बिहार में भी मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना लागू हो : प्रदेश मंत्री - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 13 सितंबर 2019

बिहार में भी मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना लागू हो : प्रदेश मंत्री

कहा कि झारखंड की ही तरह बिहार में बीपीएल श्रेणी के बुजुर्गों को तीर्थ दर्शन यात्रा कराने की व्यवस्था हो
  • झारखंड टूरिज्म डेवलपमेंट कॉरपोरेशन द्वारा मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना के तहत  पहले आओ पहले पाओ के तहत लाभुकों का चयन कर तीर्थ दर्शन कराया जाता है।

tuorisam-bihar
पटना,13 सितम्बर। बिहार में भी मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना लागू हो। बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री राजन क्लेमेंट साह ने कहा कि झारखंड सरकार ने सबका साथ,सबका विकास और सबका विश्वास के तहत बीपीएल श्रेणी के बुजुर्गों को तीर्थ दर्शन यात्रा कराने की व्यवस्था करती है। इसके आलोक में बिहार में भी बीपीएल श्रेणी के बुजुर्गों को तीर्थ दर्शन यात्रा कराने की व्यवस्था की जाए। प्रदेश मंत्री राजन क्लेमेंट साह ने कहा कि झारखंड में ' पहले आओ पहले पाओ ' के तहत लाभुकों का चयन कर तीर्थ दर्शन कराया जाता है। वहीं जिला योजना पदाधिकारी सुरेश राय का कहना है कि विभिन्न धर्मावलंबियों को ध्यान में रखते हुए अमृतसर, वैडेल चर्च कोलकाता, अजमेर शरीफ एवं वाराणसी तीर्थ दर्शन यात्रा स्थल का नाम प्रस्तावित है।  बताया जाता है झारखंड राज्य में तीर्थ यात्रियों की उम्र साठ वर्ष से अधिक निर्धारित की गयी है। वह भी विशुद्ध झारखंड राज्य का स्थायी निवासी होना चाहिए। तीर्थयात्री बीपीएल श्रेणी के अंतर्गत आना चाहिए तथा इस प्रकार की तीर्थ-दर्शन यात्रा का लाभ पूर्व में नहीं लिया हो। जिला योजना पदाधिकारी ने कहा कि सहयोग के लिए एक पारिवारिक सदस्य (स्वयं, पति, पत्नी एवं परिवार के सदस्य) को भी सह यात्री के रूप में यात्रा में शामिल किया जा सकता है। तीर्थयात्रा के लिए लाभुकों को शारीरिक एवं मानसिक रूप से स्वस्थ होने का प्रमाण पत्र आवेदन के साथ संलग्न करना आवश्यक है।

210 बुजुर्गों को कराया जायेगा तीर्थ दर्शन
इसके तहत 30 सिख धर्मावलंबी को दो अगस्त से सात अगस्त तक अमृतसर की तीर्थ दर्शन यात्रा करायी गयी। 40 ईसाई धर्मावलंबियों को 28 अगस्त से 31 अगस्त तक वैडेल चर्च कोलकाता का दर्शन कराया गया। 40 मुस्लिम धर्मावलंबियों को 13 सितंबर से 18 सितंबर तक अजमेर शरीफ की जियारत करायी जायेगी, जिसके लिए जायरीनों को 25 जुलाई तक आवेदन मांगा गया था। 100 हिंदू धर्मालंबियों को 7 अक्तूबर से 21 अक्तूबर तक वाराणसी का तीर्थ-दर्शन यात्रा कराया जायेगा, जिसके लिए पांच सितंबर तक आवेदन फार्म जमा किए। अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री राजन क्लेमेंट साह ने कहा कि ईसाई समुदाय चाहते हैं प्रभु येसु ख्रीस्त से जुड़े पर्यटन स्थलों में जाकर तीर्थ दर्शन कर सकें। उन्होंने कहा कि सामर्थ्यवान लोग  निजी व्यवस्था कराने वालों के साथ तीर्थ दर्शन कर आते हैं। उन्होंने कहा कि होली लैंड टूर पैकेज उपलब्ध है। 9 नाइट, 10 डेज  के लिए 99,900 रू.व्यय करना पड़ेगा। दूसरी पैकेज 10 नाइट, 11 डेज के लिए 1,10,000रू. व्यय करना है। इस तरह की पैकेज राशि को वहन करने में  गरीब व वंचित ईसाई अक्षम हैं। इस राशि को बिहार सरकार वहन करें। चैनई से मिश्र,इजराइल और जॉडन जाना है। 4-5 स्टार होटल में 3 मील देय होगा। टूर गाइड की व्यवस्था है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...