मधुबनी : पेड़ो के सूखने को लेकर आवश्यक कार्रवाई करने का निदेश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 28 अक्तूबर 2019

मधुबनी : पेड़ो के सूखने को लेकर आवश्यक कार्रवाई करने का निदेश

dm-madhubani-order-for-green-madhubani
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) : जिला पदाधिकारी, मधुबनी के द्वारा कार्यक्रम पदाधिकारी, मनरेगा,रहिका को पत्र के माध्यम से बताया गया है कि दिनांक 27.10.2019 को जिला पदाधिकारी,मधुबनी के द्वारा सौराठ सभा गाछी का भ्रमण किया गया। भ्रमण के दौरान पाया गया कि उक्त गाछी में जल-जीवन-हरियाली कार्यक्रम के तहत कराये गए वृक्षारोपण के अधिकांश वृक्ष सुख गए है। स्थानीय ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि लगाये गए पेड़ो में सिंचाई नही की गई है एवं इसकी सुरक्षा हेतु रखे गये वन रक्षी द्वारा इसका देखभाल नही किया जा रहा है।  जिसको लेकर जिला पदाधिकारी, मधुबनी के द्वारा इस मामले में प्रोग्राम पदाधिकारी, मनरेगा के कर्तव्य के प्रति लापरवाही बरतने को लेकर तीन दिनों के अंदर अपना स्पष्टीकरण समर्पित करने एवं लगाये गये पेड़ो के संरक्षण हेतु समुचित करवाई सुनिश्चित करने तथा संबंधित वन रक्षी के विरुद्ध कृत कार्रवाई से अवगत कराने का निदेश दिया गया है। वही कार्यपालक अभियंता, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण प्रमंडल, मधुबनी को सौराठ गांव में अवस्थित बड़ी क्षमता के पानी टंकी के काफी दिनों से बंद रहने एवं बोरिंग के चौक होने तथा पाइप ।के लीकेज की जानकारी ग्रामीणों द्वारा दिये जाने पर एवं पूर्व में भी जिला पदाधिकारी के भ्रमण के दौरान कार्रवाई सुनिश्चित करने का निदेश दिया गया था, परंतु अभी तक कोई कार्रवाई नही गया। कार्यपालक अभियंता, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण प्रमंडल,मधुबनी को उक्त पानी टंकी की मरम्मति कराकर जलापूर्ति व्यवस्था सुदृढ़ करने हेतु अविलंब आवश्यक कार्रवाई करने का निदेश दिया गया है।  साथ ही कार्यपालक अभियंता, लघु सिंचाई प्रमंडल, मधुबनी को सौराठ सभा गाछी में पूर्व से अवस्थित सार्वजनिक कुआं के कचड़ा से भड़ेहोने के कारण इसका उपयोग नही हो पा रहा है। ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि प्रतिवर्ष यहाँ एक माह का वैवाहिक मेला लगता है, जहां काफी संख्या में लोग एकत्रित होते है एवं इन कुआं के जल का उपयोग करते है। जिसको लेकर निदेश दिया गया कि जल-जीवन-हरियाली योजना के तहत इस कुआं का जीर्णोद्धार कराना सुनिश्चित करें।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...