बिहार : बालगृह बेतिया के बच्चों के संग भैया दूज मनाया इनरव्हील क्लब - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 29 अक्तूबर 2019

बिहार : बालगृह बेतिया के बच्चों के संग भैया दूज मनाया इनरव्हील क्लब

bhai-dooj-in-child-center
बेतिया, 29 अक्टूबर (आर्यावर्त संवाददाता) . आज मंगलवार को परम्परागत ढंग से भाई दूज या भैया दूज का त्‍योहार  को मनाया गया. इस पावन अवसर का उपयोग इनर व्हील क्लब बेतिया ने किया. क्लब की माननीय सदस्यों ने बालगृह बेतिया के बच्चों के साथ भैया दूज मनाया. इस अवसर पर क्लब के द्वारा बालगृह के बच्चों को कपड़े और मिठाईयां दिया गया. बता दें कि इस पर्व को भाई-बहन के अपार प्रेम और समर्पण का प्रतीक माना जाता है. इस पर्व को दिवाली के दो दिन बाद मनाया जाता है. इस त्‍योहार को यम द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है. इस दिन बहनें अपने भाई की लंबी उम्र के लिए मृत्‍यु के देवता यम की पूजा की है और लंबी उम्र की कामना की है. हिन्‍दू पंचांग के मुताबिक कार्तिक माह के शुक्‍ल पक्ष की द्वितीया को भैया दूज का त्‍योहार मनाया जाता है.

इस पावन अवसर का उपयोग इनर व्हील क्लब बेतिया ने किया. क्लब की माननीय सदस्यों ने बालगृह बेतिया के बच्चों के साथ भैया दूज मनाया. इस अवसर पर क्लब के द्वारा बालगृह के बच्चों को कपड़े और मिठाईयां दिया गया. क्लब की अध्यक्षा इंद्रा पोदार, मीना तोदी, पूनम झुनझुनवाला, डॉ अंजली, मेरी एडलीन, अर्चना कुमारी, पुष्प रेणु सिंह ने बच्चों को मिठाई खिलाने के बाद कपड़े दिए.वहीं क्लब की सदस्याओं के घर की बच्ची पलक, शरण्य, संस्कृति और शिवानी ने बालगृह के बच्चों के माथे पर तिलक लगाकर मिठाईयां खिलाई. बालगृह के अधीक्षण कृष्ण कुमार ने बताया कि क्लब की महिलाओं ने भैया दूज के अवसर पर बच्चों के साथ समय बिताया और बच्चों को उपहार दिए. इनका कार्य बहुत अच्छा और सराहनीय रहा.इनकी सहभागिता पहले भी बालगृह को मिलता है, और मैं आशा करता हूँ आगे भी मिलेगा.हिन्‍दू धर्म में भैया दूज का विशेष महत्‍व है. इस पर्व को 'यम द्वितीया' और 'भ्रातृ द्वितीया' भी कहा जाता है. रक्षाबंधन के बाद भैया दूज दूसरा ऐसा त्‍योहार है जिसे भाई-बहन बेहद उत्‍साह के साथ मनाते हैं. जहां, रक्षाबंधन में भाई अपनी बहन को सदैव उसकी रक्षा करने का वचन देते हैं वहीं भाई दूज के मौके पर बहन अपने भाई की लंबी आयु के लिए प्रार्थना करती है. कई जगहों पर इस दिन बहनें अपने भाइयों को तेल लगाकर उन्‍हें स्‍नान भी कराती हैं. यमुना नदी में स्‍नान कराना अत्‍यंत शुभ माना जाता है. अगर यमुना में स्‍नान संभव न हो तो भैया दूज के दिन भाई को अपनी बहन के घर नहाना चाहिए. अगर बहन विवाहित है तो उसे अपने भाई को आमंत्रित कर उसे घर पर बुलाकर यथा सामर्थ्‍य भोजन कराना चाहिए. इस दिन भाइयों को चावल खिलाना अच्‍छा माना जाता है. अगर सगी बहन नहीं है तो ममेरी या चचेरी बहन के साथ भी इस त्‍योहार को मनाया जा सकता है. इस त्‍योहार का संदेश यही है कि भाई-बहन के बीच प्‍यार हमेशा बना रहना चाहिए. चाहे दोनों अपनी-अपनी जिंदगी में कितने ही व्‍यस्‍त क्‍यों न हों लेकिन एक-दूसरे के साथ कुछ पल तसल्‍ली के जरूर गुजारने चाहिए.

भैया दूज पर क्‍या करें?
- भैया दूज के दिन नहा-धोकर स्‍वच्‍छ वस्‍त्र धारण करें. इस दिन बहनें नए कपड़े पहनती हैं. 
- इसके बाद अक्षत (ध्‍यान रहे कि चावल खंड‍ित न हों), कुमकुम और रोली से आठ दल वाला कमल का फूल बनाएं. 
- अब भाई की लंबी उम्र और कल्‍याण की कामना के साथ व्रत का संल्‍प लें. 
- अब विधि-विधान के साथ यम की पूजा करें. 
- यम की पूजा के बाद यमुना, चित्रगुप्‍त और यमदूतों की पूजा करें. 
- अब भाई को तिलक लगाकर उनकी आरती उतारें.  
- इस मौके पर भाई को यथाशक्ति अपनी बहन को उपहारा या भेंट देनी चाहिए.
- पूजा होने तक भाई-बहन दोनों को ही व्रत करना होता है. 
- पूजा संपन्‍न होने के बाद भाई-बहन साथ में मिलकर भोजन करें.

क्‍यों मनाया जाता है भैया दूज?
पौराणिक कथा के अनुसार, सूर्य भगवान की पत्नी का नाम छाया था. उनकी कोख से यमराज और यमुना का जन्म हुआ था. यमुना अपने भाई यमराज से बड़ा स्नेह करती थी. वह उससे बराबर निवेदन करती कि इष्ट मित्रों सहित उसके घर आकर भोजन करो. अपने कार्य में व्यस्त यमराज बात को टालते रहे. फिर कार्तिक शुक्ला का दिन आया. यमुना ने उस दिन फिर यमराज को भोजन के लिए निमंत्रण देकर, उसे अपने घर आने के लिए वचनबद्ध कर लिया.यमराज ने सोचा, ''मैं तो प्राणों को हरने वाला हूं. मुझे कोई भी अपने घर नहीं बुलाना चाहता. बहन जिस सद्भावना से मुझे बुला रही है, उसका पालन करना मेरा धर्म है.' बहन के घर आते समय यमराज ने नरक निवास करने वाले जीवों को मुक्त कर दिया. यमराज को अपने घर आया देखकर यमुना की खुशी का ठिकाना नहीं रहा. उसने स्नान कर पूजन करके व्यंजन परोसकर भोजन कराया. यमुना के आतिथ्य से यमराज ने प्रसन्न होकर बहन से वर मांगने के लिए कहा.यमुना ने कहा, ''भद्र! आप प्रति वर्ष इसी दिन मेरे घर आया करो. मेरी तरह जो बहन इस दिन अपने भाई को आदर सत्कार करके टीका करे, उसे तुम्हारा भय न रहे.' यमराज ने तथास्तु कहकर यमुना को अमूल्य वस्त्राभूषण देकर विद ली. तभी से भैया दूज की परंपरा शुरू हुई. ऐसी मान्यता है कि जो भाई इस दिन आतिथ्य स्वीकार करते हैं, उन्हें यम का भय नहीं रहता. इसी वजह से भैया दूज के दिन यमराज और यमुना का पूजन किया जाता है.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...