कुछ लोग जुबान पर लगाम नहीं लगा रहे : धनखड़ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 15 नवंबर 2019

कुछ लोग जुबान पर लगाम नहीं लगा रहे : धनखड़

bangal-governor-dhankhad
कोलकाता, 15 नवंबर, पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने शुक्रवार को कहा कि कुल लोग अपनी ‘‘जुबान पर लगाम नहीं लगा रहे’’ लेकिन इसके बावहजूद वह राज्य में लोगों की सेवा करने से पीछे नहीं हटेंगे। राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने धनखड़ पर परोक्ष हमला करते हुए कहा था कि संवैधानिक पदों पर आसीन लोग भाजपा के मुखपत्र बन गए हैं। बनर्जी ने धनखड़ पर समानांतर सरकार चलाने का आरोप लगाया था। धनखड़ ने बनर्जी के इस आरोप पर टिप्पणी करने से इनकार करते हुए कहा कि क्रिकेट के खेल में हर गेंद को खेलने की आवश्यकता नहीं होती। उन्होंने कहा, ‘‘कुछ लोग अपनी जुबान का बहुत ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं और उस पर लगाम नहीं लगा रहे। क्रिकेट के खेल में हर गेंद को खेलना आवश्यक नहीं है। मैं लोगों की सेवा करना जारी रखूंगा।’’  राज्यपाल ने कहा कि उनके बयानों को पूरी तरह समझे बिना किसी को टिप्पणी नहीं करनी चाहिए। उनके इस बयान से एक दिन पहले धनखड़ और राज्य सरकार के बीच ‘बुलबुल’ चक्रवात के कारण हुए तबाही के लिए राहत वितरण को लेकर गुरूवार को नये सिरे से आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया था। धनखड़ ने 300 किलोमीटर की यात्रा के लिए हेलीकॉप्टर के उनके अनुरोध का जवाब नहीं देने के लिए राज्य सरकार की आलोचना की थी और कहा था कि मुख्यमंत्री उनसे कोई संवाद करती हैं, तो वह 24 घंटे में जवाब देते हैं। उल्लेखनीय है कि मुर्शिदाबाद जिले में फरक्का की यात्रा के लिए धनखड़ को एक हेलीकॉप्टर मुहैया कराने की अनुमति देने का अनुरोध बृहस्पतिवार को ठुकरा दिया गया था। राज्य सरकार ने एक सप्ताह दूसरी बार इस तरह का अनुरोध अस्वीकार किया है। धनखड़ को शुक्रवार सुबह एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने फरक्का गए। राज भवन के एक सूत्र ने कहा कि हेलीकॉप्टर के लिये अनुरोध काफी समय रहते किया गया था लेकिन प्रशासन की ओर से कोई जवाब नहीं मिला। तृणमूल कांग्रेस ने राज्यपाल की यात्रा के लिये हेलीकॉप्टर की जरूरत पर सवाल उठाते हुए इसे ‘‘बेतुका’’ और ‘‘जनता के पैसे का दुरुपयोग’’ करार दिया था।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...