बिहार : फादर जोन ख्रीस्तोस्तम नहीं रहे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 28 नवंबर 2019

बिहार : फादर जोन ख्रीस्तोस्तम नहीं रहे

father-john-christostom-no-more
पटना,28 नवम्बर. पवित्र ह्दय की संदेश पत्रिका के पूर्व सम्पादक फादर जोन ख्रीस्तोस्तम नहीं रहे.एक्सटीटीआई परिसर में स्थित जेवियर भवन, पटना में आज तड़के 2.59 बजे अंतिम सांस लिए.कई जगहों पर पल्ली पुरोहित भी रहे. वे प्रभावशाली वक्ता थे.उत्तर बिहार के पादरियों में सशक्त हस्ती वाला पुरोहित थे.साधारण स्वभाव के थे.पदलोलुपता के शिकार नहीं थे.जिधर येसु समाजी के अधिकारी भेजे उधर चले जाते थे. लोकधर्मियों द्वारा प्रकाशित जनवाणी मासिक समाचार पत्र में सम्पादन कार्य में मदद करते थे.

फादर जोन के बारे में जाने
फादर जोन ख्रीस्तोस्तम का जन्म 10 अगस्त 1938 को हुआ.बर्थ डे बनाकर 82 साल के हो गए. विश्वविख्यात येसु समाज में 1 जुलाई 1962 को प्रवेश किए.येसु समाजी के रूप में 58 साल कार्य किए.16 मई 74 को पुरोहित बने.एक पुरोहित के रूप में 45 साल कृत्य किए.अंतिम मन्नत 22 अप्रैल 1979 को लिए.41 साल पूरा किए. 75 साल के रिटायर होने के बाद जेवियर भवन में विश्राम कर रहे थे. यहां पर 7 साल रहे.28 नवम्बर 2019 को प्रभु के प्यारे हो गए. अंतिम संस्कार 30 नवम्बर 2019 को एक्सटीटीआई में होगा. पवित्र ह्दय की संदेश पत्रिका के पूर्व सम्पादक फादर जोन ख्रीस्तोस्तम नहीं रहे.जहां पर वर्षों सेवा किए और ईसाई समुदाय को दिशा निर्देशत किया गया,उनके सम्मान में कार्यालय बंद नहीं किया गया.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...