डीटीसी और कलस्टर बसों में कल से महिलाओं के लिए सफर फ्री - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 29 अक्तूबर 2019

डीटीसी और कलस्टर बसों में कल से महिलाओं के लिए सफर फ्री

dtc-and-cluster-bus-free-for-women
नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर, राजधानी में मंगलवार से दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) और कलस्टर बसों में महिलाएं मुफ्त में यात्रा कर सकेंगी। यह योजना फिलहाल अगले वर्ष मार्च तक के लिए अमल में रहेगी।मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज इसकी जानकारी देते हुए बताया कि 29 अक्टूबर भैया दूज से डीटीसी और कलस्टर बसों में महिलाएं मुफ्त यात्रा कर सकेंगी।श्री केजरीवाल ने यह भी बताया कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए दिल्ली सरकार बसों में 13 हजार मार्शलों की तैनाती भी करेगी । इन मार्शलों की भर्ती की जा चुकी है। मुख्यमंत्री ने बताया कि डीटीसी और कलस्टर बसों में यात्रा करने वाले कुल यात्रियों में एक तिहाई महिलाएं होती हैं और सरकार के इस फैसले से इन सभी को फायदा होगा।उन्होंने बताया कि महिलाओं को बसों में मुफ्त यात्रा के लिए गुलाबी रंग का एकल यात्रा का पास लेना होगा । यह पास बस संवाहक से ही मिल जायेगा। महिला यात्री को पास के लिए कोई भुगतान नहीं करना होगा । यह पास दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में चलने वाली डीटीसी की एयरकंडीशन और गैर एयर कंडीशन बसों के अलावा कलस्टर बसों में भी मान्य होगा।मुख्यमंत्री ने बताया कि बस में मुफ्त सफर के लिए महिला का दिल्ली का निवासी होना भी जरुरी नहीं है । यह योजना फिलहाल अगले वर्ष मार्च तक लागू की गई है।महिला यात्रियों को मुफ्त में सफर के लिए डीटीसी को घाटा नहीं हो इसके लिए दिल्ली सरकार इस पास के एवज में दस रुपए का भुगतान करेगी । योजना के तहत रोजाना दस लाख गुलाबी पास जारी किए जायेंगे । डीटीसी के बेड़े में लगभग 3800 बसें हैं जबकि कलस्टर सेवा के तहत 1600 से अधिक बसें प्रचलन में हैं । डीटीसी में रोजाना औसतन 31 लाख और कलस्टर बसों में 12 लाख यात्री यात्रा करते हैं जिसमें से करीब एक तिहाई महिलाएं हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...