बिहार : माले व ऐपवा नेताओं पर से फर्जी मुकदमे वापस लेने की मांग : अनिता सिन्हा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 31 अक्तूबर 2019

बिहार : माले व ऐपवा नेताओं पर से फर्जी मुकदमे वापस लेने की मांग : अनिता सिन्हा

aipwa-apeal-roll-back-case-to-cpi-ml-worker
मसौढ़ी,31 अक्टूबर। पटना  मसौढ़ी के कररिया गांव की बच्ची स्नेहा कुमारी (काल्पनिक नाम) के साथ बलात्कार करने के बाद हत्या कर देने की सनसनीखेज खबर प्राप्त है. इस तरह की दोहरी कांड ( हत्याकांड) के मामले में ऐपवा ने एसएसपी को सौंपा ज्ञापन सौंपकर माले व ऐपवा नेताओं पर से फर्जी मुकदमे वापस लेने व असली दोषियों को गिरफ्तार करने की मांग की गयी है. ऐपवा प्रतिनिधिमंडल ने मसौढ़ी थाना के कररिया गांव की बच्ची स्नेहा कुमारी के साथ बलात्कार व उसके बाद निर्मम हत्या की घटना के सिलसिले में एसएसपी पटना को ज्ञापन सौंपा. प्रतिनिधिमंडल में ऐपवा की बिहार राज्य सहसचिव अनिता सिन्हा, पटना नगर की अध्यक्ष मधु, पटना जिला की अध्यक्ष माधुरी गुप्ता व अफशा जबीं शामिल थे.ऐपवा ने अपने ज्ञापन में कहा है कि विगत 8 अक्टूबर को कररिया में स्नेहा के साथ बलात्कार किया गया व बाद में उसकी निर्मम तरीके से हत्या कर दी गई. तदुपरांत प्रशासन ने संज्ञान लिया एवं डाॅग स्क्वैड के जरिए घटना में शामिल चार लोगों की गिरफ्तारी की गई. लेकिन यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण रहा कि अगले ही दिन तीन आरोपियों को प्रशासन ने रिहा भी कर दिया. घटना के बाद साजिशाना तौर पर सड़क जाम व तोड़-फोड़ की घटना को अंजाम दिया गया. उसमें भाकपा-माले व ऐपवा को कोई नेता शामिल नहीं थे लेकिन प्रशासन ने ऐपवा की मसौढ़ी स्तर की महिला नेता व भाकपा-माले के तीन नेताओं पर फर्जी मुकदमे थोप कर कई संगीन धाराएं लगा दी. यह बेहद अन्यायपूर्ण है. अतः भाकपा-माले व ऐपवा की टीम वरीय आरक्षी अधीक्षक से मांग करती है कि उक्त घटनाओं की पुनः जांच की जाए ताकि पीड़ितों को इंसाफ मिल सके और असली दोषियों पर कार्रवाई हो सके. ऐपवा नेताओं ने कहा है कि यदि प्रशासन ने इस मामले में गंभीरता नहीं दिखलाई तो उसे आंदोलन का ताप झेलना होगा.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...