ललित गर्ग ‘हिन्दी सेवा सम्मान’ से सम्मानित - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 9 नवंबर 2019

ललित गर्ग ‘हिन्दी सेवा सम्मान’ से सम्मानित

lalit-gagrg-awarded
नई दिल्ली, 9 नवम्बर, भारत के प्रमुख हिन्दी समाचार एवं विचार वेब पोर्टल प्रभासाक्षी ने अपनी 18वीं वर्षगांठ पर उल्लेखनीय लेखन, हिन्दी सेवा, पत्रकारिता, शिक्षा एवं समाजसेवा के लिए सुखी परिवार फाउंडेशन के राष्ट्रीय संयोजक, पत्रकार एवं लेखक श्री ललित गर्ग को ‘हिन्दी सेवा सम्मान’ से सम्मानित किया। कांस्टीटूशनल क्लब नई दिल्ली में आयोजित एक भव्य समारोह में पूर्व राज्यसभा सांसद एवं प्रख्यात लेखक श्री तरुण विजय, उत्तरप्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री श्री अतुल गर्ग, भाजपा की शाजिया इल्मी, राष्ट्रीय प्रवक्ता जदयू श्री राजीव रंजन एवं प्रभासाक्षी के प्रमुख संपादक श्री नीरज कुमार दूबे ने श्री गर्ग को प्रशस्ति पत्र, दुपट्टा एवं शील्ड प्रदान कर इनका सम्मान किया। श्री गर्ग पिछले तीन दशक से राष्ट्रीय स्तर पर लेखन और पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय सेवाएं प्रदत्त करते हुए हिन्दी की उल्लेखनीय सेवाएं कर रहे हैं। वे नैतिक मूल्यों के आंदोलन अणुव्रत आंदोलन के साथ सक्रिय रूप से जुड़े रहे हैं। विदित हो वर्तमान में श्री गर्ग सूर्यनगर एज्यूकेशनल सोसायटी (रजि॰) द्वारा संचालित विद्या भारती स्कूल के कार्यकारी अध्यक्ष हैं। विदित हो गर्ग को राष्ट्रीय अणुव्रत लेखक पुरस्कार एवं महाप्रज्ञ प्रतिभा पुरस्कार सहित अनेक पुरस्कारों से भी सम्मानित किया जा चुका है। वे वर्तमान में भारत सरकार के गृह मंत्रालय के अंतर्गत राजभाषा समिति के सदस्य भी हैं। समारोह के मुख्य वक्ता श्री तरुण विजय ने पांचजन्य के समय से श्री गर्ग के निकट संबंध एवं उनके नैतिक एवं स्वस्थ लेखन की प्रतिबद्धता की चर्चा करते हुए कहा कि श्री गर्ग सृजनशील प्रतिभा हैं, उनके लेखन में जीवंतता है और वर्तमान समस्याओं का सजीव चित्रण है। आचार्य तुलसी, आचार्य महाप्रज्ञ एवं आचार्य महाश्रमण के साथ सक्रिय रूप से कार्य करने वाले श्री गर्ग राजधानी की विभिन्न सांस्कृतिक एवं साहित्यिक संस्थाओं के साथ सक्रिय रूप से जुड़े हैं।  प्रभासाक्षी के संपादक श्री नीरज दूबे ने विगत एक दशक से लगातार प्रभासाक्षी में प्रमुखता से स्थान पा रहे श्री ललित गर्ग के बारे में कहा कि वे हमारे देश एवं समाज की एक विशिष्ट प्रतिभा है। साहित्य, पत्रकारिता और सेवा की दृष्टि से इनकी राष्ट्र को विशिष्ट सेवाएं प्राप्त हो रही हैं। उन्होंने श्री गर्ग की उल्लेखनीय हिन्दी सेवाओं की चर्चा करते हुए कहा कि उनका सम्मान हिन्दी को प्रोत्साहन एवं प्रतिष्ठा का सम्मान है।  इस अवसर पर उल्लेखनीय हिन्दी लेखन एवं सेवा के लिए राजस्थान के डाॅ. प्रभातकुमार सिंघल, मध्यप्रदेश के प्रख्यात लेखक एवं पत्रकार श्री सुरेश हिन्दुस्तानी, उत्तरप्रदेश के श्री संजय तिवारी, डाॅ. कृष्ण गोपाल मिश्रा, श्री अरुण खार, श्री राकेश सेन, डाॅ वंदना सेन, श्री रवींद्र राम नारायण, श्री हेमंत तिवारी एवं अखिलेश शर्मा सहित विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं, टीवी चैनल के संपादक, राजनीतिक मीडिया प्रभारी, मीडिया संस्थान के प्रमुखों को भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संयोजन प्रभासाक्षी के संपादक श्री नीरज कुमार दूबे ने किया। इस अवसर पर ‘राष्ट्रभाषा हिन्दी और क्षेत्रीय भाषाओं की बढ़ती भूमिका’ विषय पर वक्ताओं ने विचार व्यक्त करते हुए देश और समाज-निर्माण में पत्रकारों एवं साहित्यकारों की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया एवं डिजिटल मीडिया में हिन्दी की सशक्त प्रस्तुति में प्रभासाक्षी की सेवाओं को उल्लेखनीय बताया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...