बिहार : क्रिकेट मैदान में एक हादसे का शिकार क्रिकेटर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 28 नवंबर 2019

बिहार : क्रिकेट मैदान में एक हादसे का शिकार क्रिकेटर

accident-in-cricket
पटना,28 नवम्बर। शेफील्ड शील्ड के एक मैच के दौरान सीन एबॉट का बाउंसर उनके सिर पर लगा, हालांकि उन्होंने हेलमेट पहना था। वह 3 दिनों तक कोमा में रहे और 27 नवंबर 2014 को उनका निधन हो गया। वह 25 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज फिलिप ह्यूज थे। एक गेंदबाज की बॉल से सिर पर लगने से मौत हो गई थी।  तब से ही आज के दिन को क्रिकेट इतिहास का 'काला अध्याय' कहा जाता है। सिर्फ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ही नहीं स्थानीय स्तर पर भी कई क्रिकेटरों की जान जा चुकी है।  पश्चिमी बंगाल में आसनसोल। आसनसोल के चेलिडगांल में फादर लौरेंस शॉ के भतीजा व अलेजांडर रफायल के पुत्र अजय अलेजांडर लोकल लेवल पर क्रिकेट मैच खेल रहे थे। गेंदबाज की बॉल गला पर जा लगी।पिच पर गिरे तो फिर उठ नहीं सके। इलाज करवाने ले जाते समय रास्ते में ही दम तोड़ दिए। बंगाल टीम के अंडर-19 क्रिकेट टीम के कप्तान रह चुके अंकित केसरी 17 अप्रैल 2015 को क्रिकेट मैदान में एक हादसे का शिकार हुए। फिल्डिंग के दौरान सिर पर गेंद लगने से हुई इंज्युरी के चलते उनकी मौत हुई। ईस्ट बंगाल और भवानीपुर के बीच खेले जा रहे बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के डिवीजन-1 नॉकआउट मैच के दौरान हुए इस हादसे में एक कैच पकड़ने के प्रयास में अंकित अपने साथी खिलाड़ी सौरव मंडल से टकरा गए। सौरव का घुटना अंकित के सिर और गर्दन में लगा, दोनों वहीं गिर गए और अंकित के मुंह से खून निकलने लगा और उनकी सांसे भी बंद हो गई, उन्हें तत्काल अस्पताल ले जाया गया, पूरी कोशिश के बावजूद अंकित को बचाया नहीं जा सका था। 27 नवंबर 2014 को ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज फिलिप ह्यूज सिडनी की एक मैच के दौरान सिर में लगे बाउंसर की वजह से मौत हो गई थी। शेफील्ड शील्ड के एक मैच के दौरान दक्षिण ऑस्ट्रेलिया के लिए खेल रहे ह्यूज के हेलमेट पर न्यू साउथ वेल्स के गेंदबाज शॉन एबॉट की गेंद जोर से जा लगी, लेकिन गर्दन के हिस्से पर गेंद लगने के कारण वह बुरी तरह चोटिल हो गए। चोट लगने के बाद ह्यूज मुंह के बल पिच पर गिर पड़े। अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में उनकी मौत हो गई।  जुलाई 2015 को भारतीय मूल के ब्रिटिश क्रिकेटर बावलन पतमनातन की भी क्रिकेट खेलते हुए छाती में गेंद लगने से मौत हुई थी। 24 साल का यह युवा क्रिकेटर ब्रिटिश तमिल क्रिकेट लीग में मानिपे पेरिस स्पोर्ट्स क्लब की ओर से खेल रहा था। मैच के दौरान बावलन की छाती में गेंद लगी। गेंद लगने से वह मैदान में गिरकर तड़पने लगे। आनन-फानन में एंबुलेंस बुलाकर बावलन को अस्पताल भेजा गया, लेकिन अस्पताल में इलाज के दौरान कुछ दिन बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया। 30 नवंबर 2014 को इसराइल के शहर एसडोड में एक क्रिकेट मैच के दौरान गेंद लगने से एक भारतीय मूल के अंपायर की मौत हो गई थी। चश्मदीदों का कहना था कि एक तेज रफ्तार गेंद पहले विकेट से टकराई और फिर अंपायर को जाकर लगी। भारतीय मूल के 55 वर्षीय ऑस्कर तटीय शहर एशदोद में आयोजित एक स्थानीय मैच में अंपायरिंग कर रहे थे। ऑस्कर इससे पहले इसराइल की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के कप्तान भी रह चुके हैं।

टीम इंडिया के लिए चार टेस्ट मैच और 32 एकदिवसीय मैच खेल चुके रमन लांबा की 1998 में ढाका में एक क्लब मैच में फील्डिंग के दौरान सिर पर गेंद लगने से मौत हो गई थी। तेज रफ्तार गेंद उनके सिर पर जाकर लगी और कुछ ही घंटों बाद अंदरूनी रक्तबहाव के चलते उनकी मौत हो गई। हादसे के वक्त लांबा ढाका के बंगबंधु स्टेडियम में ढाका क्लब क्रिकेट मैच में शॉर्ट लेग पर बिना हेलमेट के क्षेत्ररक्षण कर रहे थे। एक गेंद को बल्लेबाज बल्लेबाज मेहराब हुसैन ने तेजी से हिट किया और लपकने के क्रम में वो गेंद रमन लांबा के सिर पर जा लगी। 2013 में मैदान पर ही गेंद लगने के कारण दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी डेरिन रैंडाल की मौत हो गई। 32 साल के रैंडाल उस वक्त घरेलू टूर्नामेंट के दौरान बल्लेबाजी कर रहे थे कि पुल शॉट करते वक्त गेंद उनके सिर पर जा लगी। तेज गेंद रैंडाल के सिर में लगी और वह वहीं ढेर हो गए। रैंडाल को तुरंत अस्पताल ले जाया गया, लेकिन जल्द ही उनकी मौत हो गई। 2013 में ही पाकिस्तान के युवा खिलाड़ी जुल्फीकार भट्टी की घरेलू मैच खेलते वक्त मौत हो गई। मैच के दौरान गेंद भट्टी के सीने पर लगी और वो पिच पर गिर पड़े। उन्हें अस्पताल ले जाया गया लेकिन उनकी मौत हो गई।  2009 में इंग्लैंड के अंपायर एल्क्विन जेनकिंस एक लीग मैच में सिर पर गेंद लगने के चलते मारे गए। फील्डर ने स्टम्प पर गेंद फेंकी जा एल्क्विन जेनकिंस के सिर पर आ लगी। इससे उनका ब्रेन हेमरोज हो गया। हाल फिलहाल में भी कई क्रिकेटर्स को इस तरह मैदान पर अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। इस साल की शुरुआत में सोनू यादव (22 वर्ष) बंगाल क्रिकेट संघ की दूसरी डिवीजन लीग में बालीगंज स्पोर्टिंग क्लब की ओर से खेलते हुए जान गंवा बैठे थे। वह बाटा क्लब मैदान पर एक मैच में खेल रहे थे। मैदान पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार यह विकेटकीपर बल्लेबाज बल्लेबाजी करने के बाद अपने टेंट की ओर जा रहे थे और अचानक गिर पड़े और अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया। 12 जुलाई 2019 को उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के पट्टन इलाके में क्रिकेट मैच के दौरान एक किशोर की मौत हो गई थी। मैच के दौरान गेंद उसके गले के पास लग गई थी। बारामूला और बडगाम क्रिकेट टीम के बीच मैच खेले जा रहे मैच के दौरान 11वीं के छात्र जहांगीर अहमद वार बैटिंग कर रहे थे, हेलमेट पहने बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने पुल शॉट खेलने की कोशिश की, लेकिन गेंद उसके गले के पास जा लगी। जहांगीर मैदान में ही गिर गया। आनन-फानन में उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...