतर्गत धर्मगुरूओं का सम्मेलन एवं परिसंवाद

1 से 30 सितम्बर को पोषण माह के रूप में महिला एवं बाल विकास विभाग के द्वारा सभी विभागों के साथ समन्वय कर मनाया जा रहा है। इसी क्रम में बुधवार को राष्ट्रीय पोषण माह अंतर्गत कार्यालय कलेक्ट्रेट के कक्ष क्रमांक 138 में आयोजित धर्मगुरूओं का सम्मेलन एवं परिसंवाद के दौरान धर्मगुरूओं ने उक्त विषय को जन मानस तक पहुंचाने के लिए अपने विचार व्यक्त किये। परिसंवाद के दौरान सीहोर जिले की शिक्षिकाए, विभागीय अधिकारी कर्मचारी के साथ महिला एवं बाल विकास विभाग आदि उपस्थित थे। इस दौरान जानकारी दी गई कि बच्चों को 6 माह की उम्र तक केवल माँ का दूध दें। 6 माह की उम्र के बाद बच्चों को मां के दूध के साथ उपरी आहार देना शुरू करें। गर्भवती व धात्री महिलाओं को विषेष पोषण की आवष्यकता होती है। सही उम्र में मां बनने से संतान स्वस्थ रहती है। एवं पोषण के पांच मंत्र जिसमें जीवन के प्रथम 1000 दिवस तथा पोष्टिक आहार का सेवन, एनीमिया से बचाव, दस्त में ओ.आर.एस एवं जिंक का प्रयोग के साथ-साथ पांचवा मंत्र स्वच्छता एवं साफ-सफाई के संबंध मे महिला एवं बाल विकास विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग के द्वारा परिसंवाद के दौरान एनीमिया पर विस्तृत रूप से चर्चा की गई।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...